On the third day of the assembly session, 17 bills laid on the table amid the uproar, the opposition created an uproar as soon as the proceedings started. | विधानसभा सत्र के तीसरे दिन हंगामे के बीच सदन में पेश किए गए 17 विधेयक, कार्यवाही शुरू होते ही विपक्ष ने किया हंगामा

0
94
.

  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • On The Third Day Of The Assembly Session, 17 Bills Laid On The Table Amid The Uproar, The Opposition Created An Uproar As Soon As The Proceedings Started.

लखनऊ35 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

विधानासभा के बाहर सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते कांग्रेस के विधायक। आज सत्र का तीसरा दिन है। कई महत्वपूर्ण विधेयक सदन के पटल पर रखे गए हैं।

  • विपक्ष ने कोरोना संक्रमण और कानून व्यवस्था को लेकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की
  • सदन की कार्यवाही शुरू होते ही कांग्रेस और सपा के सदस्यों ने वेल में आकर किया हंगामा

उत्तर प्रदेश विधानसभा में तीसरे दिन कार्यवाही शुरू हो गई है। सदन में सपा और कांग्रेस के सदस्यों ने खराब क़ानून व्यवस्था पर शोर शराबा, नारेबाजी शुरू कर दी। सपा सदस्य वेल में आ गए। अध्यक्ष ने सदस्यों को सोशल डिस्टेंसिंग की याद दिलाई लेकिन सदस्य हंगामा करते रहे और सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इस बीच हंगामे के बीच सरकार की तरफ से 17 विधेयक सदन के पटल पर रखे गए।

कोरोना संक्रमण, कानून-व्यवस्था व विधायक निधि खत्म किए समेत कई अहम मुद्दों की गूंज सुनाई दी। सुबह 11 बजे सदन की कार्यवाही शुरू होते ही सदस्यों ने नारेबाजी शुरू कर दी। सदस्य विधायक निधि को बहाल करने की मांग कर रहे थे। इस बीच हंगामे को लेकर संसदीय कार्यमंत्री ने कहा कि यूपी में कानून व्यवस्था पूरी तरह से दुरुस्त है। सपा के लोग हमेशा आतंकियों का समर्थन करते रहे हैं।

विधायक चाहते हैं कि यह निधि बहाल हो ताकि जनता की मांग पर स्थानीय जरूरतों वाले विकास के काम कराए जा सकें। कानून-व्यवस्था, बाढ़ की स्थिति, गन्ना किसानों के बकाया, किसानों की बदहाली के अलावा कोरोना संक्रमण से जुड़ी मुश्किलों को लेकर भी नारेबाजी की गई।
लंबे समय बाद शनिवार को बैठक
विधानसभा में लंबे समय बाद शनिवार को बैठक हो रही है। सामान्यत: शनिवार व रविवार को सदन की बैठकें नहीं होती है। सार्वजनिक अवकाश पर बैठके नहीं होती हैं लेकिन अध्यक्ष विशेष परिस्थिति में बैठक बुला सकते हैं। विधानसभा के अध्यक्ष रहे केसरी नाथ त्रिपाठी ने अपने कार्यकाल में कुछ मौकों पर शनिवार को सदन बुलाया था।

इस बीच शुक्रवार को जब विधायक जन्मेजय सिंह के निधन की खबर मिली तो दस बजे अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने कार्यमंत्रणा समिति की बैठक बुलाई। तय हुआ कि शनिवार को सदन बुलाया जाए और शुक्रवार का काम शनिवार को सम्पन्न कराया जाए।

0

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here