महाराष्ट्र कांग्रेस: महाराष्ट्र कांग्रेस सोनिया और राहुल के साथ – maharashtra congress with sonia and rahul

0
51
.
मुंबई
कांग्रेस में राष्ट्रीय स्तर पर चल रहे घटनाक्रम को लेकर महाराष्ट्र कांग्रेस ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी के नेतृत्व में अपना विश्वास व्यक्त किया है। महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस ने प्रस्ताव पारित कर सोनिया गांधी और राहुल गांधी से पार्टी का नेतृत्व करने की गुजारिश की है। यह प्रस्ताव प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बालासाहेब थोरात ने रखा और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री तथा वर्तमान पीडब्ल्यूडी मंत्री अशोक चव्हाण ने इस प्रस्ताव का अनुमोदन किया।

वहीं दूसरी ओर महाराष्ट्र कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष और महिला और बाल विकास मंत्री यशोमति ठाकुर ने कहा कि गांधी परिवार सिर्फ परिवार नहीं है वह भारत का डीएनए हैं।

राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण ने कहा कि देश और पार्टी के लिए गांधी परिवार की योगदान को भुलाया नहीं जा सकता। सोनिया गांधी के नेतृत्व में यूपीए एक और यूपीए-2 की सरकारों ने देश की समृद्धि और विकास के लिए बेहतरीन काम किया है। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी इस समय एकमात्र ऐसे नेता हैं जो पूरी ताकत से देश की आम जनता के हित में सरकारी दमन से बिना डरे अपनी बात कह रहे हैं। राज्य के मदद और पुनर्वास मंत्री विजय वडेट्टीवार ने कहा कि कांग्रेस का नेतृत्व सोनिया गांधी और राहुल गांधी को ही करना चाहिए। उनके नेतृत्व में पार्टी एक बार फिर पुराने वैभव को प्राप्त करेगी।

महाराष्ट्र कांग्रेस के नेताओं ने एक स्वर में राहुल गांधी से कांग्रेस का अध्यक्ष पद स्वीकार करने की भी अपील की है। कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिख नए पूर्णकालिक अध्यक्ष की चुनाव की मांग करने वाले 23 नेताओं में शामिल महाराष्ट्र के तीन नेताओं पृथ्वीराज चव्हाण, मिलिंद देवड़ा और मुकुल वासनिक के खिलाफ राज्य के कांग्रेसी नेताओं में काफी नाराजगी है। महाविकास आघाडी सरकार में कांग्रेस के मंत्री सुनील केदार ने तो इन नेताओं को सोनिया गांधी से माफी मांगने को कहा है और चेतावनी दी है कि कांग्रेसी कार्यकर्ता उन्हें राज्य में घूमने नहीं देंगे।

सोनिया गांधी ने बुरे वक्त में पार्टी को संभाला है। राहुल गांधी लगातार इस संक्रमण काल में भी पार्टी के लिए संघर्ष कर रहे हैं। कांग्रेस पार्टी को आज वास्तव में सोनिया गांधी और राहुल गांधी के दूरदर्शी नेतृत्व की जरूरत है। उन्होंने कहा कि सोनिया गांधी को पार्टी का नेतृत्व संभालना चाहिए और यदि खराब सेहत की वजह से वह नेतृत्व की जिम्मेदारी नहीं संभालती तो राहुल गांधी को पार्टी की कमान अपने हाथ में लेना चाहिए।

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here