संजय राउत ने ट्वीट से किस पर साधा निशाना?

0
37
.

हाइलाइट्स:

  • सुशांत केस को सीबीआई को सौंपने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद महाराष्ट्र सरकार घिरी
  • शिवसेना के राज्यसभा सांसद संजय राउत ने अटपटा ट्वीट किया, राउत का इशारा किस पर है
  • संजय राउत ने शायराना अंदाज में ट्वीट किया है कि हमने बारिशों में भी, जलते हुए मकान देखे हैं

मुंबई
सुशांत केस को सीबीआई को सौंपने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद महाराष्ट्र सरकार चौतरफा घिरी है। इस बीच शिवसेना के राज्यसभा सांसद संजय राउत ने अटपटा ट्वीट किया है। उन्होंने शायराना अंदाज में कहा है कि हमने बारिशों में भी, जलते हुए मकान देखे हैं।

हालांकि यह पता नहीं चल रहा है कि राउत का इशारा किसकी ओर है लेकिन माना जा रहा है कि सुशांत केस की सीबीआई जांच को लेकर ही यह ट्वीट किया गया है। संजय राउत ने ट्वीट है, ‘उनसे कहना कि.. किस्मत पे इतना नाज ना करे.. हमने बारिशों में भी जलते हुए मकान देखे हैं…। जय महाराष्ट्र!’

पढ़ें: सुशांत केस की जांच को CBI को सौंपने पर शरद पवार ने कसा तंज

शरद पवार बोले-दाभोलकर जैसा हाल न हो
संजय राउत से पहले एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने भी सुशांत केस की जांच का जिम्मा सीबीआई को देने पर टिप्पणी की थी। शरद पवार ने कहा कि वह आशा करते हैं कि इस केस का हाल नरेंद्र दाभोलकर हत्या मामले की तरह न हो जाए जिसकी जांच अभी तक पूरी नहीं हो पाई है।

बता दें कि सुशांत केस को लेकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद से ही महाराष्ट्र सरकार घिरी हुई है। इस मामले में एक दिन पहले सांसद संजय राउत ने कहा था कि महाराष्ट्र एक ऐसा राज्य है जहां कानून सबसे ऊपर है।

पढ़ें: सुशांत की मौत का राज खोलने के लिए क्या-क्या करेगी CBI, यहां जानिए सबकुछ

राउत ने सवालों पर साधी चुप्पी
संजय राउत कहा था, ‘सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर राजनीति करना ठीक नहीं है। सर्वोच्च न्यायालय ने इस मामले में अपना फैसला दिया है और पूरी जानकारी जब हमारे पास आएगी तो सरकार की तरफ से प्रवक्ता इस मामले में बात करेगा।’ वह कई सवालों पर चुप्पी साध गए।

जब राउत से पूछा गया से अनिल देशमुख के इस्तीफे की मांग पर सवाल मांगा गया तो उन्होंने कहा कि इस्तीफे की बात करना ठीक नहीं है। इस्तीफे की बात की गई तो यह बात दिल्ली तक जाएगी।

‘सरकार की छवि खराब करने के लिए हुआ राजनीतिकरण’
शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में लिखा है कि अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत मामले का राजनीतिकरण मुंबई पुलिस और महाराष्ट्र सरकार की छवि खराब करने के लिए हुआ है। शिवसेना ने पूछा कि यदि पटना में दर्ज की गई एफआईआर सही थी, तो यदि मामले से संबंधित अन्य पात्र पश्चिम बंगाल में एफआईआर दर्ज करते हैं, तो क्या कोलकाता पुलिस को इसकी जांच करने का अधिकार मिल जाएगा?

क्या है सुप्रीम कोर्ट का फैसला
सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को अपना फैसला सुनाते हुए सुशांत केस की जांच का अधिकार सीबीआई को दिया है। लंबे समय से सुशांत का परिवार और उनके फैंस सीबीआई जांच की मांग कर रहे थे। सुप्रीम कोर्ट ने बिहार में दर्ज एफआईआर को सही ठहराया है। साथ ही मुंबई पुलिस को सीबीआई जांच में सहयोग करने का आदेश दिया है।

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here