Searching for vaccines to prevent corona virus in the world not easy – राजनीति: आसान नहीं है टीके की राह

0
44
.

यूसुफ अख़्तर

इस वक्त दुनिया कोरोना के जिस मकड़जाल में फंस गई है, उससे निकलने का एक ही रास्ता है कि अब इसका इलाज सामने आए, कोई दवा या टीका विकसित हो। तभी दुनिया में इस महामारी को फैलने से रोका जा सकता है। इस वक्त दुनिया के कई देश टीके की खोज में लगे हैं। कुछ ने बना लेने का दावा किया है तो कुछ देश परीक्षण के विभिन्न चरणों में हैं। दुनिया भर के दर्जनों शोध समूह जिस अथक प्रयास में लगे हैं, वह जुए की किसी बाजी से कम नहीं है।

टीका तैयार करने में जुटा हर देश और हर संस्थान यह दावा कर रहा है कि उसका टीका दूसरे की तुलना में सस्ता और ज्यादा कारगर साबित होगा। लेकिन इसमें कोई संदेह नहीं कि जल्दी ही टीका बना लेना कोई आसान काम नहीं है। ऑक्सफोर्ड-एस्ट्रेजेनिका के जिस टीके को लेकर सबसे ज्यादा उम्मीदें थीं, परीक्षण के दौरान एक व्यक्ति पर उसी का दुष्प्रभाव सामने आने के बाद परीक्षण अब रोकना पड़ गया है।

महामारी के इन सात महीनों में एक सौ तीस से अधिक प्रयोगात्मक टीकों पर काम चलने की बात सामने आई है। हाल में न्यूयार्क टाइम्स ने पुष्टि की कि दुनिया भर की प्रयोगशालाओं में कम से कम अट्ठासी टीकों पर इस समय नैदानिक परीक्षण से पहले का शोध चल रहा है, जिनमें से सड़सठ टीकों पर अगले साल (2021) के अंत तक चिकित्सकीय परीक्षण पूरा कर लिए जाने की उम्मीद है।

इस दौड़ में शामिल टीकों में से जो सबसे आगे नजर आ रहे हैं, वे सब एक ही जैव-चिकित्सीय सिद्धांत पर आधारित और निर्मित हैं, जिसमें एक प्रोटीन (स्पाइक प्रोटीन) है, जो प्राकृतिक रूप से कोरोनाविषाणु के ऊपरी कवच पर पाया जाता है। जब यह प्रोटीन शरीर के अंदर पहुंचेगा तो हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली खुद के खिलाफ एंटीबॉडी बनाने के संकेत देगी और अंतत: सैद्धांतिक रूप से इससे बनने वाला एंटीबॉडी कोरोनाविषाणु को नष्ट कर देगा। लेकिन कुछ शोधकर्ताओं की चिंता यह है कि हमें एक ही तरह की रणनीति पर बहुत अधिक उम्मीदें नहीं लगानी चाहिए, वह भी ऐसी रणनीति जिसे अभी सफल साबित होना बाकी है। इसीलिए वाशिंगटन विश्वविद्यालय में विषाणु विज्ञानी डेविड वेस्लर का कहना है कि ‘अपने सभी अंडों को एक ही टोकरी में रखना बुद्धिमत्ता नहीं है’।

बीते मार्च में डॉ. वेस्लर और उनके सहयोगियों ने एक नैनो कण वाला टीका तैयार किया था, जिसमें हर एक नैनो कण पर स्पाइक प्रोटीन की नोक की साठ प्रतियां एक साथ जुड़ी थीं। इन नैनो कणों में पूरी स्पाइक प्रोटीन शृंखला के बजाय उसका बाहर निकले हुए नुकीले हिस्से, जो कोरोनाविषाणु के मानव शरीर में घुसने के बाद हमारी कोशिकाओं से सबसे ज्यादा संपर्क में आता है, का इस्तेमाल किया गया है।

यह एक बहुत मजबूत प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को प्रेरित कर सकता है। जब इन नैनो कणों को चूहों में प्रवेश कराया गया, तो उनमें कोरोनाविषाणु के खिलाफ बड़ी मात्रा में एंटीबॉडी प्रतिक्रिया हुई। जब इन चूहों को कोरोनाविषाणु के संपर्क में लाया गया, तो इन चूहों में संक्रमण नहीं फैला और जांच में ये चूहे संक्रमण से सुरक्षित पाए गए।

