EPF खाताधारकों की दुर्भाग्यपूर्ण मौत पर परिवार को अब मिलेगी 7 लाख रुपये की आर्थिक सहायता

0
61
.

श्रम एवं रोजगार राज्य मंत्री संतोष गंगवार की अध्यक्षता में EPF के केंद्रीय न्यासी बोर्ड (सीबीटी) की बुधवार को हुई 227वीं बैठक में यह निर्णय लिया गया.

IANS | Updated on: 10 Sep 2020, 02:32:57 PM

EPFO (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

Employees Provident Fund Organization: EPF के खाताधारकों की बीमा धनराशि में इजाफा हुआ है. केंद्रीय बोर्ड ने कर्मचारियों की जमा लिंक्ड बीमा योजना, 1976 में संशोधन के लिए मंजूरी दी है, जिससे वर्तमान अधिकतम लाभ को 6 लाख से बढ़ाकर 7 लाख रुपये तक किया जा सके. इस संशोधन के जरिए सेवारत कर्मचारियों की दुर्भाग्यपूर्ण मृत्यु होने की स्थिति में परिवार को छह लाख की जगह अब सात लाख रुपये की आर्थिक सहायता मिलेगी. श्रम एवं रोजगार राज्य मंत्री संतोष गंगवार की अध्यक्षता में ईपीएफ के केंद्रीय न्यासी बोर्ड (सीबीटी) की बुधवार को हुई 227वीं बैठक में यह निर्णय लिया गया.

यह भी पढ़ें: इस राज्य ने किसानों को फसल बीमा का फायदा पहुंचाने के लिए नियमों में किया ये बड़ा बदलाव

कोरोना से पैदा हुए हालात को देखते हुए केंद्रीय बोर्ड ने की समीक्षा
कोरोना वायरस महामारी से पैदा हुई असाधारण हालात को देखते हुए, केंद्रीय बोर्ड ने ब्याज दर से संबंधित एजेंडे की भी समीक्षा की है. केंद्रीय बोर्ड ने केंद्र सरकार को 8.50 प्रतिशत की समान दर रखने की सिफारिश की है, इसमें 31 दिसंबर, 2020 तक, ईटीएफ (एक्सचेंज ट्रेडेड फंड) और ऋण आय से 8.15 प्रतिशत और शेष 0.35 प्रतिशत पूंजीगत लाभ शामिल होगा.

यह भी पढ़ें: EMI पर ब्याज मामले में RBI, सरकार को निर्णय लेने के लिए 2 हफ्ते का समय मिला

केंद्रीय बोर्ड ने कोविड महामारी के दौरान भी सुचारू रूप से सेवाओं को जारी रखने पर ईपीएफओ कर्मियों की सराहना की. केंद्रीय बोर्ड को प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के अंतर्गत, प्रतिष्ठानों और सदस्यों के लिए केंद्र सरकार की ओर से घोषित राहत उपायों से भी अवगत कराया गया, जिसे ईपीएफओ ने डिजिटल प्लेटफॉर्म पर सफलतापूर्वक लागू किया गया है.

संबंधित लेख



First Published : 10 Sep 2020, 02:12:06 PM

For all the Latest Business News, Personal Finance News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.



Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here