CBI conviction rate| CBI Enquiry in Sushant Rajput Case| Latest News Sushant Rajput Case | Sushant Rajpur suicide case news update | पांच में से तीन मामलों में ही सीबीआई जांच सफल रही है; सुशांत की मौत की गुत्थी सुलझाना बड़ी चुनौती

0
48
.

  • Hindi News
  • Db original
  • Explainer
  • CBI Conviction Rate| CBI Enquiry In Sushant Rajput Case| Latest News Sushant Rajput Case | Sushant Rajpur Suicide Case News Update

4 दिन पहलेलेखक: आदित्य सिंह

  • कॉपी लिंक
  • पिछले पांच साल में 2600 मामलों में से, 1600 से 1800 मामलों के तह तक पहुंची सीबीआई
  • मोदी सरकार की तुलना में मनमोहन सिंह की सरकार में बेहतर था सीबीआई का परफॉर्मेंस

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने जांच सीबीआई को सौंप दी है। सबकी नजरें अब सीबीआई की स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (एसआईटी) पर है, जिसने जांच शुरू कर दी है। लेकिन क्या केंद्रीय जांच ब्यूरो यानी सीबीआई से इतनी उम्मीदें लाजमी हैं।

आंकड़े कहते हैं कि सीबीआई अब तक सुसाइड केस में किसी को भी सजा दिलाने में नाकाम ही रही है। ऐसे में सुशांत केस में भी सीबीआई के सामने यह साबित करना बड़ी चुनौती होगी कि रिया चक्रवर्ती और उसके परिवार वालों ने एक्टर को सुसाइड करने के लिए उकसाया।

67% के आसपास ही रहा है कन्विक्शन रेट

जब बात सीबीआई के कन्विक्शन रेट की आती है तो पिछले चार साल में यह पांच में से तीन मामलों में ही किसी नतीजे तक पहुंच सकी है। 2016 में कन्विक्शन रेट 67% था, जो पिछले साल बढ़कर 69% तक पहुंच गया। महत्वपूर्ण बात यह है कि 2016 में सबसे कम 131 केस दर्ज हुए थे, जबकि 2017 में सबसे ज्यादा 926 केस। इस साल अब तक 300 केस सीबीआई दर्ज कर चुकी है।

मनमोहन सरकार में सीबीआई का कन्विक्शन रेट ज्यादा था

सीबीआई पर सरकारों का दबाव होने की बात नई नहीं है। सुप्रीम कोर्ट खुद इसकी तुलना पिंजरे में बंद तोते से कर चुका है। ऐसे में जब आप मोदी सरकार और मनमोहन सिंह सरकार के कार्यकाल में सीबीआई का कन्विक्शन रेट देखते हैं तो अंतर साफ दिखाई देता है।

सुसाइड के चर्चित केस, जिसमें सीबीआई नहीं दे सका कोई नतीजा

जिया खान: ब्रिटिश-इंडियन एक्ट्रेस जिया खान को हम अमिताभ बच्चन की फिल्म निशब्द के लिए जानते हैं। 3 जून 2013 को उन्होंने जुहू स्थित घर के बेडरूम में सीलिंग फैन से फांसी लगा ली थी। इस मामले में भी मुंबई पुलिस पर जांच को भटकाने का आरोप लगा। उसकी मां राबिया खान का आरोप है कि जिया की हत्या हुई है। आखिर 2016 में जांच सीबीआई के हाथ में आई, लेकिन अब तक जांच किसी ठोस नतीजे तक नहीं पहुंच सकी है।

फातिमा लतीफ: फातिमा लतीफ आईआईटी मद्रास की 19 साल की स्टूडेंट थी जिसने पिछले साल कथित तौर पर सुसाइड कर लिया था। मद्रास हाईकोर्ट के आदेश पर जांच सीबीआई को मिली थी। लेकिन अब तक जांच चल ही रही है। फातिमा के परिवार का आरोप है कि आईआईटी फेकल्टी मेंबर उसे मानसिक रूप से प्रताड़ित कर रहे थे।

परवीन बाबी: बॉलीवुड की मशहूर एक्ट्रेस परवीन बाबी ने 2005 में कथित तौर पर आत्महत्या कर ली थी। इस मामले में भी सीबीआई ने जांच की, लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला।

0

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here