Ganesh Chaturthi 2020: Don’t forget to offer these 7 things to Bappa | गणेश चतुर्थी 2020: बप्पा को चढ़ाना ना भूलें ये 7 चीजें, जल्दी होंगे प्रसन्न

0
75
.

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। रिद्धि-सिद्धि के दाता और सब के प्रिय गणपति बप्पा (Ganpati Bappa) साल भर के इंतजार के बाद एक बार घर-घर आएंगे। इस बार गणेश चतुर्थी 22 अगस्त, शनिवार को मनाई जाएगी। गणेश चतुर्थी (Ganesh Chaturthi) को विनायक चतुर्थी के नाम से भी जाना जाता है। माना जाता है कि यदि कोई भक्त श्री गणेश का श्रद्धा और भक्ति के साथ सिर्फ नाम भी ले लेता है तो उसकी मनोकामना अवश्य पूरी होती है। 

भगवान शिव और माता पार्वती के पुत्र श्री गणेश जी की पूजा में कुछ चीजों का विशेष ध्यान रखने से वो शीघ्र ही प्रसन्न होकर आपकी मनोकामनाओं को पूरी करते हैं। जीवन से जुड़ी सभी बाधाओं को दूर करके सुख-समृद्धि का आशीर्वाद देते हैं। आइए जानते हैं इनके बारे में… 

Ganesh Chaturthi 2020: 126 वर्षों बाद गणेश चतुर्थी पर बन रहा है सूर्य मंगल का दुर्लभ योग

1. दूर्वा
गणपति बप्पा दूर्वा चढ़ाने मात्र से ही प्रसन्न हो जाते हैं। श्री गणेश जी को चढ़ाई जाने वाली दूर्वा का सदैव ऊपरी हिस्सा लेना चाहिए। बप्पा को पूजा में दूर्वा की इक्कीस गांठ अर्पित करना अत्यंत शुभ माना गया है।

2. मोदक
यह सभी जानते हैं कि गणपति बप्पा को मोदक बेहद पसंद हैं। इसलिए अन्य मिष्ठान के साथ यदि आप मोदक चढ़ाना ना भूलें। श्री गणेश की पूजा बगैर मोदक के अधूरी मानी जाती है।

3. केला
केला के पत्ते से लेकर फल तक कोई भी पूजा अधूरी मानी जाती है। यदि आप गणपति बप्पा से शीघ्र ही फल प्राप्ति की आशा रखते हैं तो उनकी पूजा में केला अवश्य चढ़ाएं। गणपति बप्पा को फलों में केला अत्यधिक पसंद है।

4. सिंदूर
सिंदूर को शुभ माना गया है, इसके प्रयोग से घर में किसी भी प्रकार की बुरी आत्मा या नकारात्मक ऊर्जा का प्रवेश नहीं होता है। ऐसे में आप पूजा के दौरान श्री गणेश जी की पूजा में सिंदूर जरूर चढ़ाएं।  

भाद्रपद मास 2020: कृष्ण जन्माष्टमी और हरतालिका तीज सहित इस माह में आएंगे ये प्रमुख व्रत और त्यौहार

5. गेंदे के फूल
गणपति बप्पा का वैसे तो कई चीजों से श्रृंगार किया जाता है, लेकिन श्री गणेश जी के श्रृंगार के लिए आप कोई भी फूल का प्रयोग कर सकते हैं। लेकिन पूजा में गेंदे के फूल या इनसे बनी माला अवश्य चढ़ाएं।

6. अक्षत
गणपति पूजन में अक्षत यानी चावल का अत्यंत महत्व है, लेकिन ध्यान रहे कि अक्षत खंडित न हों। गणपति बप्पा को अक्षत चढ़ाने से पहले उसे पानी में जरूर धो लें और उसे ‘इदं अक्षतम् ॐ गं गणपतये नम:’ मंत्र बोलते हुए चढ़ाएं।

7. श्रीफल:
गणेशजी को फलों में श्रीफल बहुत पसंद है, इसलिए गजानन की आराधना में श्रीफल समर्पित किया जाता है।

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here