Till date, more than 70 thousand prisoners have had Kovid test, in which 1690 prisoners and 59 prison staff have been infected, all are healthy | अब तक 70 हजार से अधिक कैदियों का हुआ कोविड टेस्ट; जिनमें 1690 बन्दी तथा 59 जेल स्टाफ संक्रमित हुए थे, इलाज के बाद सभी हुए स्वस्थ

0
96
.

  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Till Date, More Than 70 Thousand Prisoners Have Had Kovid Test, In Which 1690 Prisoners And 59 Prison Staff Have Been Infected, All Are Healthy

लखनऊ36 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

यूपी की जेलों में बंद अब तक 70 हजार कैदिोयों का कोरोना टेस्ट कराया जा चुका है। जेलों को कोरोना से मुक्त कराने के लिए प्रभावी कारगर कदम उठाए जा रहे हैं। – प्रतिकात्मक फोटो

  • कैदियों की इम्युनिटी बढ़ाने तथा उन्हें स्वस्थ रखने के लिए जेलों में प्रातः योगा कार्यक्रम संचालित
  • प्रदेश की जेलों में लगभग 30 लाख मास्क तथा 2400 पीपीई किट का निर्माण किया गया

उत्तर प्रदेश की जेलों को कोरोना के संक्रमण से बचाने के लिए लगातार प्रयास किये जा रहे हैं। जेलों सजायाफ्ता कैदियों कोरोना से बचाव के लिए अब तक 70 हजार से अधिक टेस्ट कराये जा चुके हैं, जिनमें से 1690 बन्दी तथा 59 जेल स्टाफ संक्रमित पाया गया है। डीजी जेल आनंद कुमार ने बताया कि, शत-प्रतिशत बन्दी स्वस्थ हो रहे हैं। सतर्कता के कारण प्रदेश के कारागारों में निरूद्ध बन्दियों में कोरोना संक्रमण को कम किया जा सका है।

जेल में कोरोना न पहुंचे इसके लिए प्रदेश में 83 अस्थायी जेल बनाई गई: डीजी जेल ने बताया कि जेलों को कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए किये गये उपायोें के तहत 64 जिलों में अब तक कुल 83 अस्थायी जेलों का निर्माण किया जा चुका है। नये आने वाले बन्दियों को सर्वप्रथम इन अस्थायी जेलों में रखा जा रहा है तथा कोविड टेस्ट कराने पर निगेटिव रिपोर्ट पाये जाने के पश्चात ही इन बन्दियों को स्थायी जेलों में निरूद्ध किया जा रहा है।

बंदियों को स्थायी कारागार में 14 के लिए क्वारैंटाइन किया जाता है

पुलिस महानिदेशक एवं महानिरीक्षक कारागार आनन्द कुमार ने इस संबंध में की गई कार्यवाही का विस्तृत ब्यौरा देते हुए बताया है कि जेलों में बैनर, पोस्टर एवं पब्लिक ऐड्रेस सिस्टम द्वारा बन्दियों को कोरोना से बचाव के प्रति जागरूक किया गया। उन्होनें बताया कि नये बन्दियों के टेस्ट में पाॅजिटिव पाए जाने पर उन्हें विभिन्न कोविड अस्पतालों में भर्ती कराया जाता है। उनके निगेटिव पाये जाने पर भी सतर्कता बरतते हुये इन बन्दियों को स्थायी कारागार में भी 14 दिन तक क्वाॅरेंटाइन में रखने की व्यवस्था की गई है।

कारागार में आगन्तुकों तथा बन्दियों के परिजनो से संक्रमण की सम्भावना को समाप्त करने की दृष्टि से कारागारों में उनका प्रवेश पूर्ण रूप से निषेध कर दिया गया है तथा बन्दियों की परिजनों से होने वाली प्रत्यक्ष मुलाकात को रोक दिया गया है। कारागारों में स्थापित पीसीओ के माध्यम से मुलाकात के स्थान पर अब बन्दियों की फोन से उनके परिजनों की वार्ता कराई जा रही है।

कैदियों को धर्म और अध्यात्म से जुड़े कार्यक्रम दिखाए जाते हैं

कोरोना काल में मुलाकात बन्द होने के कारण बन्दियों में अवसाद की स्थिति उत्पन्न न हो इस हेतु जेल रेडियों तथा जेलों में लगे टेलीविजन के माध्यम से बन्दियों को अध्यात्म तथा स्वस्थ मनोरंजन के कार्यक्रम दिखाए जा रहे हैं। न्यायालयों में बन्दियों को प्रस्तुत करके पेशियां भी नहीं कराई जा रही है। विकल्प के तौर पर बन्दियों की रिमांड की कार्यवाही वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये कराई जा रही है।

अपर मुख्य सचिव गृह एवं कारागार अवनीश अवस्थी के अनुसार प्रदेश की जेलों में सिलाई यूनिटों की स्थापना कराकर मास्क निर्माण का कार्य किया जा रहा है। बन्दियों को भी मास्क व सैनिटाइजर बनाने में अपना योगदान देने के लिए प्रोत्साहित किया गया। परिणाम स्वरूप अब तक लगभग 30 लाख मास्क तथा 2400 पीपीई किट का निर्माण किया जा चुका है। विभिन्न कारागारें अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए सैनिटाइजर का भी निर्माण कर रही है। लगभग 14.5 लाख मास्क तथा 250 पीपीई किट विभिन्न शासकीय तथा गैर शासकीय संस्थानों को प्रदान की गई है।

आयुष मंत्रालय भारत सरकार द्वारा निर्धारित गाइडलाइन का अनुपालन सुनिश्चित करते हुए कारागारों में निरुद्ध बंदियों का इम्यून सिस्टम मजबूत करने के लिए पौष्टिक आहार, आयुर्वेदिक काढ़ा तथा होम्योपैथिक औषधियां नियमित रूप से दी जा रही हैं। कोरोना काल में बन्दियों की इम्युनिटी बढ़ाने तथा उन्हें स्वस्थ रखने के उद्देश्य से सभी जेलों में प्रातः योगा कार्यक्रम भी चलाए जा रहे हैं।

0

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here