बारिश के मौसम धूप होती है कम, ऐसे में विटामिन-डी की पूर्ति के लिए करें ये काम | health – News in Hindi

0
37
.

बारिश के मौसम में विटामिन डी की कमी को पूरा करने के लिए डाइट में इन चीजों को करें शामिल.

आदमी को रोजाना 15 से 20 मिनट धूप लेना (Sunbathing) चाहिए इससे शरीर में विटामिन डी (vitamin-D) की कमी दूर होती है. बारिश (Rain) के मौसम में धूप निकलती ऐसे में विटामिन डी की पूर्ति कैसे की जाए इसके बारे में हम आपको बता रहे हैं.




  • Last Updated:
    August 25, 2020, 1:15 PM IST

शरीर (Body) को कई तरह के विटामिन्स की जरूरत होती है. जैसे- विटामिन ए, बी, सी, डी. इन विटामिन्स से शरीर का विकास होता है. यदि विटामिन डी की बात की जाए तो इसकी पूर्ति हमारे शरीर में धूप से होती है क्योंकि धूप की किरणों से शरीर विटामिन डी का निर्माण करता है. myUpchar से जुड़े डॉ. अनुराग शाही बताते हैं कि रोजाना 15 से 20 मिनट धूप लेकर विटामिन डी की कमी को दूर किया जा सकता है. विटामिन डी से हड्डियों से संबंधित कई तरह की समस्याएं दूर होती हैं, लेकिन बारिश के मौसम में धूप निकलना बेहद मुश्किल होता है, ऐसे में विटामिन डी की पूर्ति कैसे की जाए, यह एक चिंता का विषय हो सकता है. ऐसे में विटामिन डी की पूर्ति के लिए इन विकल्पों पर भी विचार किया जा सकता है…

मशरूम का करें सेवन
मशरूम में विटामिन डी काफी मात्रा में पायी जाती है. धूप में उगाए जाने वाले मशरूम में विटामिन डी भरपूर होता है. ज्यादातर लोग ऑयस्टर और बटन मशरूम खाना पसंद करते हैं.

रोज पीएं गाय का दूधmyUpchar से जुड़े डॉ. लक्ष्मीदत्ता शुक्ला के अनुसार, गाय के दूध में भी विटामिन डी होता है. गाय के दूध के नियमित सेवन से विटामिन डी की कमी नहीं होती है और जिन्हें हड्डियों से संबंधित परेशानी हो तो वह ठीक हो जाती है. वहीं गाय के दूध में फैट भी काफी कम होता है, जो दिल के रोगियों के लिए फायदेमंद होता है.

अंडा भी विटामिन डी का प्रमुख स्रोत
अंडे में प्रोटीन के साथ-साथ विटामिन डी भी पाया जाता है. अंडे के ऊपरी सफेद हिस्से में विटामिन डी भरपूर होता है. कमजोर हड्डियों से ग्रसित लोगों को अंडे का सेवन करना चाहिए.

संतरे का जूस
संतरे के जूस में भी विटामिन डी और सी दोनों ही भरपूर होता है. संतरे के सेवन से प्रतिरोधक क्षमता भी मजबूत होती है. बारिश में मौसम में संतरा या मौसंबी का सेवन करना ज्यादा फायदेमंद होता है. हालांकि, कई इलाकों में यह आसानी से उपलब्ध नहीं हो पाती है.

अंकुरित अनाज भी खाएं
साबुत अनाज में भी काफी मात्रा में विटामिन डी पाया जाता है.नाश्ते में साबुत अनाज को भाप में पकाकर खाने से विटामिन डी की पूर्ति होती है. इससे शरीर को प्रोटीन भी काफी मात्रा में मिलता है. अंकुरित अनाज भी कम से कम दो या तीन दिन बाद खाना ज्यादा फायदा पहुंचाता है. अक्सर हम देखते हैं कि लोग रात में अनाज को अंकुरण से लिए रख देते हैं और सुबह खा लेते हैं. ऐसे में न तो अंकुरण सही तरीके से हो पाता है और न ही ज्यादा पोषक तत्व रहते हैं.

सोया मिल्क भी बेहतर विकल्प
सोया मिल्क भी गाय के दूध की तरह होता है. सोया मिल्क को सोयाबीन से तैयार किया जाता है. एक कप सोया मिल्क में 39 प्रतिशत विटामिन डी होता है. इसके अतिरिक्त सोया मिल्क प्रोटीन और कैल्शियम से भी भरपूर होता है. डॉक्टर भी कमजोर हड्डियों से ग्रसित रोगियों को सोया मिल्क पीने की सलाह देते हैं.

अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, विटामिन डी के स्रोत, फायदे और नुकसान पढ़ें।

न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।



Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here