वजन कम करने का असरदार तरीका है इंटरमिटेंट फास्टिंग, जानें इसके फायदे | health – News in Hindi

0
30
.
सदियों से आज तक व्रत (Fast) करना इंडियन कल्चर का हिस्सा रहा है. वहीं इंटरमिटेंट फास्टिंग (Intermittent Fasting) या रुक-रुक कर व्रत करना अब वजन कम (Weight Lose) करने का ट्रेंड बनता जा रहा है. इंटरमिटेंट फास्टिंग वजन कम करने और फिटनेस (Fitness) बनाने के एक बेहतरीन तरीका है. इसमें खाने के पैटर्न का शरीर (Body) पर व्यापक प्रभाव पड़ता है. इसके प्रभाव को दो तरह से समझा जा सकता है. इसमें पहला चरण उपवास चरण और दूसरा खाने का चरण शामिल है. उपवास के चरण के दौरान, आपको सादे पानी के अलावा कुछ भी खाना-पीना नहीं चाहिए. खाने के चरण में खाने में स्वस्थ खाद्य पदार्थों को शामिल करना चाहिए. इंटरमिटेंट फास्टिंग में आप क्या खाते हैं इस पर खास ध्यान देने की जरूरत होती है. खाने के चरण के दौरान जंक फूड खाने से आपको बचना चाहिए.

इंटरमिटेंट फास्टिंग में इन स्वस्थ खाद्य पदार्थों को खाएं
एनडीटीवी की खबर के अनुसार इंटरमिटेंट फास्टिंग के दौरान आप खुद को भूखा ना रखें. लाइफस्टाइल कोच ल्यूक कॉटिन्हो के अनुसार, अगर आपका शरीर भोजन के लिए तड़प रहा हो तो आप उपवास तोड़ सकते हैं. उपवास को आप हमारे द्वारा बताए जा रहे खाने के पैटर्न के साथ शुरू करते हैं. उपवास आपको तब तक रखना चाहिए जब तक यह आपके शरीर को सूट करे. शुरुआत में इंटरमिटेंट फास्टिंग का चरण 8, 10 या 12 घंटे का हो सकता है. एक बार जब आप खाने के पैटर्न में ढल जाते हैं तो उपवास के चरण को बढ़ा सकते हैं.

कोरोना काल में समझ लें सूखी खांसी और गीली खांसी के बीच अंतर, डर होगा दूरइंटरमिटेंट फास्टिंग के दौरान इन बात का रखें ध्यान

1. खाने के चरण के दौरान आपके आहार में ज्यादातर घर का पकाया हुआ शुद्ध भोजन होना चाहिए.
2. ताजे फल और सब्जियां, साबुत अनाज, नट और बीज, दाल और फलियां, और स्वस्थ वसा, प्रोटीन, कार्ब्स और फाइबर के स्रोत आपके आहार में होने जरूरी हैं.
3. इंटरमिटेंट फास्टिंग के दौरान खुद को भूखा न रखें. भूख लगने पर पौष्टिक भोजन खाएं. भले ही इसके लिए आपको उपवास तोड़ना पड़े.
4. घी-भुने मखानों, भुने हुए काले चनों, नट्स और सीड्स ट्रेल मिल्क, मौसमी फल और सब्जियों के साथ एक कटोरी दही अपने रोज के खाने में शामिल करें.

इन सभी चीजों के अवाला आपको नियमित रूप से व्यायाम करना चाहिये. व्यायाम करने से आप अधिक मजबूत और अधिक चुस्त बनेंगे. यह कमर दर्द, घुटनों के दर्द और गर्दन के दर्द को दूर रखेगा और आपको वजन कम करने में भी मदद करेगा. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)



Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here