Ayodhya Ram Mandir Construction; Akhil Bharatiya Akhara Parishad Meeting On Kashi-Mathura In Prayagraj | अखाड़ा परिषद का काशी-मथुरा मुक्ति आंदोलन का ऐलान; महंत नरेंद्र गिरी बोले- मुस्लिम धर्मगुरुओं से करेंगे बात

0
50
.

प्रयागराज7 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

बैठक में 13 अखाड़ों के प्रतिनिधि शामिल हुए।

  • संतों ने सहमति बनाई कि मुस्लिम धर्मगुरुओं से बातचीत करके मामले को निस्तारित करने का होगा प्रयास
  • नहीं मानने पर लिया जाएगा कानूनी लड़ाई का सहारा, प्रयागराज में परिक्रमा की पुन: परंपरा शुरू करने पर भी बनी सहमति

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए नींव खुदाई का काम जल्द शुरू होने वाली है। अब साधु-संत काशी-मथुरा को भी मुक्त कराने के रणनीति बनाने में जुट गए हैं। सोमवार को संगम नगरी में अल्लापुर स्थित बाघंबरी गद्दी मठ में अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद की बैठक हुई। इसमें प्रयागराज में माघ मेला आयोजन के अलावा हरिद्वार के कनखल में अनी अखाड़े को जमीन देने, काशी-मथुरा को शीघ्र मुक्त कराने और प्रयागराज में परिक्रमा की परंपरा पुनः शुरू करने जैसे प्रस्ताव पारित किए गए। काशी-मथुरा के मामले में अखाड़ा परिषद मुस्लिम धर्मगुरुओं से बात करेगा। सहमति न बनने पर कानूनी लड़ाई भी लड़ने की योजना बनाई गई है।

काशी-मथुरा को मुक्‍त कराने की एकसुर में उठी मांग

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद की बैठक सोमवार की दोपहर प्रयागराज में शुरू हुई थी। बैठक में 13 अखाड़ों के प्रतिनिधि शामिल हुए। इस मौके पर अखाड़ा परिषद ने कहा है कि द्वादश ज्योतिर्लिंगों में शामिल काशी विश्वनाथ मंदिर परिसर व मथुरा में श्रीकृष्ण जन्मभूमि से मस्जिद हटाई जाए। इस दौरान हर मुद्दे के धार्मिक व पौराणिक महत्व पर चर्चा करते हुए प्रस्ताव पास किया। इसे अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एवं उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को भेजा जाएगा।

अखाड़ा परिषद अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि ने कहा कि काशी विश्वनाथ मंदिर में ज्ञानवापी मस्जिद का निर्माण अवैध है। श्रीकृष्ण जन्मभूमि में मस्जिद जबरन बनाई गई है। दोनों ही स्थल हिंदुओं की आस्था का केंद्र हैं, उसे जल्द मुक्त किया जाना चाहिए।

मुख्यमंत्री के कार्यों की संतों ने की सराहना

अखाड़ा परिषद ने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कार्यों की सराहना की है। कहा कि अपराध और कोरोना को लेकर उनकी कार्रवाई बेहतर है। परिषद ने माघ मेला में कोरोना की गाइडलाइन का पालन करने पर जोर दिया है, लेकिन मेला की परंपरा न रुकने पाए सरकार से उसकी मांग की है।

0

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here