Krishan Premnarayen to be honoured with AAAI Lifetime Achievement Award 2020 | कृष्ण प्रेमनारायण को मिलेगा इस साल का एएएआई लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड

0
38
.

33 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

एडवरटाइजिंग एजेंसीज एसोसिएशन ऑफ इंडिया (AAAI) ने इस साल के लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड का ऐलान कर दिया है। यह अवॉर्ड इस बार प्रेम एसोसिएट्स एडवरटाइजिंग एंड मार्केटिंग के सीनियर पार्टनर कृष्ण प्रेमनारायण को दिया जाएगा। यह अवॉर्ड पाने वाले वे 28वीं शख्सियत हैं।

AAAI के सबसे युवा प्रेसिडेंट रहे प्रेमनारायण

कृष्ण नारायण ने 1988 में AAAI के प्रेसिडेंट की कमान संभाली थी। उस वक्त वे 36 साल के थे और एसोसिएशन के सबसे युवा प्रेसिडेंट बने थे। एसोसिएशन के स्टेटमेंट के मुताबिक , उन्हीं के प्रयास से एसोसिएशन को सूचना और प्रसारण मंत्रालय, दूरदर्शन और एआई ने अपने साथ मान्यता और क्रेडिट जैसे कई मुद्दों पर काम करने के लिए आमंत्रित किया था। उनकी अध्यक्षता में एसोसिएशन ने क्रिएटिव सेमिनार्स और वर्कशॉप्स का कॉन्सेप्ट इंट्रोड्यूस किया था। पहला फुल इवेंट ‘द क्रिएटिव फिशबाउलट मुंबई के होटल ताज में हुआ था, जिसमें सुभाष घोषाल, एलिक पदमसी, रवि गुप्ता जैसे विचारशील नेताओं का एक विशिष्ट पैनल था।

AAAI के अध्यक्ष के तौर पर अपने लंबे कार्यकाल के बाद भी प्रेमनारायण टैक्स इन एडवरटाइजिंग, दूरदर्शन पार्टिसिपेशन इन टीवी व्यूअरशिप मेजरमेंट जैसे मुद्दों पर AAAI- गवर्नमेंट रिलेशनशिप कमिटी की अध्यक्षता करते रहे। इसके अलावा प्रेमनारायण ऑडिट ब्यूरो ऑफ सर्कुलेशन (ABC) और नेशनल रीडरशिप सर्वे काउंसिल (एनआरएससी) के चेयरमैन रहे हैं। इसके अलावा प्रेमनारायण ने ऑडिट ब्यूरो ऑफ सर्कुलेशन (एबीसी) के अध्यक्ष और राष्ट्रीय पाठक सर्वेक्षण परिषद (एनआरएससी) के अध्यक्ष के रूप में भी काम किया। NRSC के प्रारंभिक वर्षों में उन्होंने सभी संस्थानों को उद्योग के लिए पथप्रदर्शक पहल में भाग लेने के लिए एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

प्रेमनारायण सम्मान के सच्चे हकदार: AAAI प्रेसिडेंट

AAAI के प्रेसिडेंट आशीष भसीन ने घोषणा करते हुए कहा, “सबसे युवा अध्यक्ष होने के साथ-साथ प्रेमनारायण ने इंडस्ट्री में बहुत बड़ा योगदान दिया है। उनके कार्यकाल में ही AAAI एक मान्यता प्राप्त बॉडी बनी। मीडिया इंडस्ट्री के साथ AAAI के मजबूत संबंधों का श्रेय भी प्रेमनारायण को दिया जाना चाहिए। वे इस सम्मान के सच्चे हकदार हैं।”

0

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here