Ayodhya UP Sunni Central Waqf Board Mosque Latest News Updates: Topographic Map Of Mosque Land Starts In Dhannnipur Ayodhya uttar Pradesh | 1400 वर्ग मीटर जमीन पर बनेगी इबादतगाह; इतने ही क्षेत्रफल में थी बाबरी मस्जिद; रहीम-रसखान और कबीर पर रिसर्च सेंटर भी होगा

0
95
.

  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Ayodhya UP Sunni Central Waqf Board Mosque Latest News Updates: Topographic Map Of Mosque Land Starts In Dhannnipur Ayodhya Uttar Pradesh

अयोध्याएक मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

अयोध्या में टोपोग्राफी नक्शे के लिए मस्जिद की जमीन की नपाई करते टैक्निशियन।

  • मस्जिद की जमीन का टोपोग्राफी नक्शा तैयार करने का काम शुरू
  • ड्राफ्टमैन टीम के साथ ट्रस्ट के पदाधिकारी मस्जिद साइट पर पहुंचे
  • टोपोग्राफी नक्शे से आर्किटेक्ट पैनल तैयार करेगा आर्किटेक्ट डिजाइन

अयोध्या के धन्नीपुर गांव में महज 1400 वर्गमीटर क्षेत्र में मस्जिद का निर्माण होगा। इतने क्षेत्रफल में ही बाबरी मस्जिद थी। यहां इबादत के साथ रहीम, रसखान और कबीर जैसी विभूतियों पर शोध के लिए कल्चरल सेंटर भी बनेगा। रिसर्च स्कॉलर्स के लिए रहने और लाइब्रेरी की व्यवस्था रहेगी। रिसर्च सेंटर यूजीसी के मानक पर बनेगा। मस्जिद निर्माण के लिए बनाए गए इंडो इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन के सचिव अतहर हुसैन ने बताया कि यहां सबसे बड़ा प्रोजेक्ट हॉस्पिटल है। उन्होंने बताया कि जल्द फाउंडेशन में अयोध्या का प्रतिनिधित्व भी दिखेगा।

टोपोग्राफी नक्शा तैयार करने के लिए हुई नपाई

दरअसल, सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड को मिली मस्जिद निर्माण की 5 एकड़ जमीन पर कब्जा मिलने के बाद शनिवार को ड्राफ्ट्समैन टीम साइट पर पहुंची। धन्नीपुर गांव में मस्जिद की जमीन का टोपोग्राफी नक्शा तैयार करने के लिए मौके पर नाप-जोख की गई। टीम के सदस्यों ने मस्जिद साइट से करीब 500 मीटर की दूरी पर स्थित सरयू तट का भी निरीक्षण किया। इसके साथ प्रोजेक्ट लाॅन्च करने की तैयारी शुरू हो गई। हुसैन ने बताया कि टोपोग्राफी नक्शा तैयार कर इसे दिल्ली के तीन नामी आर्किटेक्ट के पैनल के पास भेजा जाएगा। जो 5 एकड़ जमीन पर लाॅन्च किए जाने वाले प्रोजेक्ट की आर्किटेक्ट डिजाइन तैयार कर इस पर आने वाले खर्च का एस्टीमेट तैयार करके मस्जिद के ट्रस्ट को सौंपेंगे। उनमें से एक आर्किटेक्ट डिजाइन को मस्जिद ट्रस्ट फाइनल करेगा।

उन्होंने बताया कि हालांकि अभी बैंक खाते का संचालन शुरू नहीं हुआ है और ट्रस्ट के खाते में धनराशि शून्य है। फिर भी लोगों के सहयोग से मस्जिद के प्लान की आर्किटेक्ट डिजाइन तैयार करवाई जा रही है। मस्जिद ट्रस्ट में अभी 9 सदस्य हैं। 6 सदस्यों को और शामिल करना है। इसमें अयोध्या जिले का भी प्रतिनिधित्व रहेगा।

इनका बनेगा आर्किटेक्ट डिजाइन

हुसैन के मुताबिक, 5 एकड़ की जमीन पर बड़ा प्लान हाॅस्पिटल का है। सिर्फ 1400 वर्गमीटर क्षेत्र में मस्जिद बनेगी। इसी आकार में बाबरी मस्जिद खड़ी थी, पर मस्जिद बाबर के नाम से नहीं होगी। मेरी निजी राय तो इसका नाम धन्नीपुर मस्जिद रखने का है। यह मसला ट्रस्ट की बैठक में आमराय से तय होगा। लेकिन सबसे बड़ा प्रोजेक्ट हॉस्पिटल का बनेगा। यहां के लोगों की मांग हाॅस्पिटल की है। इसके अलावा कल्चरल रिसर्च सेंटर और कम्युनिटी किचन का भी प्लान है। इंडो इस्लामिक कल्चर की गंगा जमुनी साझेदारी के विषयों के साथ रहीम, रसखान, कबीर जैसे विभूतियों पर भी शोध के लिए कल्चरल सेंटर बनेगा। इसमें आधा दर्जन शोध स्कॉलर्स के लिए रहने और रिसर्च के लिए लाइब्रेरी की व्यवस्था रहेगी। यह सेंटर यूजीसी के मानक पर बनेगा

इंडो इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन के सदस्यों ने जैन मंदिर को देखा।

इंडो इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन के सदस्यों ने जैन मंदिर को देखा।

मस्जिद ट्रस्ट के सदस्यों ने जैन मंदिर देखा

मस्जिद ट्रस्ट के सचिव अतहर हुसैन और ट्रस्टी इमरान अहमद ने शनिवार को जमीन का टोपोग्राफी नक्शा की नाप जोख करवाई। इसके बाद वहां के रत्नापुरी में स्थित जैन स्वैतांबर मंदिर को भी देखा। मंदिर के पुजारी ने 15वें तीर्थांकर धर्मनाथ से जुड़े इस मंदिर की प्राचीनता की जानकारी दी।

0

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here