अगर आप भी हैं क्रिएटिव तो ऐसे बनाएं इंटीरियर डिजाईनिंग में कैरियर

0
46
.

Interior Design Career, Scope, Demand and Opportunities

इंटीरियर डिजाइन इंडस्ट्री पूरी दुनियां में एक आकर्षक करियर के लिए जाना जाता है। क्योकि आज के दौर में फैशन और डिजाईन का महत्त्व बहुत अधिक बढ़ गया है लोगो को आकर्षित करने वाली चीजे उन्हें एकदम से प्रभवित करती है जिसके परिणाम स्वरुप डिजाईन, फैशन, डेकोरेशन आदि, के प्रति लोगों का क्रेज बढ़ता जा रहा है।

इंटीरियर डिजाइनर डेकोरेशन से सम्बंधित सेवाएँ प्रदान करते है जैसे मकान, इमारत, भवन आदि को एक खुबसूरत लुक देना, इंटीरियर डिजाइनर का काम होता है। Interior designers का डिमांड अब केवल बड़े शहरो तक सीमित नही रह गया है बल्कि छोटे शहरो, गावं आदि में भी इंटीरियर डिजाइनर का डिमांड बहुत अधिक हो गया है। हर छोटे -बड़े फंक्शन में इंटीरियर डिजाइनर से डेकोरेशन कराया जा रहा है।

इंटीरियर डिजाईनिंग कोर्स एक बेहतरीन करियर प्रदान करने वाला इंडस्ट्री है जिसमे करियर के बहुत सारे वर्टीकल है। इस इंडस्ट्री में, इंटीरियर डिजाइनिंग एक तेजी से उभरता हुआ करियर विकल्प बनता जा रहा है क्योकि इंटीरियर डिजाइनर का कार्यक्षेत्र बहुत ही बड़ा है। इसलिए इस फिल्ड में करियर ग्रोथ की संभावनाएं तेजी से बढ़ रही है।

केंद्र सराकर का बड़ा फैसला, अब महिला अभ्यर्थियों को मिलेंगी ये बड़ी सुविधाएं

इंटीरियर डिजाइनिंग कोर्स क्या है?

इंटीरियर डिजाईन में डिजाइनर का सबसे पहले काम होता है कि किसी भी इमारत, दुकान,मकान को सुन्दर और आकर्षक रूप दे, इस प्रकिया में होने वाले काम को कैसे मैनेज किया जाए, इंटीरियर डिजाइनिंग कोर्स में इनका विशेष रूप से अध्ययन कराया जाता है।

इंटीरियर डेकोरेशन कोर्स, स्टूडेंट्स में उनके द्वारा चुने गए कोर्स में दक्षता प्रदान करने का काम करता है। कोर्स का डिजाईन ऐसे किया गया होता है कि कोर्स स्टडी के साथ-साथ, कम्युनिकेशन स्किल्स, स्पोकन स्किल, डिजाइनिंग स्किल की भी बेहतर जानकारी प्रदान की जा सके।

इंटीरियर डिजाइन कोर्स 1 वर्ष से लेकर 3 वर्ष तक के होते है। हर इंस्टिट्यूट की अपने- अपने कोर्स सिलेबस होते है लेकिन इंटीरियर डिजाईन के अंतर्गत मुख्य टॉपिक्स निम्न होते है जैसे, डिजाईन स्किल्स, आर्ट एंड ग्राफिक, कंस्ट्रक्शन एंड डिजाईन, कंप्यूटर, कंप्यूटर एंड ग्राफिक डिजाईन, इंटीरियर थ्योरी, आदि।

कोरोना की चपेट में आए केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह, ट्वीट कर दी जानकारी

इंटीरियर डिजाईन के लिए योग्यता

इंटीरियर डिजाईन में एडमिशन लेने के लिए 12वीं पास होना आवश्यक होता है, लेकिन इस कोर्स में यह महत्त्व नही रखता है कि आप किस स्ट्रीम से  12वीं पास किया है। इंटीरियर डिजाइनिंग कोर्स को किसी भी स्ट्रीम से 12वी पास किए हुए स्टूडेंट कर सकता है। 12वी में कम से कम 40%-50% मार्क्स होने चाहिए तब स्टूडेंट्स इस कोर्स के लिए Eligible होते है।

