अपने अजीबोगरीब बयानों को लेकर रहते हैं चर्चा में, कंगना का समर्थन कर फिर बने सुर्खियां

0
58
.

हाइलाइट्स:

  • नरेंद्र मोदी सरकार में केंद्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता राज्य मंत्री हैं रामदास आठवले
  • महाराष्ट्र सरकार के खिलाफ हल्लाबोल रहीं कंगना रनौत का समर्थन करने पर सुर्खियों में हैं आठवले
  • रामदास आठवले ने शुक्रवार को महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से भी की मुलाकात

मुंबई
नरेंद्र मोदी सरकार में केंद्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता राज्य मंत्री रामदास आठवले (Ramdas Athawale) अपने बयानों को लेकर अक्सर चर्चा में रहते हैं। इन दिनों रामदास आठवले महाराष्ट्र सरकार के खिलाफ हल्लाबोल रहीं कंगना रनौत के साथ आने पर सुर्खियों में हैं। आठवले ने कंगना का समर्थन करते हुए उद्धव सरकार पर हमला बोला है। साथ ही पूरे मामले को लेकर महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से भी मुलाकात की है।

महाराष्ट्र के कद्दावर दलित नेता रामदास अठावले ने शुक्रवार को राज्यपाल से मुलाकात कहा कि मुंबई में कंगना रनौत के दफ्तर में जो तोड़फोड़ हुआ, उसी मुद्दे को लेकर मैं आज महाराष्ट्र के राज्यपाल से मिला और मांग की कि इस नुकसान का मुआवजा उन्हें मिलना चाहिए। उन्होंने कहा कि जिस तरह से बीएमसी ने उनकी (कंगना रनौत) संपत्ति को तोड़ा है वह गलत है। कंगना रनौत को न्याय मिलना चाहिए।

गो कोरोना गो का दिया नारा
रामदास आठवले अपने अजीबोगरीब और कुछ हद तक विवादास्पद बयानों को लेकर सुर्खियों में रहते हैं। कोरोना महामारी पर उनका गो कोरोना गो वाला बयान खूब चर्चा में था। गो कोरोना गो वाला नारा उन्होंने तब दिया था जब भारत में कोरोना संक्रमण के हालात इतने बुरे नहीं थे। केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने फरवरी में मुंबई में चीनी महावाणिज्य दूत तांग गुओकाई और बौद्ध भिक्षुओं के साथ ‘गो कोरोना, गो कोरोना’ के नारे लगाए थे। प्रार्थना सभा का वीडियो सोशल मीडिया पर भी वायरल हुआ था।

मुंबई को लेकर दिए बयान पर विवाद, कंगना रनौत के समर्थन में रामदास आठवले

दलित होने के कारण छोटा राजन को गिरफ्तार किया: आठवले
महाराष्ट्र के कद्दावर दलित नेता रामदास आठवले ने अंडरवर्ल्‍ड डॉन छोटा राजन की गिरफ्तारी को लेकर भी विवादित बयान दिया था। उन्होंने कहा था कि दलित होने के कारण छोटा राजन को गिरफ्तार किया गया था जबकि उससे अधिक गंभीर जुर्म और ठिकाने का पता होने के बावजूद दाऊद इब्राहिम को अभी तक पकड़ा नहीं जा सका है।

राहुल के डंडा मारने पर आठवले ने की अंडा मारने की बात
कांग्रेस नेता राहुल गांधी के डंडा मारने वाले बयान पर केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले ने बड़ा पलटवार किया था। उन्होंने कहा था कि राहुल गांधी अगर प्रधानमंत्री मोदी को डंडा मारेंगे तो हम उन्हें अंडा मारेंगे। उन्होंने गांधी पर निशाना साधते हुए अमेठी में उनकी हार पर निशाना साधा था। दरअसल कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने एक रैली में पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए विवादित बयान दिया था, जिसे लेकर बीजेपी ने उन्हें निशाने पर लिया था। गांधी ने अपने बयान में पीएम को लाठी से मारने की बात कही थी। उन्होंने कहा था, ये जो नरेंद्र मोदी भाषण दे रहा है, 6 महीने बाद ये घर से बाहर नहीं निकल पाएगा। हिंदुस्तान के युवा इसको ऐसा डंडा मारेंगे, इसको समझा देंगे कि हिंदुस्तान के युवाओं को रोजगार दिए बिना ये देश आगे नहीं बढ़ सकता।’

रामदास आठवले की इमरान खान को नसीहत, भारत को सौंप दो PoK

साल 2016 में मोदी सरकार में मंत्री बने आठवले
जानकारी के मुताबिक, रामदास आठवले दलित समुदाय से हैं और बौद्ध धर्म मानते हैं। वह पहली दफा 1998-99 के बीच मुंबई नॉर्थ सेंट्रल सीट से लोकसभा सांसद रहे। इसके बाद 1999 और 2004 में भी उन्होंने लोकसभा चुनाव जीता। 2009 में उन्हें शिरडी सीट से हार का सामना करना पड़ा। इसके बाद उन्होंने NCP-कांग्रेस गठबंधन का साथ छोड़ दिया। 2011 में उन्होंने अपनी पार्टी रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (ए) का बीजेपी-शिवसेना के साथ गठबंधन किया और बृहन्मुंबई म्युनिसिपल कॉरपोरेशन (BMC) का चुनाव साथ लड़ा। 2014 और 2020 में रामदास आठवले को राज्यसभा के लिए चुना गया। साल 2016 में वह मोदी सरकार में मंत्री बने।

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here