The shooting champion daughter of the railway officer shot and killed her mother and brother, wrote on the bathroom wall – Disqualified Human, she was also shot on | शूटिंग चैम्पियन बेटी ने मां और भाई की हत्या के बाद बाथरूम की दीवार पर लिखा- डिस्क्वालिफाइड ह्यूमन, उस पर भी मारी एक गोली

0
108
.

  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • The Shooting Champion Daughter Of The Railway Officer Shot And Killed Her Mother And Brother, Wrote On The Bathroom Wall Disqualified Human, She Was Also Shot On

लखनऊ36 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

यूपी की राजधानी लखनऊ के पॉश इलाके में डबल मर्डर के बाद जांच के लिए डाग स्क्वाड की टीम भी पहुंच गई। हालांकि देर शाम होते होते पुलिस ने खुलासा करते हुए कहा कि रेलवे के अफसर की पत्नी और बेटे की हत्या किसी और ने नहीं उनकी बेटी ने ही की है।

  • आरडी बाजपेई दिल्ली रेलवे बोर्ड में प्रवक्ता हैं, उनका परिवार लखनऊ में रहता था
  • आरडी बाजपेई की बेटी ने सबसे पहले अपने मामा को फोन कर दी थी

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ की वीवीआईपी रेलवे कॉलोनी गौतमपल्ली में दिनदहाड़े भारतीय रेल सेवा के अफसर की पत्नी और बेटे की चौकाने वाला खुलासा हुआ। पुलिस की पूछताछ में 9वीं क्लास में पढ़ने वाली 16 साल की नाबालिग बेटी ने अपना जुर्म कबूल भी कर लिया है। पुलिस का कहना हैं कि, वह बीते कुछ समय से डिप्रेशन से जूझ रही थी। हत्या के बाद लड़की बाथरूम के मिरर पर लिखा। डिस्क्वालिफाइड ह्यूमन। उसमें भी गोली मारी हाथ पर ब्लेड से हाथ के तलवे पर खुद को काटा भी था।

पुलिस कमिश्नर लखनऊ सुजीत पांडे का कहना है कि आर डी बाजपेई दिल्ली रेलवे बोर्ड में प्रवक्ता हैं। उनकी पत्नी मालिनी, बेटा सर्वदत्त और बेटी गौतमपल्ली में रहते हैं। शनिवार सुबह करीब 10.30 बजे पुलिस को सूचना मिली कि किसी ने आरडी बाजपेई की पत्नी और बेटे की गोली मारकर हत्या कर दी थी।

जांच के लिए माैके पर पहुंचे आला अधिकारी।

जांच के लिए माैके पर पहुंचे आला अधिकारी।

मामा को फोन कर बोली- मम्मी, भैया उठ नहीं रहे
घटना की जानकारी आरडी बाजपेई की बेटी ने सबसे पहले अपने मामा को फोन कर दी थी। हालांकि उसने उनसे यही कहा था कि मम्मी और भैया उठ नहीं रहे हैं। इसके बाद वह रोने लगी थी। गोमतीनगर में रहने वाली आरडी बाजपेई की सास व अन्य परिवार के सदस्य विवेकानंद मार्ग स्थित आवास पर पहुंचे तो भीतर का नजारा देखकर सन्न रह गए। मालिनी और उसका बेटा कमरे में मृत पड़े थे।

करती रही गुमराह, ब्लेड से काटा अपना हाथ
पूछताछ में किशोरी शुरुआत में पुलिस को गुमराह करती रही। उसने गोली चलने की आवाज सुनने से भी इंकार कर दिया। उसने पुलिस को बताया कि शनिवार दोपहर करीब तीन बजे उसने मां और भाई को आवाज लगाई, लेकिन दोनों ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। इसके बाद वह अपने कमरे से बाहर आकर मां के पास गई तो देखा कि उनका भाई भी बगल में लेटा हुआ है। दोनों को उसने जगाया, लेकिन उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। पास जाकर देखा तो मां और भाई लहूलुहान पड़े थे। इसके बाद उसने मामा को फोन किया। लड़की परिवार वालों का कहना है कि वह खुद को चोट पहुंचाती थी।