स्टूडेंट्स ग्रेजुएशन के बाद भी इंटीरियर डिजाईन के लिए आवेदन कर सकते है, इस कोर्स में डिप्लोमा और डिग्री दोनों तरह के कोर्स होते है, कैंडिडेट्स अपने इंटरेस्ट के अनुसार अपना कोर्स केटेगरी चुन सकता है। डिप्लोमा कोर्सेज एक वर्ष के तथा डिग्री डिजाइन कोर्स 3 वर्ष के होते है। इंटीरियर डिजाइनिंग कोर्स में एडमिशन प्रोसेस दोनों तरह से अप्लाई होता है। बहुत सारे इंस्टिट्यूट इस कोर्स के लिए एडमिशन, सर्टिफिकेट मार्क्स के आधार पर लेते है और कई Institute प्रवेश एग्जाम के आधार पर एडमिशन लेते है।

स्वच्छता सर्वेक्षण-2020 में सबसे ज्यादा 19 पुरस्कार जीतकर UP ने दिखाया दम | agra – News in Hindi

इंटीरियर डिजाईन कोर्स के लिए स्किल्स

एक बेहतर इंटीरियर डिजाइनर बनने के लिए educational योग्यता के साथ-साथ कुछ अन्य स्किल्स का होना आवश्यक होता है। जैसे बदलते मार्किट की समझ, क्रिएटिव माइंड, मजबूत सोच, ड्राइंग और आर्ट्स स्किल्स, कम्युनिकेशन स्किल्स, और साथ ही इंग्लिश की अच्छी समझ आदि। ये स्किल्स आपको बेहतर इंटीरियर डिजाइनर बनने में बहुत हेल्प करता है। इसीलिए ऐसे स्किल का होना आवश्यक है जो इस कोर्स के माध्यम से डिजाइनिंग के फील्ड में करियर बनाना चाहते है।

इंटीरियर डिजाईन कोर्स फीस

इंटीरियर डिजाईन कोर्स में बहुत सारे वर्टीकल होते है और इंस्टिट्यूट कोर्स वर्टीकल के हिसाब से फीस डिमांड करती है, विभिन्न आर्गेनाइजेशन द्वारा भिन्न-भिन्न इंटीरियर डिजाईन से सम्बंधित कोर्स कराये जाते है। कुछ आर्गेनाइजेशन Distance learning  के भी सुविधा प्रदान करते है। जैसे फाइन आर्ट्स, स्पेशल डिजाइनिंग, इंटीरियर आर्किटेक्चर, आदि।

जाहिर सी बात है, विभिन्न कोर्स के अनुरूप भिन्न-भिन्न फीस होंगे। इसके अलावा कोर्स के  पर भी इसका फीस अलग होता है जैसे डिप्लोमा, सर्टिफिकेशन लेवल पर यानि की 1 वर्ष की कोर्स अवधि के लिए एवरेज इंटीरियर डिजाईन कोर्स फीस 20,000 से 2,00,000 रुपया तक होता है। और वही ग्रेजुएशन डिग्री लेवल पर इस कोर्स का फीस 35,000 से 24,00,000 रुपया के आसपास तक होता है, कोर्स फीस इंस्टिट्यूट के स्ट्रक्चर पर निर्भर करता है कि वह किस तरह के सर्विस प्रदान करते है।

कोविड के खिलाफ धारावी मॉडल हुआ ग्लोबल, क्यों और कैसे अपनाएगा फिलीपीन्स? | mumbai – News in Hindi

इंटीरियर डिजाईन के प्रमुख कोर्स

जैसे की आप उपर पढ़ चुके है कि इंटीरियर डिजाईन के भिन्न -भिन्न वर्टीकल है वैसे ही इस कोर्स के अंतर्गत आने वाले कुछ वर्टीकल्स के बारे में बताया जा रहा है- बैचलर ऑफ इंटीरियर डिजाईन, बैचलर ऑफ आर्किटेक्चर इंटीरियर डिजाईन, बैचलर ऑफ इंटीरियर डिजाईन, बैचलर ऑफ आर्किटेक्चर एंड डिजाईन, बैचलर ऑफ डिजाईन, डिप्लोमा इन इंटीरियर डिजाईन, डिप्लोमा इन इंटीरियर डिजाईन एंड आर्किटेक्चर, सर्टिफिकेट इन इंटीरियर डिजाईन, सर्टिफिकेट इन इंटीरियर डिजाईन एंड डेकोरेशन, फाइन आर्ट्स इन इंटीरियर डिजाईन, 3 डी डिजाईन, क्रिएटिव Technique इन इंटीरियर डिजाईन, इंटीरियर डिजाईन स्किल्स, डिजाईन एंड क्राफ्ट इन इंटीरियर डेकोरेशन, स्पेशल डिजाईन इंटीरियर्स, बैचलर ऑफ साइंस इन इंटीरियर डिजाइन, प्रोफेशन इंटीरियर डिजाईन स्किल्स।

