Ballia Ranjit Singh murder case CM Yogi gave financial assistance of one million rupees to the family of the deceased; 3 arrested in the case, the main therapy still away from hold | मुख्यमंत्री योगी ने परिवार को 10 लाख रुपए की आर्थिक सहायता दी; मामले में 3 गिरफ्तार, मुख्य आरोपी समेत 7 की तलाश

0
73
.

  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Ballia Ranjit Singh Murder Case CM Yogi Gave Financial Assistance Of One Million Rupees To The Family Of The Deceased; 3 Arrested In The Case, The Main Therapy Still Away From Hold

बलिया5 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

बलिया में पत्रकार रतन सिंह दिनभर जिला मुख्यालय पर रहे। इसके बाद शाम को गांव पहुंचे थे।- फाइल फोटो

  • पत्रकार हत्याकांड मामले में फेफना के एसओ को सस्पेंड किया गया
  • सोमवार देर शाम पत्रकार रतन सिंह की गोली मारकर हत्या की गई थी

उत्तर प्रदेश के बलिया में सोमवार देर शाम एक टीवी न्यूज चैनल के पत्रकार रतन सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई। बलिया के फेफना थाना से करीब 500 मीटर दूर पर कुछ बदमाशों ने इस वारदात को अंजाम दिया। रतन ने हमलावरों से बचने के लिए भागने की कोशिश की लेकिन उन्होंने दौड़ाकर गोली मार दी और भाग निकले। मामले में पुलिस ने अब तक तीन मुख्य आरोपियों को गिरफ्तार किया है। जबकि कई अन्य की तलाश की जा रही है। वहीं, फेफना थाने के एसओ को सस्पेंड कर दिया गया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी पत्रकार के परिजन को 10 लाख रुपए की आर्थिक सहायता देने का ऐलान किया।

आजमगढ़ के डीआईजी सुभाष चंद्र दुबे ने बताया कि मामले में 10 आरोपी हैं। इनमें तीन की गिरफ्तारी हो चुकी है। मुख्य आरोपी समेत सात फरार हैं। उन्होंने बताया कि इस घटना में पत्रकारिता से संबंधित कोई बात शामिल नहीं है। यह पूरी तरह से दो पक्षों के बीच जमीन विवाद के बारे में है।

फेफना थाने का एसओ सस्पेंड
वारदात के बाद लोगों ने फेफना-रसड़ा मार्ग को जाम कर दिया। लोग आरोपियों की गिरफ्तारी और एसओ फेफना शशिमौली पांडेय को बर्खास्त करने की मांग करने लगे। परिजन ने फेफना पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाया। एसपी ने एसओ फेफना शशिमौली पांडेय को सस्पेंड करने और जांच के बाद अन्य पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई का भरोसा देकर जाम खत्म करवाया था।

यह है मामला
रतन सिंह सोमवार को पूरे दिन जिला मुख्यालय बलिया में रहने के बाद शाम को गांव चले गए। यहां गांव में ही किसी के यहां बैठने के बाद पैदल घर जा रहे थे, तभी घर कुछ लोगों ने उन पर फायरिंग कर दी। ग्रामीणों के अनुसार, जान बचाने के लिए रतन ग्राम प्रधान में घर में घुस गए लेकिन हमलावरों ने पीछा नहीं छोड़ा और एक-एक कर तीन गोलियां दाग दीं। इससे रतन की घटनास्थल पर ही मौत हो गई।

बताया जाता है कि कुछ दिन पहले रतन का उनके पट्टीदारों से किसी बात को लेकर विवाद हुआ था। तब उन्होंने जान से मार देने की धमकी भी दी थी। हालांकि परिवार वालों की ओर से अब तक कोई तहरीर नहीं दी गई।

0

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here