Key maker opened 14 June secret in sushant rajpoot case| All the people present at Sushant’s house were Relax, | सुशांत के घर पर मौजूद सभी लोग थे रिलैक्स, कमरे में नहीं झांकने दिया ; बताया-क्यों ताला तोड़ने के लिए चार्ज किया 2 हजार रुपए

0
56
.

  • Hindi News
  • Local
  • Maharashtra
  • Key Maker Opened 14 June Secret In Sushant Rajpoot Case| All The People Present At Sushant’s House Were Relax,

मुंबई19 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

सुशांत के घर पहुंचने वाला मोहम्मद रफीक चाबी वाला पहला शख्स था। आज सीबीआई ने उसे पूछताछ के लिए बुलाया था।

  • रफीक सुशांत सिंह राजपूत के घर पर दो बार गए थे, पहली बार ताला तोड़ने और फिर पूछताछ के लिए
  • 14 जून को सुशांत का शव उनके बांद्रा स्थित फ्लैट में से बरामद हुआ था, मुंबई पुलिस इसे आत्महत्या मान रही है

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत की जांच सीबीआई की ओर से जारी है। तकरीबन दो महीने से ज्यादा समय बीत जाने के बाद भी यह स्पष्ट नहीं है कि यह हत्या थी या आत्महत्या। इस बीच सुशांत की मौत के बाद उनके घर पहुंचने वाले मोहम्मद रफीक चाबीवाले का बयान सामने आया है। सुशांत की मौत के बाद उनके घर पहुंचने वाला रफीक ही पहला बाहरी शख्स थे। इस लिहाज से वे इस केस के सबसे महत्वपूर्ण विटनेस हैं। आज सीबीआई ने उन्हें पूछताछ के लिए बुलाया था और सिर्फ फोन नंबर लेकर घर जाने के लिए कहा।

14 जून के दिन क्या-क्या हुआ था?
14 जून की घटना को याद करते हुए रफीक ने बताया कि उनके पास दोपहर करीब 1:05 बजे फोन आया। फोन करने वाले ने बताया कि उनके घर का दरवाजा बंद हो गया है और उन्हें तुरंत आकर लॉक खोलना है। इसपर रफीक ने उनसे पूछा कि लॉक कैसा है, नार्मल या कंप्यूटरीकृत, इसपर फोन करने वाले ने बताया कि यह कंप्यूटराइज्ड लॉक है। आगे रफीक ने कहा कि आज सन्डे का दिन है और उन्हें दूर से आना है इसलिए वे इसे तोड़ने या खोलने के लिए दो हजार रुपए लेंगे। फोन करने वाला तुरंत मान लिया और उन्हें जल्द से जल्द आने को कहा। फोन करने वाले ने उनसे सिर्फ इतना कहा था कि कमरे में कोई सो रहा है और दरवाजा नहीं खुल रहा।

वहां मौजूद किसी भी शख्स के चेहरे पर नहीं था तनाव
रफीक ने आगे बताया कि वे दो बार सुशांत के घर पर गए हैं। पहली बार उन्हें लॉक तोड़ने और दूसरी बार पुलिस ने बयान लेने के लिए बुलाया था। जब वे दूसरी बार पहुंचे तभी उन्हें पता चला कि उन्हें घर पर बुलाने वाले शख्स का नाम सिद्धार्थ पिठानी है। पहली बार वे 1.30 के करीब सुशांत के घर पर पहुंचे और तकरीबन 10 मिनट तक वहां रहे। उन्होंने बताया कि जब वे घर पहुंचे तो घर पर 3-4 लोग मौजूद थे। सभी रिलेक्स थे और किसी के चेहरे पर परेशानी का भाव नजर नहीं आ रहा था।

चाबी बनाने में टाइम लग रहा था इसलिए दरवाजा तोड़ा
रफीक ने पहले सुशांत के कमरे की चाबी बनाने का प्रयास किया, लेकिन उसमें टाइम लग रहा था। इस बीच घर पर मौजूद किसी शख्स ने उनसे ताले को तोड़ने के लिए कहा। इसके बाद तकरीबन दो से 3 मिनट में रफीक ने ताला तोड़ दिया। वह दरवाजा खोलने ही वाले थे कि पीछे से किसी ने उन्हें रोका और अपना टूल लेकर जाने के लिए कहा। इसके बाद सिद्धार्थ ने उन्हें 2 हजार रुपए निकाल कर दिए। काम हो जाने के बाद रफीक ने अपना बैग उठाया और वहां से चले गए।

दूसरी बार बांद्रा वाले घर पर गए तो पता चला की सुशांत की मौत हुई है
रफीक घर पर पहुंचे ही थे कि तकरीबन एक घंटे बाद एक पुलिसवाले का फोन आया और उसने उन्हें फिर से बांद्रा स्थित फ़्लैट पर पूछताछ के लिए बुलाया। इस बार रफीक वहां पहुंचे तो घर के बहार काफी भीड़ जमा थी। किसी तरह वे अन्दर पहुंचे तो उन्हें कमरे में सुशांत की एक बड़ी तस्वीर नजर आई। इसी से उन्हें पता चला कि यह फ़्लैट अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत का है। इसके बाद वे काफी देर तक डुप्लेक्स फ्लैट के निचले हिस्से में खड़े रहे। रफीक ने बताया कि सिद्धार्थ ने उनका नंबर ऑनलाइन लिया था।

सीबीआई को पूरा सहयोग करने के लिए कहा
रफीक ने आगे बताया कि जब उन्हें सुशांत की मौत के बारे में जानकारी मिली तो वे बेहद हैरान हुए। वे सुशांत के फैन रहे हैं और उन्होंने उनकी लगभग सभी फिल्मों को देखा है। रफीक ने आगे बताया कि दूसरी बार जब वे गए तो पुलिस ऊपर वाले कमरे में जांच कर रही थी और नीचे वे खड़े होकर उनका इंतजार कर रहे थे। हालांकि, उनसे पुलिसवालों ने क्या सवाल किए इसपर टिप्पणी करने से उन्होंने इनकार कर दिया। रफीक ने कहा है कि वे चाहते हैं कि इस केस की सच्चाई जल्द से जल्द सामने आए। इसलिए वे सीबीआई को पूरा सहयोग करना चाहते हैं।

0

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here