आज से शुरु हो रहा विधानसभा सत्र कई मायनों में ऐतिहासिक होगा: अखिलेश यादव

इंटीरियर डिजाइन में करियर के संभावनाएं

इंटीरियर डिजाइन कोर्स करने के बाद यह आवश्यक नही की आपको केवल घरो को ही सजाने और सवांरने का काम करना है, एक बार अगर आप इंटीरियर डिजाईन कोर्स पूरा लेते है तो आपके सामने करियर बनाने के बहुत सारे आप्शन खुल जाते है। जैसे: शॉपिंग माॅल, हॉस्पिटल, रेस्तरां, होटल, ऑफिस, मल्टीप्लेक्स, आदि अन्य बड़े-बड़े कॉर्पोरेट कंपनी और ऑफिस में काम करने का मौका मिल सकता है।

इनसभी के अलवा आजकल बॉलीवुड तथा टीवी शो इंडस्ट्री में भी इंटीरियर डिजाइनर प्रोफेशन का प्रचालन बहुत हद तक बढ़ चूका है। इस इंडस्ट्री में बेहतर करियर स्थापित किया जा सकता है। प्राइवेट सेक्टर के अलावा गवर्नमेंट सेक्टर में भी करियर बनाया जा सकता है।

यूपी के ODOP प्रोडक्ट को मिला 4 मशहूर फैशन डिजाइनर्स का साथ, जुड़े रितु बेरी, मनीष मल्होत्रा जैसे नाम | lucknow – News in Hindi

इंटीरियर डिजाईन में कुछ लोकप्रिय जॉब्स प्रोफाइल्स 

इंटीरियर डिजाईन के फील्ड में करियर स्कोप का ग्रोथ बहुत ही ज्यादा है इस कोर्स से सबंधित स्टूडेंट्स/कैंडिडेट्स निम्नलिखित जॉब प्रोफाइल्स के साथ काम कर सकते है। लैंडस्केप आर्किटेक्ट, फ्लोरल डिजाइनर, इंडस्ट्रियल डिजाइनर, इंटीरियर डिजाईन फर्म, आर्किटेक्चर एंड डिजाईन फर्म, इंफ्रास्ट्रक्टर एंड प्रॉपर्टी देवेलोपेर्स, फर्नीचर मैन्युफैक्चरिंग एंड डिजाइनिंग फिर्म्स, इंटीरियर डिजाईन शॉप्सवेडिंग डेकोरेटर, असिस्टेंट डिजाइनर, क्राफ्ट एंड फाइन आर्टिस्ट्स।

इंटीरियर डिजाईन के फील्ड में सैलरी

इंटीरियर डिजाइनिंग करियर में विकल्प और ग्रोथ बहुत है, इस फील्ड की सैलरी ज्यादातर कोर्स के फैकल्टी पर निर्भर करता है कि आपने किस फैकल्टी से अपना इंटीरियर डिजाईन कोर्स पूरा किया है इसके अलावा आपके स्किल्स और ग्रेड पर भी निर्भर करता है। एक इंटीरियर डिजाइनर शुरुआत में 14 से 20 हजार रूपये प्रति माह हासिल कर सकते है वही एक्सपीरियंस कैंडिडेट्स 30-50 हजार रूपये प्रति माह या इससे में भी अधिक अर्जित कर सकते है।

UP: इस बार पंडालों में नहीं विराजेंगे भगवान गणेश, मोहर्रम में ताजिया निकालने पर भी रोक | lucknow – News in Hindi

इंटीरियर डिजाइनर कैसे बने?

वैसे स्टूडेंट्स जो डिजाइनिंग के फील्ड में रूचि रखते है, या नई-नई चीजे सोचने समझने, कल्पना करने या फिर किसी स्थान आदि को सजाने का कौशल या शौक रखते है या फिर कुछ क्रिएटिव करने में उनका शौक हो तो वे इंटीरियर डेकोरेशन कोर्स के माध्यम से एक सुनहरे भविष्य का सपना साकार कर सकते है। ज्यादातर स्टूडेंट्स सोचते है कि 12वीं के बाद क्या करे, लेकिन शायद उन्हें यह पता नही होता कि इंटीरियर डिजाईनिंग कोर्स 12वीं के बाद आपकी रूचि के हिसाब से एक अच्छा भविष्य बनाने में मदद करता है। इंटीरियर डिजाइनिंग कोर्स से सम्बंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारियां यहाँ आप विस्तार से पढ़ेंगे। जैसे इंटीरियर डिजाइनिंग कोर्स।

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here