कंगना रनौत का दफ्तर तोड़ने पर यह बोले शिवसेना नेता संजय राउत

0
32
.

हाइलाइट्स:

  • कंगना रनौत के ऑफिस पर बीएमसी की ओर से बुलडोडर चलाए जाने के बाद बड़ा सियासी तूफान उठ खड़ा हुआ है
  • बताया जा रहा है कि प्रदेश के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने भी मामले पर अपनी नाराजगी जाहिर की है
  • पूरे विवाद के केंद्र में रहे शिवसेना नेता संजय राउत ने सफाई दी है कि शिवसेना का इससे कोई लेना-देना नहीं है

मुंबई
फिल्म ऐक्ट्रेस कंगना रनौत के मुंबई स्थित ऑफिस पर बीएमसी की ओर से बुलडोडर चलाए जाने के बाद बड़ा सियासी तूफान उठ खड़ा हुआ है। बताया जा रहा है कि प्रदेश के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने भी मामले पर अपनी नाराजगी जाहिर की है। इस पूरे विवाद के केंद्र में रहे शिवसेना नेता संजय राउत ने सफाई दी है कि कंगना का दफ्तर बीएमसी ने तोड़ा, शिवसेना का इससे कोई लेना-देना नहीं है।

गुरुवार को जब संजय राउत से इस मुद्दे पर सवाल किया गया तो उन्‍होंने कहा, ‘कंगना रनौत के ऑफिस पर बीएमसी ने कार्रवाई की थी। इसका शिवसेना से कोई कनेक्‍शन नहीं है। आप इस मसले पर मेयर या बीएमसी के कमिश्‍नर से बात करें।’ टीवी रिपोर्ट्स के मुताबिक, इसके बाद संजय राउत मातोश्री चले गए। बताया जा रहा है कि वहां पार्टी के रुख को लेकर चर्चा होगी।


हालांकि, इससे पहले संजय राउत ने कहा था कि बदले की भावना से कोई कार्रवाई नहीं की गई है। वह (कंगना रनौत) एक कलाकार हैं और मुंबई में रहती हैं। उन्होंने मुंबई और महाराष्ट्र के लिए जो भाषा प्रयोग की वह उचित नहीं है। अगर कंगना अपने शब्द वापस लेती हैं तो कोई विवाद ही नहीं रह जाता है।

कह चुके हैं कंगना को ‘हरामखोर लड़की’
सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद हुए घटनाक्रम में संजय राउत और कंगना की बीच ट्विटर पर काफी तीखी नोंकझोंक हो चुकी है। इसी गरमागरमी में संजय राउत एक बार कंगना को ‘हरामखोर लड़की’ तक कह चुके हैं। बाद में उन्‍होंने इसकी सफाई दी तो वह भी कम विवादों में नहीं रही। उन्‍होंने कहा कि कंगना दरअसल नॉटी गर्ल हैं।

पूरे विवाद में हुई बालासाहेब ठाकरे की एंट्री
इस पूरे विवाद में शिवसेना सरकार की अच्‍छी खासी फजीहत हो रही है। इस पूरी खींचतान में गुरुवार को बालासाहेब ठाकरे की भी एंट्री हो गई। ट्विटर पर #BalasahebThackeray लगातार ट्रेंड कर रहा है। दरअसल कंगना ने एक ट्वीट में बालासाहेब के अच्छे कर्मों का जिक्र करते हुए उद्धव पर सबसे तीखा तंज किया है। इस हैशटैग के साथ लोग लगातार सवाल कर रहे हैं कि अगर बालासाहेब जीवित हो तो भी क्या शिवसेना का यही रुख होता।

रंगोली ने देखा दफ्तर का हाल, कंगना BMC से करेंगी नुकसान की भरपाई?

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here