कंगना रनौत के समर्थन में उतरीं महिलाएं; शिवसेना सांसद संजय राउत के खिलाफ पुलिस में शिकायत की, अधिवक्ता ने अदालत में परिवाद दायर किया

0
52
.

 

वाराणसी17 घंटे पहले

भाजपा से जुड़ी महिलाओं ने सिगरा थाने के सेकेंड अफसर को सौंपी तहरीर।

  • भाजपा की बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ की टीम ने संजय राउत के खिलाफ खोला मोर्चा, बोली- सांसद ने हर भारतीय महिला का अपमान किया
  • अधिवक्ता कमलेश चंद्र त्रिपाठी ने मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट-6 की अदालत में संजय राउत के खिलाफ परिवाद दायर किया

बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत और शिवसेना सांसद संजय राउत के बीच विवाद का मामला उत्तर प्रदेश के वाराणसी तक पहुंच गया है। मंगलवार को अधिवक्ता कमलेश चंद्र त्रिपाठी ने मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट-6 की अदालत में राउत के खिलाफ परिवाद दाखिल किया है। जिस पर आज सुनवाई होनी है। वहीं, भाजपा का बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ प्रकल्प भी कंगना रनौत के समर्थन में उतर आया है। प्रकल्प की यूपी संयोजक रचना अग्रवाल ने सिगरा थाने में संजय राउत के खिलाफ तहरीर देकर मुकदमा दर्ज कराए जाने की मांग की है।

राउत ने हर महिला का अपमान किया

रचना अग्रवाल ने कहा कि शिवसेना के सांसद संजय राउत ने कंगना का नहीं बल्कि भारत की हर महिला का अपमान किया है। शिवाजी का नाम लेकर भी उन्होंने गलती की है। कंगना के साथ हमारी पूरी टीम है।आज हम लोगों ने सिगरा थाने में राउत के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के लिए तहरीर दी है।

राउत के बयान के खिलाफ परिवाद दायर

वहीं, अदालत में परिवाद दायर करने वाले अधिवक्ता कमलेश चंद्र त्रिपाठी ने कहा कि संजय राउत ने बयान दिया है कि मुम्बई मराठी लोगों के बाप की है। जिसे यह मान्य नहीं है, वो अपने बाप को दिखावे। शिवसेना महाराष्ट्र के दुश्मनों का श्राद्ध किए बिना नही रह सकती है। वचन देता हूं। संजय राउत का यह कथन समाज को तोड़ने वाला है।

आज ही कंगना ने वाराणसी में नौकायन की फोटो शेयर की

एक्ट्रेस कंगना रनौत ने मंगलवार को वाराणसी में नौकायन करते हुए अपनी पुरानी फोटो साझा की है। उन्होंने लिखा है कि यह वाराणसी की फोटो है। जहां मैं नाव में बैठकर नौकायन का आनंद ले रही हूं। बाहर का दृश्य बहुत खूबसूरत है। लेकिन मैं फोन से चिपकी हुई हूं। ये कूल नहीं है। दरअसल, कंगना रनौत पिछले साल सितंबर माह में एक धार्मिक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए वाराणसी पहुंची थीं। तभी उन्होंने गंगा नदी में नौकायन का आनंद लिया था।

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here