यूपी: सरकारी नौकरियों में आर्थिक आधार पर आरक्षण देने की तैयारी में प्रदेश सरकार। Reservation will be applicable for economically weaker section

0
50
RESERVATION
.

लखनऊ। भारत सरकार ने सिविल पदों और सेवाओं में आर्थिक रूप से कमोजर वर्गों के लिए 10 फीसदी आरक्षण दिए जाने की व्यवस्था 19 जनवरी 2019 को की गई थी। जिसके बाद अब उत्तर प्रदेश लोक सेवा (आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लिए आरक्षण) विधेयक-2020 बनाया गया है जिसमें अब आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों को आरक्षण मिलेगा। आपको बता दें कि शासन ने सभी विभागों के अपर मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव और सचिवों को निर्देशित किया कि यूपी लोक सेवा (आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लिए आरक्षण) अधिनियम-2020 का अनुपालन करें।

कंगना रनोट की ऑफिस को ध्वस्त होते देख फूटा जनता का आक्रोश, बोले- ‘ये सिर्फ ऑफिस को तोड़ना नहीं बल्कि महाराष्ट्र में लोकतंत्र का हत्या भी है’

अधिनियम में लोक सेवाओं और पदों में सीधी भर्ती में दस फीसदी रिक्तियां आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लिए आरक्षित किए जाने का प्रावधान किया गया है। अपर मुख्य सचिव कार्मिक मुकुल सिंहल ने मंगलवार को इस अधिनियम का अनुपालन कराने के लिए सभी विभागों के अपर मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव और सचिव को पत्र लिखा है। पत्र के साथ उन्होंने प्रदेश सरकार द्वारा 31 अगस्त 2020 को किए गए सरकारी गजट को संलग्न किया है। गजट में आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों को आरक्षण दिए जाने के दिशा-निर्देश विस्तार से दिए गए हैं।

RAPE: नौबस्ता में मकान मालिक ने पहले किरायदार की बच्ची से किया रेप फिर मुंह बंद रखने की दी धमकी

भारत सरकार ने सिविल पदों और सेवाओं में आर्थिक रूप से कमोजर वर्गों के लिए 10 फीसदी आरक्षण दिए जाने की व्यवस्था 19 जनवरी 2019 को कर दी थी। राज्य सरकार ने आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों को दस फीसदी आरक्षण दिए जाने के लिए विधि बनाने का फैसला लिया था। जिसके बाद उत्तर प्रदेश लोक सेवा (आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लिए आरक्षण) विधेयक-2020 बनाया गया।

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here