पुरानी ज्वैलरी बेचने जा रहे हैं तो जान लीजिए ये गणित, नहीं तो लग सकता है चूना | If You Are Going To Sell Old Jewellery Then Know This Formula, Otherwise It Can Be A Big Problem

0
36
.

नई दिल्ली:

Gold Silver Exchange Rate: देश में सोने चांदी (Gold Silver Price Today) नई ज्वैलरी (Jewellery) की खरीदारी तो आम बात है लेकिन कुछ लोग पुराने जेवरों को बेचकर या बदलकर (Exchange of Gold Jewellery) भी नये जेवर भी बनवाते हैं. यही वजह है कि भारत में सोने (Spot Gold Price) की खपत पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा है लेकिन दिक्कत तब होती है जब आप इन जेवरों (Jewellery) का इस्तेमाल करके इन्हें वापस करने के लिए ज्वैलर के पास जाते हैं.

यह भी पढ़ें: म्यूचुअल फंड में SIP के जरिए शुरू करें निवेश, लॉन्ग टर्म में होगा बड़ा फायदा

ज्वैलर मौजूदा भाव के ऊपर कुछ फॉर्मूला लगाकर आपको पैसे दे देता है और आपको लगता है कि आप को कम पैसे मिल रहे हैं. तो आपको घबराने की जरूरत नहीं है. दरअसल, आज की इस रिपोर्ट में हम आपको बताने जा रहे हैं कि वापसी के समय सोने का भाव (Gold Rate) कैसे तय होता है.

यह भी पढ़ें: जीवन के साथ भी जीवन के बाद भी सुरक्षा देती है LIC की यह पॉलिसी, जानें ऐसा क्या है इसमें खास

आइए समझने की कोशिश करते हैं कैसे तय होता है वापसी भाव

आपकी जेवर (ज्वैलरी) की कीमत उस जेवर (Jewellery) की शुद्धता (Purity) पर निर्भर करती है. आइये आपको बताते हैं कि आप अपने जेवर की शुद्धता कैसे समझ सकते हैं. आपको बस ये जानना होगा कि आपका जेवर कितने कैरेट का बना है. अब समझ लीजिए कि आपकी ज्वैलरी 18 कैरेट की बनी है तो इसकी प्योरिटी कैसे तय होगी. दरअसल, आपको इसके लिए बहुत बड़ा गणतिज्ञ होने की जरूरत नहीं है. बस आपको करना ये है कि 18 कैरेट को एक मैजिकल नंबर से गुणा करना है और आपकी ज्वैलरी (Jewellery) की प्योरिटी निकल आएगी.

यह भी पढ़ें: बीमाधारकों के लिए आएंगे अच्छे दिन, मिलेंगे हेल्थ कूपन और रिवार्ड पॉइंट 

क्या है वो मैजिकल नंबर

अब आपको हम बताने जा रहे है कि वो मैजिकल नंबर क्या है. दरअसल वो मैजिकल नंबर 4.166 है. 18 कैरेट x 4.166 = 74.988% यानि कि आपका जेवर इतना फीसदी शुद्ध है, जबकि इसके अलावा इसमें लगभग 25 फीसदी अन्य धातु का मिश्रण किया गया है ताकी ये हार्ड हो सके. आपको इसी तरह अगर आपका जेवर 22 कैरेट का है तो इसकी शुद्धता इस तरह से निकलेगी. 22 x 4.166 = 91.652% यानी कि आपका जेवर इतना शुद्ध है. बता दें कि ज्वैलरी बनाने कि लिए सोने के अतिरिक्त अन्य धातुएं भी मिश्रित की जाती हैं ताकि ज्वैलरी बनने के बाद वो अपने शेप में बनी रह सके. अगर आपने प्योर सोने की ज्वैलरी बनाने की कोशिश की तो वह अपने आकार में नहीं रह पाएगा. बता दें कि मैजिकल नंबर 9 कैरेट के नीचे काम नहीं करता है.

कैसे तय होता है रिटर्न रेट

आपको बताते हैं कि आपके जेवर का रिटर्न रेट कैसे डिसाइड होता है. मान लीजिए आपका जेवर 18 कैरेट का है और उसका वजन 10 ग्राम है. आज का सोने का मौजूदा भाव 38,000 रुपये प्रति दस ग्राम का है तो अब कैसे रिटर्न रेट निकालें.

यह भी पढ़ें: Sukanya Samriddhi Yojana: बेटियों का भविष्य संवारने में मददगार है सुकन्या समृद्धि योजना

सोने का भाव x कैरेट= XYZ
XYZ x जेवर का वजन= जेवर का रिटर्न वैल्यू

38000 x 74.988 = 18,235 यानी कि आपका सोने का जेवर इस रेट पर वापस लिया जा रहा है. (ये रेट दुकानदार नीचे करके भी लगा सकता है क्योंकि दुकानदार को भी इस पुराने लिए जेवर को फिर से रिफाइन करवाना होगा जिसमें काफी खर्च आता है.) अब 18,235 से अपने जेवर के कुल वजन का गुणा कर दें तो आपका कुल रिटर्न प्राइज निकल आता है. 18235 x 10 = 18,235 रुपये यानी आपके 10 ग्राम जेवर का आपको 18 हजार दो सौ पैंतीस रुपये मिलेंगे. तो इस आसान तरीके से अपनी ज्वैलरी का रिटर्न प्राइज आसानी से जाना जा सकता है.

संबंधित लेख



Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here