बड़ी दर्दनाक है शशि कपूर और जेनिफर की लव स्टोरी, गम में बिताए आखिरी के 31 साल

0
41
Shashi Kapoor Jennifer love story
.

मनोरंजन डेस्क. बॉलीवुड इंडस्ट्री में सबसे खूबसूरत और बेमिसाल प्रेम कहानियों में शशि कपूर और जेनिफर केंडल की लव स्टोरी का जिक्र भी जरुर होता है। शशि कपूर और जेनिफर केंडल की लव स्टोरी काफी दिलचस्प भी है। विदेशी सरज़मीं पर पैदा हुई जेनिफर केंडल का दिल बॉलीवुड के अपने दौर के सबसे रोमांटिक हीरो पर आ गया।

Shashi Kapoor Jennifer love story

शशि कपूर और जेनिफर केंडल की लव स्टोरी शुरुआत में जितनी सुखद थी अंत उससे भी ज्यादा दर्दनाक था। बताया जाता है कि 31 साल तक शशि कपूर अकेलेपन का गम झेलते रहे। आपको बता दें, आज ही के दिन 7 सितंबर 1984 को जेनिफर, शशि कपूर को अकेला छोड़कर चली गई थीं।

जेनिफर को देखते ही शशि उन्हें अपना दिल दे बैठे

ये साल 1956 की बात है जब जेनिफर केंडल अपने एक दोस्त के साथ नाटक ‘दीवार’ देखने रॉयल ओपेरा हाउस गई थीं। शशि कपूर तब 18 साल के थे। नाटक शुरू होने से पहले उन्होंने दर्शकों का अंदाजा लगाने के लिए पर्दे से झांका और उनकी नजर चौथी कतार में बैठी एक लड़की पर गई। जेनिफर को देखते ही शशि उन्हें अपना दिल दे बैठे।

Shashi Kapoor Jennifer love storyउन दिनों पृथ्वी थिएटर में काम करने वाले शशि कपूर की कोई बड़ी पहचान नहीं थी। दूसरी तरफ जेनिफर अपने पिता जेफ्री केंडल के थिएटर समूह की लीड अभिनेत्री थीं। जेनिफर से दोस्ती के लिए शशि को बहुत दिन इंतजार करना पड़ा। जब दोस्ती हुई तो दोनों साथ आने-जाने लगे। इस दौर में दोनों को एक दूसरे से प्यार हो गया।

1958 में शशि कपूर और जेनिफर की शादी

जेनिफर ने शशि कपूर के लिए अपने पिता का घर छोड़ दिया। 1958 में शशि कपूर और जेनिफर की शादी हो गई। हालांकि इधर कपूर खानदान भी विदेशी बहू को लेकर सहज नहीं था। एक साल के अंदर शशि कपूर पिता बन गए।

शशि कपूर के लिए जेनिफर ने अपना थिएटर प्रेम भी कुर्बान कर दिया था। लेकिन इस दौरान शशि कपूर का फिल्मी करियर परवान चढ़ने लगा और वे बॉलीवुड के ऐसे कलाकार बन गए जिसके पास बहुत काम था। उनकी चर्चा विदेश तक में होने लगी थी। और इस कामयाबी के पीछे सबसे बड़ा हाथ जेनिफर का था।

31 साल तक शशि कपूर ने अकेले जीवन काटा

लेकिन साल 1982 में वो घड़ी जब पता चला कि जेनिफर को कैंसर हो गया है। शशि कपूर ने मुंबई से लेकर लंदन तक के डॉक्टरों से इलाज कराया लेकिन 7 सितंबर, 1984 को जेनिफर का निधन हो गया। इसके साथ ही शशि कपूर की दुनिया में एक ऐसा सूनापन आ गया जो उनकी मौत तक उनके साथ रहा। जेनिफर की मौत के बाद पहली बार शशि तब रोए जब वो गोवा के समुद्री तट से एक बोट लेकर समुद्र के काफी अंदर तक चले गए थे। जेनिफर और शशि कपूर का साथ 28 साल तक का था। जेनिफर के निधन के बाद उनकी यादों के सहारे 31 साल तक शशि कपूर ने अकेले जीवन काटा।

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here