सुशांत केस पर शरद पवार ने कसा तंज-दाभोलकर जैसा हाल न हो

0
37
.
मुंबई
सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में बॉलीवुड ऐक्टर सुशांत सिंह राजपूत केस की जांच का सीबीआई को जिम्मा दिया है। इस मामले में महाराष्ट्र सरकार में शामिल एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी है। शरद पवार ने तंज कसते हुए कहा कि उन्हें आशा है कि इस जांच के परिणाम डॉ. नरेंद्र दाभोलकर की हत्या की जांच जैसे न हो जिसका अभी तक कोई हल नहीं निकल पाया है।

शरद पवार ने अपने ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया, सुप्रीम कोर्ट ने सुशांत सिंह राजपूत जांच प्रक्रिया सीबीआई को हस्तांतरित करने का आदेश दिया है। मुझे यकीन है कि महाराष्ट्र सरकार इस निर्णय का सम्मान करेगी और जांच में पूरी तरह से सहयोग करेगी। शरद पवार ने आगे लिखा, मुझे आशा है, इस जांच के परिणाम डॉ. नरेंद्र दाभोलकर की हत्या की जांच जैसे न हो। 2015 में सीबीआई द्वारा शुरू की गई डॉ. नरेंद्र दाभोलकर हत्या की जांच का अभी तक कोई हल नहीं निकल पाया है।

शरद पवार ने यह ट्वीट महाराष्ट्र अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति के संस्थापक कार्याध्यक्ष डॉ. नरेंद्र दाभोलकर की मौत की बरसी पर किया है। आज उनकी मौत को सात साल पूरे हो गए। शरद पवार ने डॉ. नरेंद्र दाभोलकर की हत्या केस को याद करते हुए कहा कि इस जांच का अभी तक कोई हल नहीं निकल पाया है।

बता दें कि महाराष्ट्र के सामाजिक कार्यकर्ता डॉक्टर नरेंद्र दाभोलकर की हत्या 20 अगस्त 2013 को कर दी गई थी। अब तक जांच न पूरी हो पाने पर उनकी बेटी मुक्ता दाभोलकर और बेटे डॉ. हमीद दाभोलकर ने दुख जताया है।

एनसीपी के नेता शरद पवार ने अपने पिछले बयान में कहा था कि यदि इस केस की जांच सीबीआई को सौंपी जाती है तो उन्हें किसी तरह का कोई ऐतराज नहीं है। कांग्रेस ने भी केस की जांच सीबीआई को सौंपे जाने पर किसी तरह का मतभेद नहीं दिखाया।

सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को अपने फैसले में कहा कि सुशांत एक प्रतिभाशाली अभिनेता थे और उनकी मौत का सच सब जानना चाहते हैं। सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा कि सुशांत सिंह राजपूत मामले में मुंबई पुलिस ने सिर्फ ऐक्सिडेंटल डेथ रिपोर्ट दर्ज की थी। इस मामले में मुंबई पुलिस ने एफआईआर दर्ज नहीं की। सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में पटना में दर्ज एफआईआर को बिल्कुल सही माना और केस की जांच को सीबीआई को सौंप दिया।

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here