कोरोना वायरस के असर को इन तीन तरीकों को आपनाकर कर सकते हैं कम | health – News in Hindi

0
42
.
कोरोना महामारी (Corona epidemic) के बीच आज दुनियाभर में कोरोना (Corona) वैक्सीन पर लगातार रिसर्च (Research) चल रहा है. कई देशों ने इसकी वैक्सीन बनाने का दावा किया है. लेकिन यह कहना मुश्किल है कि वैक्सीन (vaccine) कब तक बाजार में आएगी. आमतौर पर किसी भी नई बीमारी की वैक्सीन के तैयार होने और बाजार में आने में कई साल लग जाते हैं, इसलिए जब तक कोविड-19 की वैक्सीन (vaccine) तैयार नहीं हो जाती है, तब तक कोरोना संक्रमण (Corona) के साथ ही जीना सीखना होगा. myUpchar से जुड़े एम्स के डॉ. अजय मोहन ने बताया कि अभी सिर्फ कोरोना वायरस के लक्षणों का इलाज हो रहा है. साथ ही कोरोना संक्रमण (Corona infection) से बचने के लिए नियमित रूप से मास्क लगाना, सैनिटाइजर का उपयोग करना और साबुन से हाथ धोना और भीड़-भाड़ वाली जगहों से बचना ही बेहतर समझा जा रहा है. मौजूदा हालात में यदि इन सभी बातों को अपनाएंगे, तो ही कोरोना वायरस के खतरे से बचा जा सकता है.

ऐसे कम होता है वायरस का खतरा
अब तक के अध्ययन के अनुसार, कोरोना वायरस का असर तीन प्रकार से कम होता है. पहला- वायरस में म्यूटेशन हो जाए यानी यह अपने-आप कमजोर हो जाए और फैलना भी कम हो जाए. दूसरा- कोरोना वायरस पर कोई दवा बन आ जाए और तीसरा- वातावरण में इस प्रकार से बदलाव हो कि यह फैल ना सके. वैज्ञानिकों के अनुसार, यदि इन तीनों ही तरीकों में से एक भी असर नहीं होता तो यह वायरस फैलता रहेगा. इससे लगभग 60 से 70 फीसद आबादी संक्रमित हो जाएगी, जिससे उनमें हर्ड इम्यूनिटी विकसित होगी. इससे कोरोना वायरस का असर कम होने लगेगा, लेकिन ऐसा होने में कई सालों का वक्त भी लग सकता है.

धीरे-धीरे कम होता है आरएनए वायरस का असरकोरोना वायरस एक आरएनए वायरस है, जो म्यूटेड होता रहता है यानी इसमें परिवर्तन होता रहता है. शुरुआत में जब यह वायरस आया था, तब इसके लक्षण गंभीर थे, लेकिन यह संक्रमण जैसे-जैसे फैलने लगा, इसके लक्षण कम दिखने लगे हैं. इसका मतलब यह है कि वायरस का संक्रमण तो लगातार बढ़ रहा है, लेकिन इससे जान जाने का खतरा कम होता जा रहा है.

वायरस के बारे अब भी जुटाई जा रही जानकारी
कोरोना वायरस को लेकर कई शोध और अनुसंधान हो चुके हैं, लेकिन अब तक यह नहीं पता लगाया जा सकता है कि यह वायरस सक्रिय है या सुप्त अवस्था में. इसलिए मरीज में इस वायरस का संक्रमण कब हुआ होगा और कितने दिन तक उसमें इस वायरस का असर रहेगा, इस बारे में भी कह पाना मुश्किल है.

आदतों में बदलाव ही एक मात्र उपाय
दुनियाभर में कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण कई देशों में लॉकडाउन लगातार बढ़ाया जा रहा है. इसके अलावा कई देशों में कोरोना संक्रमण खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहा है, इसलिए सभी देश अपनी अर्थव्यवस्था को संभालने के लिए लगातार लॉकडाउन नहीं रख सकते. इसलिए अब लोगों को ही अपनी आदतों में बदलाव लाना होगा.

myUpchar से जुड़े डॉ. लक्ष्मीदत्ता शुक्ला के अनुसार, इम्युनिटी यानी बीमारियों से लड़ने की ताकत बढ़ानी होगी. अच्छे खानापान और व्यवस्थित जीवन शैली से इसे हासिल किया जा सकता है. योग, व्यायाम को अपनाना होगा और शराब, सिगरेट, जंक फूड को छोड़ना होगा.

अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के आसान उपाय पढ़ें।

न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।



Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here