क्या कोरोना वायरस इंसानी बालों पर लगा रह सकता है? जानें सच्चाई | health – News in Hindi

0
33
.

इंसानी बालों में कोरोना वायरस कुछ दिनों या कुछ घंटों तक तो जरूर रह सकता है.

बालों (Hairs) को कोरोना वायरस (Coronavirus) से बचाने का सबसे अच्छा उपाय सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) है.


  • News18Hindi

  • Last Updated:
    September 8, 2020, 4:24 PM IST

कोरोना वायरस (Coronavirus) को लेकर दुनिया भर में कई तरह के शोध चल रहे हैं. इस समय कोविड-19 (Covid-19) लगातार अपना खतरनाक असर दिखा रहा है. यह तो सभी को मालूम है कि इसका बर्ताव कैसा होता है, कौन से लक्षण हैं और संक्रमित व्यक्ति को कितने दिनों के लिए पृथकवास में रखना है. इन सबके बीच कुछ सवाल ऐसे हैं जिनके जवाब अभी तक नहीं मिले हैं. इनमें मुख्य सवाल यह भी है कि कोरोना वायरस किन सतहों पर कब तक रह सकता है, एक स्थान पर रहते हुए उसकी समाप्ति का समय क्या है? कोरोना संक्रमित जगहों को स्पर्श करने से वायरस इंसान के हाथों में आता है और वहां कई घंटों तक रह सकता है. हाथों से चेहरे, नाक और मुंह को छूने से संक्रमण का खतरा रहता है इसलिए बार-बार हाथ धोने के लिए कहा जाता है. इन सबसे बीच एक सवाल यह भी आता है कि क्या कोरोना वायरस इंसान के बालों में लगा रह सकता है? अगर रह सकता है तो यह कितने समय तक वहां टिक सकता है और इस स्थिति में क्या करना चाहिए.

इंसान के बालों में कोरोना वायरस
अभी तक इंसानी बालों में कोरोना संक्रमण की कोई आधिकारिक रिसर्च तो सामने नहीं आई है लेकिन विशेषज्ञों के अनुसार बालों में कोरोना वायरस रह सकता है. यह भी कहा जाता रहा है कि इंसानी बालों में कोरोना वायरस कुछ दिनों या कुछ घंटों तक तो जरूर रह सकता है. अगर आपके पीछे से कोई संक्रमित व्यक्ति छींक मारे, तो बालों में संक्रमण के आसार बढ़ जाते हैं लेकिन इसमें घबराने की कोई बात नहीं है. जब तक आपने बालों को स्पर्श नहीं किया, तब तक संक्रमण का खतरा नहीं है. बालों को कोरोना वायरस से बचाने का सबसे अच्छा उपाय सोशल डिस्टेंसिंग है. बालों के संक्रमण के डर से बाहर जाकर आते ही हर बार बाल धोने की जरूरत तब तक नहीं रहेगी, जब तक आपने उचित सामाजिक दूरी का ध्यान रखा हो. क्या कोरोना वायरस इंसान के बालों में रह सकता है? इसका सीधा उत्तर हां में है. कुछ घंटों के लिए यह जरूर बालों से चिपका रहेगा.

क्या अन्य वायरस बालों में रह सकते हैं?अन्य संक्रामक वायरस के बालों में होने की जानकारी सीधे तौर पर नहीं आई है लेकिन वॉशिंगटन स्टेट यूनिवर्सिटी के एक रिसर्च पेपर के अनुसार 2014 में ताईवान में डेंगू महामारी से मानव बालों की डर्मल पैपिला (Dermal Papilla ) कोशिकाओं में संक्रमण देखा गया. कोरोना वायरस की तरह की इबोला वायरस आया था और यह भी मानव से मानव में फैलने वाला संक्रामक रोग है. इसमें भी कोरोना वायरस की तरह व्यक्ति को अलग-थलग किया जाता है. Ebola वायरस संक्रमित व्यक्ति के पसीने, खांसने आदि से उत्पन्न होता है और इनका सम्पर्क बालों से होने पर यह कुछ समय तक बालों पर भी रह सकता है. इबोला संक्रमित मृत व्यक्ति से भी दूरी बनाकर रखने का निर्देश दिया जाता है. हालांकि इस पर भी पुख्ता शोध रिपोर्ट का जिक्र नहीं मिलता है.

इसे भी पढ़ेंः कॉमन कोल्ड होने पर नहीं हो सकता फ्लू, रिसर्च में किया गया दावा

HIV भी एक संक्रामक रोग है और संक्रमित व्यक्ति का रक्त सैलून या स्पा के उपकरणों के जरिए स्वस्थ व्यक्ति में बालों के रस्ते जा सकता है लेकिन बालों में इसका संक्रमण नहीं होता. चिकनपॉक्स भी एक संक्रामक रोग है लेकिन यह भी बालों के नीचे त्वचा में ही पाया जाता है. यह एक प्रकार से त्वचा सम्बन्धित बीमारी है. टीबी भी एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलने वाला रोग है. यह हवा में खांसने से उत्पन्न रोगाणु से होने वाला रोग है जिसे सांस के साथ दूसरा व्यक्ति अंदर ले, तो संक्रमित हो सकता है. इन रोगाणुओं के भी बालों में टिके रहने के बारे में कोई शोध या पुख्ता प्रमाण नहीं है. हवा में यह रोगाणु कुछ घंटों के लिए रह सकता है. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)



Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here