योगिता हत्याकांड : हत्या के आरोपी डॉक्टर विवेक तिवारी को रिमांड पर लेगी आगरा पुलिस | agra – News in Hindi

0
60
.

डॉ. योगिता की फाइल फोटो.

आईजी सतीश गणेश (IG Satish Ganesh) का कहना है कि आरोपी डॉ. विवेक बेहद क्रूर और शातिर है. वह मेडिको लीगल भी करता रहा है और उसने बेहद शातिराना अंदाज में होनहार डॉक्टर योगिता गौतम की हत्या की है.


  • News18Hindi

  • Last Updated:
    August 22, 2020, 12:01 AM IST

आगरा. होम क्वारंटाइन (Home quarantine) में रहने के दौरान आगरा (Agra) आकर जालौन के मेडिकल अफसर डॉ. विवेक तिवारी ने एसएन मेडिकल कॉलेज में तैनात डॉ. योगिता गौतम (Yogita Gautam) का क्रूरता के साथ कत्ल कर दिया था. आरोपी डॉक्टर विवेक तिवारी तक पुलिस मरीज बनकर पहुंची थी, उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. पुलिस ने अब तक हत्या में प्रयुक्त चाकू की बरामदगी की है, लेकिन डॉ. योगिता के सिर और सीने में गोलियां मारी गयी थीं. इसमें एक पिस्टल का इस्तेमाल आरोपी डॉ. विवेक तिवारी ने किया था. आरोपी ने पुलिस को बताया कि पिस्टल आगरा-कानपुर हाइवे पर एक खेत में फेंक दी थी. लेकिन पुलिस अभी तक पिस्टल बरामद नहीं कर सकी है. ऐसे में अब पिस्टल की बरामदगी के लिए पुलिस डॉ. विवेक तिवारी को रिमांड पर लेगी.

डॉक्टर विवेक बेहद क्रूर और शातिर : आईजी

आईजी सतीश गणेश (IG Satish Ganesh) का कहना है कि आरोपी डॉ. विवेक बेहद क्रूर और शातिर है. वह मेडिको लीगल भी करता रहा है और उसने बेहद शातिराना अंदाज में होनहार डॉक्टर योगिता गौतम की हत्या की है. आगरा पुलिस ने दिल्ली के रहनेवाले डॉक्टर योगिता गौतम की हत्या का पर्दाफाश तो कर दिया, लेकिन अभी तमाम सुबूत जुटाने शेष हैं. इसके लिए ही पुलिस कत्ल के आरोपी डॉक्टर विवेक तिवारी को रिमांड पर लेने की तैयारी में है.

शादी करने पर अड़ा था डॉक्टरडॉ विवेक जबरन योगिता से शादी करना चाहता था. गिरफ्तारी के बाद आरोपी डॉ. विवेक ने पुलिस के समक्ष अपना जुर्म कुबूल करने के साथ ही चौंकाने वाले खुलासे किए. पुलिस के अनुसार आरोपी डॉ. विवेक ने स्वीकार किया कि डॉक्टर योगिता की हत्या कार में ही कर दी थी. गला दबाने के बाद सिर और सीने में गोली मारने की बात भी आरोपी ने कुबूली है. आरोपी को कड़ी सुरक्षा के बीच जेल भेज दिया गया. अब पुलिस इस मामले की कई कड़ियां जोड़ने में जुटी है.

न पिस्टल मिली, न डॉ. योगिता का मोबाइल

एसएन मेडिकल कालेज की जूनियर डाक्टर योगिता गौतम की हत्या गोली मारकर की गयी थी. योगिता पर चाकू से भी प्रहार किए गए. डा विवेक तिवारी बार बार पुलिस से यही कहता रहा कि उसने पिस्टल खेत में फेंक दी है लेकिन पिस्टल की बरामदगी नहीं हो सकी. इसके अलावा डा योगिता के मोबाइल फोन की बरामदगी भी नहीं हो पायी है. पुलिस को आशंका है कि योगिता का मोबाइल आरोपित ने कहीं छुपा दिया है या नष्ट कर दिया है.



Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here