Dom Raja Death News Update | Dom Raja Passes Away Today In Uttar Pradesh Varanasi | पीएम मोदी के प्रस्तावक रहे काशी के डोम राजा का निधन, घाटों पर रहने वाले डोम परिवारों के लिए हमेशा फिक्रमंद रहे

0
60
.

वाराणसी3 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

लोकसभा चुनाव में पीएम मोदी के प्रस्तावक रहे डोम राजा का आज सुबह बनारस के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। – फाइल फोटो

  • डोम राजा के निधन की सूचना मिलते ही भैरवी घाट स्थित निवास पर लगी भीड़
  • मणिकर्णिका और हरिशचंद्र घाट पर अंतिम सस्कार का जिम्मा उन्हीं के पास था

उत्तर प्रदेश में वाराणसी के डोम राजा जगदीश चौधरी का मंगलवार की सुबह निधन हो गया। वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकसभा उम्मीदवारी के प्रस्तावक भी बने। वाराणसी से दूसरी बार नामांकन भरने वाले मोदी के प्रस्तावकों में डोम राजा जगदीश चौधरी भी शामिल थे। वाराणसी के निजी अस्पताल में उन्होंने अंतिम सांस ली। जांघ में घाव के कारण कई महीनों से उनका इलाज चल रहा था।

निधन की खबर मिलते ही उनके त्रिपुरा भैरवी घाट स्थित निवास पर लोगों की भीड़ जुट गई। लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जगदीश चौधरी को अपना प्रस्तावक चुना था। वाराणसी में अंतिम संस्कार मणिकर्णिका और हरिश्चंद्र घाट पर होता है। दोनों घाटों पर अंतिम संस्कार की जिम्मेदारी डोम समाज के पास है। काशी में इस प्रमुख जिम्मेदारी को निभाने के कारण इन्हें डोम राजा कहा जाता है।

डोम राजा ने कहा था- नेता वोट मांगने आते हैं लेकिन बाद में सुध नहीं लेते

तब डोम राजा ने कहा था कि ‘पहली बार किसी राजनीतिक दल ने हमें यह पहचान दी है और वह भी खुद प्रधानमंत्री ने। हम बरसों से लानत झेलते आए हैं। हालात पहले से सुधरे जरूर हैं, लेकिन समाज में हमें पहचान नहीं मिली है और प्रधानमंत्री चाहेंगे तो हमारी दशा जरूर बेहतर होगी।’ उन्होंने यह भी कहा था कि, ‘नेता वोट मांगने आते हैं लेकिन बाद में कोई सुध नहीं लेता।’ डोम बिरादरी का इतिहास काफी पुराना है।

घाटों पर अंतिम संस्कार करने वाले डोम परिवार के लिए हमेशा चिंतित रहे

उन्होंने यह भी बताया था कि काशी में हरिश्चंद्र और मणिकर्णिका घाट में करीब 500 से 600 डोम रहते हैं जबकि उनकी बिरादरी में पांच हजार से ज्यादा लोग हैं। दो घाट पर सभी डोम की बारी लगती है और कभी दस दिन या बीस दिन में बारी आती है। बाकी दिन बेगारी। कोई स्थायी नौकरी नहीं है और कमाई भी इतनी नहीं कि बच्चों को अच्छी जिंदगी दे सकें।

उन्होंने पीएम मोदी का प्रस्तावक बनने पर गर्व जताते हुए कहा था कि ‘यह पूरी बिरादरी के लिए गर्व की बात है कि मैं प्रधानमंत्री का प्रस्तावक बन सका। हम समाज में पहचान पाने को तरस गए हैं। उम्मीद है कि नरेंद्र मोदी जीतने के बाद हमारी पीड़ा समझेंगे और हमें वह दर्जा समाज में दिलाएंगे जिसकी शुरुआत आज हुई है।’

0

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here