ISIS Terrorist Abu Yusuf Balrampur (Up) Latest News Updates: Abu Yusuf Technically Proficient After Traveling To Gulf Countries, Telegram Used To Connect With ISIS Handlers | टेलीग्राम ऐप से आईएस के हैंडलर्स से जुड़ता था अबु यूसुफ; पत्नी बोली- दो साल से इकट्ठा कर रहे थे बारूद, ट्रेनिंग कहां मिली नहीं मालूम

0
105
.

  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • ISIS Terrorist Abu Yusuf Balrampur (Up) Latest News Updates: Abu Yusuf Technically Proficient After Traveling To Gulf Countries, Telegram Used To Connect With ISIS Handlers

बलरामपुर16 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

दिल्ली में गिरफ्तार आईएस का आतंकी अबु यूसुफ।

  • शनिवार रात दिल्ली पुलिस ने उसके बलरामपुर स्थित घर से बरामद किया मानव बम जैकेट समेत 19 आपत्तिजनक सामान
  • पुलिस की स्पेशल सेल ने आतंकी को दिल्ली में एनकाउंटर के बाद गिरफ्तार किया था

दिल्ली से गिरफ्तार इस्लामिक स्टेट (आईएसआईएस) के आतंकी अबू यूसुफ उर्फ मुस्तकीम महज 9वीं तक पढ़ा है। लेकिन दुबई और हैदराबाद की यात्रा करने के बाद वह तकनीकी रुप से दक्ष हो गया था। वह टेलीग्राम ऐप के जरिए आईएस के हैंडलर्स से जुड़ा था और फिदायीन बनना सीख रहा था। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल अबु यूसुफ को लेकर बलरामपुर (उत्तर प्रदेश) में उतरौला स्थित मोकामा बढ़िया भैसाही गांव में उसके घर पहुंची थी। जहां से तीन किलो विस्फोटक, दो मानव बम जैकेट, एक लेदर बेल्ट, बाल बेयरिंग समेत 19 सामान बरामद हुए हैं। पत्नी आयशा ने कहा- अबु दो साल से बारूद व अन्य सामान इकट्ठा कर रहे थे।

सर्चिंग करती पुलिस टीम।

सर्चिंग करती पुलिस टीम।

गांव के कब्रिस्तान में दो बार कर चुका था बम का परीक्षण

पूछताछ में पता चला है कि अबु यूसुफ ने दो बार विस्फोटकों का गांव के कब्रिस्तान में परीक्षण भी कर चुका था। वह मानव बम बनने की तैयारी कर चुका था। इशारा मिलते ही वह भारत को दहलाने की साजिश रच रहा था। पुलिस को उसके घर से पत्नी व चार बच्चों के पासपोर्ट भी बरामद हुए हैं।

छर्रे व अन्य विस्फोटक।

छर्रे व अन्य विस्फोटक।

2005 में पहली बार दुबई गया था अबु यूसुफ

परिवार के अनुसार, अबू यूसुफ पीओपी का काम करता था। 2005 में 6 महीने के लिए दुबई टूरिस्ट वीजा पर गया था। दुबई से लौटकर उसने कुछ समय हैदराबाद में बिताया। इसके बाद 2006 से 2011 तक सऊदी अरब में रहा और 2011 में आयशा से अबू यूसुफ का निकाह हुआ था। 2015 में 15 दिन के लिए खाड़ी देश कतर में काम किया। कतर से लौटकर सीधे उत्तराखंड गया था। लेकिन यहां वह एक हादसे का शिकार हुआ, जिसमें उसकी रीढ़ की हड्डी में चोट लगी थी। इसके बाद वह अपने गांव लौट आया। यहां उसने उतरौला में कॉस्मेटिक्स की दुकान खोली थी। लेकिन दुकान पर बहुत कम बैठता था। पिता व अन्य दुकान संभालते थे। उसका ज्यादातर समय यूट्यूब पर तकरीरें सुनने में बीतता था।

बरामद विस्फोटक।

बरामद विस्फोटक।

पत्नी बोली- मैंने कई बार समझाया, बच्चे हो जाएंगे बर्बाद

आतंकी की पत्नी आयशा ने बताया कि अबु यूसुफ दो साल से थोड़ा-थोड़ा समान (बारूद) लाते थे और एक खाली बक्से में रखते थे। यह नहीं जानती कि इसकी ट्रेनिंग कैसे मिली? उनको बाबरी मस्जिद से कोई लगाव नहीं था। मेरे पति टेलीग्राम के माध्यम से कुछ लोगों से जुड़े थे। कल पुलिस को घर से दो जैकेट, बारूद, छर्रा और बोतलों में कुछ मिला है। मैंने कई बार समझाया था कि ये सब छोड़ दो। समझाया था कि हमारे बच्चे बर्बाद हो जाएंगे। उन्होंने अपनी गलती कबूल कर ली है, उन्हें माफ कर दिया जाए। वो शुक्रवार को घर से लखनऊ जाने को निकले थे, घर से प्रेशर कुकर ले गए थे।

आतंकी के घर से बरामद आईएस का झंडा।

आतंकी के घर से बरामद आईएस का झंडा।

0

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here