उम्र बढ़ने के साथ महिलाओं में होती हैं ये 7 बीमारियां, सेहत के लिए हैं घातक | health – News in Hindi

0
38
.
महिलाओं में उम्र बढ़ने के साथ-साथ शरीर में कई परिवर्तन होते रहते हैं. शरीर में हारमोन असंतुलन की परेशानी महिलाओं में ज्यादातर देखी जाती है. हार्मोन परिवर्तन अधिकतर मासिक धर्म के दौरान और 40 से अधिक उम्र होने पर देखने को मिलते हैं. यदि ऐसे में अनदेखी की गई तो महिलाओं को कई घातक बीमारियों का शिकार होना पड़ सकता है. आइए जानते हैं यह बीमारियां कौन सी हैं –

हृदय संबंधित बीमारियां

महिलाओं में हृदय संबंधित बीमारियां 35-40 की उम्र के बाद होने लगती हैं. कई बार थकान ज्यादा महसूस होना, सीढ़ियां चढ़ते समय सांस फूलना, घबराहट होना ऐसे कई लक्षण रक्तचाप बढ़ने पर दिखाई देते हैं. 29 फीसदी महिलाओं की मौत हार्ट की बीमारियों से होती हैं. वसा युक्त भोजन, जंक फूड से बचना चाहिए. नियमित व्यायाम और नियमित खान-पान से उच्च रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल को ठीक किया जा सकता है.

थायराइड की बीमारीमहिलाओं में थायराइड की बीमारी पुरुषों की तुलना में अधिक होती है. गले में थायराइड ग्रंथि होती है, जो शरीर के अंगों को नियंत्रित करती है. इससे शरीर का पाचन तंत्र मजबूत होता है और इससे मेटाबॉलिज बढ़ता है, साथ ही अच्छी नींद भी आती है. थायराइड ग्रंथि में असंतुलन कई बीमारियों को न्योता देता है, इसलिए उम्र बढ़ने के साथ-साथ समय-समय पर थायराइड का चेकअप भी कराना बेहद जरूरी है.

मानसिक तनाव व चिढ़चिढ़ापन

महिलाओं में अक्सर हार्मोन परिवर्तन के कारण तनाव बढ़ने जैसी स्थिति पैदा होती है. इसके लिए नियमित प्राणायाम, अच्छा खानपान और नियमित जीवन शैली का होना बेहद जरूरी है. सुबह मॉर्निंग वॉक करके भी तनाव दूर किया जा सकता है. प्रतिमाह मासिक धर्म आने के कारण रक्त में हिमोग्लोबिन की भी काफी कमी हो जाती है. इस कारण से शरीर में कमजोरी महसूस होती है और मानसिक तनाव व चिढ़चिढ़ापन बढ़ जाता है. myUpchar के अनुसार, तनाव के कारण महिलाओं को अल्जाइमर भी हो सकता है.

कैंसर का खतरा

महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर, आंतों का कैंसर और गर्भाशय का कैंसर होने का खतरा अधिक होता है. इसलिए यदि किसी भी प्रकार की तकलीफ हो तो जांच करा लेना चाहिए. एंटी ऑक्सीडेंट से भरपूर चीजों का सेवन कैंसर से बचाएगा.

डायबिटीज की बीमारी

डायबिटीज की बीमारी अक्सर महिलाओं में पुरुषों की तुलना में अधिक होती है. डायबिटीज की बीमारी आनुवंशिक भी होती है. मोटापा बढ़ना, अनियमित खानपान के कारण डायबिटीज की बीमारी हो सकती है. यदि बहुत अधिक थकान महसूस हो रही हो या चिड़चिड़ापन हो रहा हो तो चेकअप जरूर करवा लेना चाहिए.

ऑस्टियोपोरोसिस की बीमारी

महिलाओं में 40 की उम्र के बाद हड्डियों और जोड़ों में दर्द की समस्या शुरू हो जाती है. 35 की उम्र के बाद वजन का बढ़ना इसका सबसे बड़ा कारण माना जा सकता है. लगभग 60 फीसद महिलाओं में ओस्टियोपोरोसिस की बीमारियां होने की आशंका रहती है. विटामिन ‘डी’ और कैल्शियम युक्त खाद्य पदार्थ का सेवन करने से इस बीमारी को ठीक किया जा सकता है.

ऑटोइम्यून बीमारी

शरीर में रोग प्रतिरोधक रक्षा प्रणाली कई प्रकार की बीमारियों से बचाने में मदद करती है. यदि यह रक्षा प्रणाली शरीर की स्वस्थ कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाने लग जाए तो इसे ऑटोइम्यून डिसीज़ कहते हैं. 80 फीसद महिलाओं में ऑटोइम्यून की बीमारी हो सकती है. स्वस्थ जीवनशैली को अपनाकर इस बीमारी से बचा जा सकता है. (अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, महिलाओं की यौन समस्याओं के प्रकार, लक्षण, कारण, इलाज, उपाय और समाधान पढ़ें।) (न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।)

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।



Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here