Swatantradev Singh declared state executive; Bet on old faces, try to apply caste equations too | स्वतंत्रदेव सिंह ने घोषित की प्रदेश कार्यकारिणी, कई पुराने चेहरों को मिली जगह, जातीय संतुलन साधने की भी कोशिश

0
77
.

लखनऊ5 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह ने प्रदेश कार्यकारिणी की घोषणा कर दी है। इसमें जातीय समीकरण साधने की कवायद की गई है।

  • राजनाथ सिंह के बेटे पंकज सिंह को एक बार फिर मिली कार्यकारिणी में जगह
  • टीम में कई पुराने चेहरों को भी जगह मिली है, लगभग सात महीने बाद हुआ गठन

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह ने आखिरकार लगभग सात महीने के बाद अपनी टीम यानी प्रदेश कार्यकारिणी की घोषणा की है। इस टीम में ज्यादातर पुराने चेहरों पर ही दांव लगाया गया है। एक तरफ जहां रक्षामंत्री राजनाथ सिंह के बेटे और नोएडा से विधायक पंकज सिंह को जगह मिली है वहीं दूसरी और संगठन में जातीय समीकरण को भी साधने की पूरी कोशिश की गई है।

तकरीबन 7 महीने पहले भाजपा प्रदेश अध्यक्ष के तौर पर स्वतंत्र देव सिंह ने संगठन की कमान संभाली थी। तभी से कयास लगाए जा रहे थे कि जल्द ही कार्यकारिणी का गठन होगा। हालांकि नए अध्यक्ष के सामने कार्यकारिणी में किसे जगह दें किसे न दें, इसको लेकर उहापोह की स्थिति बनी हुई थी। अब उन्होंने भाजपा प्रदेश कार्यकारिणी का एलान कर दिया है। जिसमे 16 प्रदेश उपाध्यक्ष, 7 प्रदेश महामंत्री, 16 प्रदेश मंत्री और 2 कोषाध्यक्ष को जगह दी गई है।

7 ब्राह्मणों और 6 ठाकुर चेहरों को टीम में जगह
भाजपा ने 41 सदस्यीय टीम में 7 ब्राह्मणों को जगह दी है। 16 सदस्यीय प्रदेश उपाध्यक्ष की टीम में विजय बहादुर पाठक और ब्रज बहादुर उपाध्याय ब्राह्मण है। जबकि 7 सदस्यीय प्रदेश महामंत्री की टीम में भी 2 ब्राह्मण शामिल है। जिनमें गोविंद नारायण शुक्ल और सुब्रत पाठक शामिल हैं। 16 सदस्यीय प्रदेश मंत्री की टीम में 3 ब्राह्मण शामिल किए गए हैं। जिनमें त्र्यम्बक त्रिपाठी, प्रांशु दत्त द्विवेदी और मीना चौबे शामिल हैं। 41 सदस्यीय टीम में संतुलन बनाने के लिए 6 ठाकुर नेताओं को भी शामिल किया गया है। वहीं आठ दलित एवं 12 पिछड़ी जाति के नेताओं को कार्यकारिणी में जगह दी गई है।

बुंदेलखंड को नहीं मिली तरजीह, वाराणसी से 4 नेता
वहीं अगर कार्यकारिणी का क्षेत्रवार आंकलन करे तो बुंदेलखंड को तरजीह नही दी गई है। 41 सदस्यीय टीम में अशोक जाटव को चित्रकूट से प्रदेश मंत्री बनाया गया है जबकि पूरी टीम में 4 नेता वाराणसी से अलग अलग पदों पर बिठाए गए हैं।

लॉकडाउन में शुरू हुई थी प्रक्रिया
आपको बता दे कि प्रदेश कार्यकारिणी के सदस्यों के चयन की प्रक्रिया लॉक डाउन में शुरू हुई थी। पुराने नेताओं की स्कैनिंग की गई। जो मंत्री या अन्य पदों पर है उनकी कार्यकारिणी से छुट्टी की गई है। साथ ही पिछली कार्यकारिणी में जिन्होंने मेहनत की है उनका प्रमोशन किया गया है।

0

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here