घटना के बाद आवास के बाहर लगी भीड़। इस दौरान डाग स्क्वाड की टीम भी वहां जांच के लिए पहुंची।

घटना के बाद आवास के बाहर लगी भीड़। इस दौरान डाग स्क्वाड की टीम भी वहां जांच के लिए पहुंची।

पिस्टल में भारी थी पांच गोलियां
पुलिस ने बताया कि लड़की ने पिस्टल में पांच बुलेट डाली थी। इनमें से तीन बुलेट का इस्तेमाल किया गया है। बाकी दो बुलेट पिस्टल में ही हैं। पूछताछ के लिए जब लड़की को बुलाया गया तो उसने अपने एक हाथ को जोरों से पकड़ रखा था। जब पुलिस ने उसके हाथ को छुड़वाया तो उसके दोनों हाथ ब्लेड से बुरी तरह जख्मी थे। पुलिस ने इस ब्लेड को भी बरामद कर लिया।

पहले भी खुद को पहुंचाई थी चोट
छानबीन सामने आया है कि किशोरी ने पहले भी खुद को चोट पहुंचाई थी। किशोरी के हाथ पर चोट के पुराने निशान है यही नहीं शनिवार को भी उसने ब्लड से खुद के हाथ पर चोट पहुंचाई थी और उसे छिपाने के लिए बैंडेज बंधा था। पुलिस ने घटना करने की बात कबूल कर ली। पुलिस ने छानबीन की तो टमाटर की चटनी से बाथरूम के शीशे पर डिस्क्वालिफाईड ह्यूमन लिखा मिला। किशोरी ने यह लिखने के बाद शीशे पर भी फायरिंग की थी। पुलिस आयुक्त का कहना है कि प्वाइंट 22 बोर का असलहा बरामद कर लिया गया है। किशोरी ने इसी से मां व भाई को गोली मारी थी। पूछताछ में उसने बताया कि असलहे में उसने पांच गोलियां लोड की थी, जिसमें तीन उसने चलाए थे।

किशोरी ने निशानेबाजी की प्रतियोगिता में कई मेडल जीते हैं

किशोरी ने निशानेबाजी की प्रतियोगिता में कई मेडल जीते हैं

राष्ट्रीय स्तर की निशानेबाज है किशोरी
किशोरी राष्ट्रीय स्तर की निशानेबाज है और उसने कई मेडल भी जीते हैं। वह कक्षा नौ की छात्रा है। शुरुआती पूछताछ में किशोरी ने कहा कि पापा के आने के बाद ही वह कुछ बताएगी, लेकिन बाद में उसने पूरी कहानी बयां कर दी। किशोरी से जब उसके हाथ पर लगे चोट के बारे में पूछा गया तो उसने कहा कि सदन में आकर उसने खुद को चोट पहुंचाई थी।

किशोरी के पिता आरडी वाजपेई जो रेलवे बोर्ड में प्रवक्ता हैं।

किशोरी के पिता आरडी वाजपेई जो रेलवे बोर्ड में प्रवक्ता हैं।

मनोवैज्ञानिक बोले- यह मामला नॉर्मल नहीं लग रहा

नेशनल पीजी कॉलेज की असिस्टेंट प्रोफेसर नेहाश्री का कहना जिस तरह की जानकारी मिली है। उससे यह मामला नार्मल नहीं लग रहा। लड़की खुद को नुकसान पहुंचा रही और उसने अपनी मां और भाई को गोली मार दी। इससे यह लग रहा हैं कि, लड़की की टोका-टाकी पसंद नहीं है। किसी ने किसी बात और बहस या रोक-टोक की गई होगी, जिसके गुस्से में आकर लड़की ने यह कदम उठाया हैं। 9वीं क्लास में पढ़ने वाली लड़की किशोरावस्था होती और वह खुद के बारे और समाज के बारे जानती हैं।

0

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here