भारतीय वायुसेना में बाहुबली की एंट्री से थर्राया पाकिस्तान, चीन से लगाई मदद की गुहार

1
47
Bahubali entry Indian Air Force shook Pakistan China seeking help
.

नई दिल्ली. भारत-चीन सीमा पर जारी तनाव के बीच भारत ने चीन के साथ साथ पाकिस्तान की भी मुश्किलें बढ़ा दी है। भारत की वायुसेना को एक और बड़ी ताकत मिल गई है। गुरुवार को फ्रांस से खरीदे गए पांच राफेल लड़ाकू विमान औपचारिक रूप से आज भारतीय वायुसेना के बेड़े में शामिल हो गए हैं।

rafel joined Indian Air Force China and Pakistan tremble

भारतीय वायुसेना में राफेल लड़ाकू विमान की धमाकेदार एंट्री हो गई। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और फ्रांस की रक्षा मंत्री की मौजूदगी में आज पांच राफेल को हरियाणा के अंबाला स्थित एयरबेस में विधिवत शामिल किया गया। भारतीय वायुसेना में राफेल के शामिल होने से पाकिस्तान इस कदर डर गया है कि उसने चीन से मदद मांगी है।

पाकिस्तान की तरफ से चीन से J-10 फाइटर जेट की मांग की गई है। हालांकि पाकिस्तान इसकी मांग तकरीबन दस वर्षों से करता आ रहा है, लेकिन अभी तक सफलता नहीं मिली है। हाल ही में पाकिस्तान ने J-10CE को लेकर हाल में फिर बातचीत शुरू की है। साथ ही पाकिस्तान चीन से PL-10 और PL-15 खरीदने की भी इच्छा रखता है।

राफेल की ताकत और खासियतें

राफेल लड़ाकू विमान बेहद अत्याधुनिक और शक्तिशाली है। भारतीय वायुसेना की टुकड़ी में शामिल होने से इसकी ताकत में और भी अधिक इजाफा हो गया। इसमें उन्नत हथियार, उच्च तकनीक सेंसर, लक्ष्य का पता लगाने और ट्रैकिंग के लिए बेहतर रडार और प्रभावशाली पेलोड ले जाने की क्षमता है।
राफेल 4.5वीं पीढ़ी का विमान है, जिसमें राडार से बच निकलने की युक्ति है। इससे भारतीय वायुसेना (आईएएफ) में आमूलचूल बदलाव होगा, क्योंकि वायुसेना के पास अब तक के विमान मिराज-2000 और सुखोई-30 एमकेआई या तो तीसरी पीढ़ी या चौथी पीढ़ी के विमान हैं।
राफेल की अधिकतम स्पीड 2,130 किमी/घंटा है और इसकी मारक क्षमता 3700 किमी. तक है।
राफेल में बहुत ऊंचाई वाले एयरबेस से भी उड़ान भरने की क्षमता है। लेह जैसी जगहों और काफी ठंडे मौसम में भी लड़ाकू विमान तेजी से काम कर सकता है।
राफल 24,500 किलो उठाकर ले जाने में सक्षम है और 60 घंटे अतिरिक्त उड़ान की गारंटी भी है।
राफेल विमान दो इंजनों वाला बहुउद्देश्यीय लड़ाकू विमान है। यह लड़ाकू विमान परमाणु आयुध का इस्तेमाल करने में सक्षम है।
यह हवा से हवा में और हवा से जमीन पर हमले कर सकता है। राफेल हवा से जमीन पर मार वाली स्कैल्प मिसाइल है।
स्कैल्प मिसाइल की रेंज 300 किमी, हथियारों के स्टोरेज के लिए 6 महीने की गारंटी है।
राफेल अत्याधुनिक हथियारों से लैस होने वाला लड़ाकू विमा है। इस जेट के साथ मेटेअर मिसाइल भी है।

Authors

.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here