The family of lab technician Sanjeet was going to meet Akhilesh Yadav; Forcible stopped on the way, relatives are angry with police negligence | अखिलेश यादव से मिलने जा रहा था परिवार; रास्ते में ही जबरन रोका गया, पुलिस की लापरवाही से नाराज हैं परिजन

0
67
.

  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • The Family Of Lab Technician Sanjeet Was Going To Meet Akhilesh Yadav; Forcible Stopped On The Way, Relatives Are Angry With Police Negligence

कानपुरएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

कानपुर में संजीत यादव की हत्या के बाद अब यह मामला तूल पकड़ता जा रहा है। गुरुवार को संजीत के परिजन सपा के अध्यक्ष अखिलेश यादव से मिलने के लिए लखनऊ जा रहे थे लेकिन पुलिस ने रास्ते में ही रोक कर वापस भेज दिया।

  • कुछ दिनों पहले भी सीएम योगी से मिलने से भी पुलिस ने रोक दिया था
  • काफी जद्दोजहद के बाद पुलिस ने परिजनों को समझा बुझाकर वापस भेजा

उत्तर प्रदेश के कानपुर बर्रा में रहने वाले लैब टेक्नीशियन संजीत की हत्या को लेकर जहां परिजन लगातार पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाकर प्रदर्शन कर रहे हैं। गुरुवार सुबह एक बार फिर संजीत के परिजन समाजवादी पार्टी के नेता के साथ पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मुलाकात करने के लिए रवाना हो गए। जिसकी जानकारी होते ही एक बार फिर पुलिस ने संजीत के परिजनों को रामादेवी फ्लाईओवर पर रोक लिया और काफी जद्दोजहद के बाद पुलिस की संजीत के परिजनों को समझा-बुझाकर वापस घर भेजा।

वहीं सपा नेता ने पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा कि व्हाट्सएप कॉल पर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने संजीत के परिजनों से बुधवार को बातचीत करी थी और इस दौरान संजीत के परिजनों ने पूर्व मुख्यमंत्री से मिलने की इच्छा जाहिर करी थी। जिसकी जानकारी पुलिस को दे दी गई थी और आज मुलाकात कराने के लिए वह संजीत के परिजनों को लखनऊ ले जा रहे थे। लेकिन पुलिस ने जबरदस्ती रोक कर परिजनों को मुलाकात करने के लिए लखनऊ नहीं जाने दिया है।

संजीत के पिता परिजनों को लेकर जा रहे थे लखनऊ
इस मामले को लेकर विपक्ष भी सरकार को घेरने का पूरा प्रयास कर रहा है, जिसके चलते बुधवार को पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से व्हाट्सएप कॉल पर संजीत के पिता चमन व बहन रुचि ने बात करते हुए मिलने की इच्छा जाहिर करी थी। इसके बाद बृहस्पतिवार को समाजवादी पार्टी के नेता सम्राट यादव अपने साथ संजीत के पिता चमन लाल, मां कुसुमा और बहन रुचि को लेकर लखनऊ जा रहे थे।

सूचना मिलते ही रामादेवी फ्लाईओवर पर सीओ गोविंद नगर वीके पांडे बर्रा और नौबस्ता पुलिस फोर्स लेकर पहुंच गए। और परिजनों को रोककर समझाने का प्रयास करने लगे इस दौरान सपा नेता और पुलिस के बीच तीखी नोकझोंक भी हो गई लेकिन कड़ी मशक्कत के बाद पुलिस ने संजीत के परिजनों को लखनऊ जाने से रोक लिया और पुलिस सुरक्षा के बीच घर पर छोड़। लेकिन सपा नेता सम्राट यादव ने पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा कि समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मुलाकात कराने की जानकारी कल ही एसपी साउथ को दे चुके हैं।इसके बाद भी पुलिस उन्हें जाने से क्यों रोक दिया है।

सीओ गोविंद नगर ने बताया कि संजीत के परिजनों की लखनऊ जाने की सूचना मिली थी। सूचना पर रामादेवी पर परिजनों को रोका गया था। जानकारी करने पर उन्होंने बताया कि पूर्व मुख्यमंत्री से मुलाकात करने के लिए लखनऊ जा रहे हैं इस पर पूर्व मुख्यमंत्री के ऑफिस से जारी पत्र की मांग की गई जिसे वह लोग नहीं दिखा पाए सुरक्षा की दृष्टि से परिजनों को रोका गया है अगर पूर्व मुख्यमंत्री के कार्यालय से कोई पत्र प्राप्त होता है तो सुरक्षा के साथ परिजनों को लखनऊ भेजा जाएगा।

यह है मामला
लैब टेक्नीशियन संजीत यादव का 22 जून को अपहरण हुआ था।29 जून को उसके परिवारवालों के पास फिरौती के लिए फोन आया। 30 लाख रुपए फिरौती मांगी गई थी।परिवारवालों ने पुलिस की मौजूदगी में 30 लाख की फिरौती दी थी।लेकिन न तो पुलिस अपहरणकर्ताओं को पकड़ पाई, न संजीत यादव को बरामद कर सकी। 21 जुलाई को जब पुलिस ने सर्विलांस की मदद से संजीत के दो दोस्तों को पकड़ा तो पता चला कि उन लोगों ने संजीत की 26 जून को हत्या कर दी।शव को पांडु नदी में फेंक दिया।

आईपीएस समेत 11 पुलिसकर्मी हुए थे सस्पेंड

इसके बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर इस मामले में एक आईपीएस अर्पणा गुप्ता समेत 11 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड किया गया था। पुलिस ने पांडु नदी में कई बार लगातार स्व अभियान चलाया, लेकिन संजीत का शव नहीं मिला।बाद में सरकार ने इस मामले की जांच को सीबीआई को सौंपने का फैसला किया था लेकिन जांच अभी शुरू नहीं हो सकी है जिसको लेकर परिजनों में आक्रोश है और वहीं दूसरी ओर राजनीतिक पार्टियां भी विपक्ष पर जमकर हमला बोल रही है।

0

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here