इस सफल परीक्षण के बाज दी डॉ. वेस्लर और उनके एक सहयोगी नील किंग द्वारा स्थापित कंपनी, आइकोसावैक्स, जल्द ही ‘नैनोकण टीके’ का परीक्षण शुरू करेगी। अमेरिकी सेना के वाल्टर रीड आर्मी इंस्टीट्यूट के शोधकर्ताओं ने एक और ‘स्पाइक-नोक नैनो कण’ वाला टीका बनाया है, जिसका परीक्षण भी चल रहा है। कुछ अन्य कंपनियां और विश्वविद्यालय भी ‘स्पाइक-नोक नैनो कण’ वाले टीके पर काम कर रहे हैं।

शरीर के प्रतिरक्षा तंत्र में एंटीबॉडी कई दूसरे अस्त्रों के साथ एक प्रतिरोधी हथियार है। टी-रक्त-कोशिकाएं भी उन्हीं में से एक हैं, जो विषाणु द्वारा संक्रमित की गई कोशिकाओं को खा जाती हैं। ब्राजील के साओ पाउलो के इंस्टीट्यूटो बुटानन की एक शोधकर्ता लुसियाना लेइट का कहना है कि ‘हम अभी भी नहीं जानते हैं कि किस तरह की प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया सुरक्षा के लिए महत्त्वपूर्ण होगी।’

केवल एंटीबाडी प्रतिक्रिया प्रेरित करने वाले टीके लंबे समय में बेकार साबित हो सकते हैं। एक टीके का प्रभाव इससे भी तय होता है कि यह हमारे शरीर में किस रास्ते से भेजा जाता है। सभी टीके, जो चिकित्सकीय परीक्षण में हैं, मांसपेशियों में लगाए जाते हैं। इंफ्लूएंजा के सफलतम टीके (फ्लूमिस्ट) को नाक के रास्ते स्प्रे किया जाता है।

यह प्रणाली कोरोनाविषाणु के खात्मे लिए इसलिए भी उचित है, क्योंकि कोरोना विषाणु वायु मार्ग से ही हमारे शरीर में आता है। नाक से स्प्रे के जरिए दिए जाने वाले टीकों में सबसे कल्पनाशील पहल न्यूयॉर्क की एक कंपनी कोडॉजेनिक्स की है। वह एक ऐसे टीके का परीक्षण कर रही है जिसमें कोरोनाविषाणु का सिंथेटिक संस्करण प्रयोग किया जा रहा है। दशकों से टीकों के निमार्ताओं ने चेचक और पीत-ज्वर जैसे रोगों के लिए कमजोर जीवित विषाणु का सफलता से प्रयोग किया है।

परंपरागत रूप से, वैज्ञानिक कमजोर विषाणु को प्राप्त करने के लिए मुर्गियों या अन्य जानवर की कोशिकाओं में उनकी वंश-वृद्धि करते हैं। लेकिन ये विषाणु अभी भी मानव कोशिकाओं में घुस पाने में सक्षम होते हैं, हालांकि, उनका प्रजनन बहुत धीमा हो जाता है।

परिणामस्वरूप, वे हमें बीमार नहीं कर पाते। इन कमजोर विषाणुओं की छोटी खुराक प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए एक शक्तिशाली उत्प्रेरक का काम करती है। अपेक्षाकृत कमजोर जीवित विषाणु वाले सफल टीकों की संख्या कम है, क्योंकि उन्हें बनाना जटिल काम है। ऐसा इसलिए भी है कि क्योंकि यह वास्तव में परीक्षण और त्रुटि पर आधारित होता है। इसमें जीन में होने वाले बदलावों का पता नहीं चल पाता है।

निष्क्रिय विषाणु के टीकों को तैयार करने में बहुत उच्च मानकों को पूरा करना पड़ता है। इसमें यह सुनिश्चित करने की जरूरत होती है कि टीकों में सभी विषाणु कमजोर या निष्क्रिय ही हों। वाल्नेवा का टीका पहले ही उन मानकों को पूरा कर चुका है, लेकिन चीनी टीकों के बारे में किसी को कुछ नहीं पता। इसीलिए ब्रिटेन ने वाल्नेवा के टीके की छह करोड़ खुराक पहले ही से खरीद ली है। अगर ये टीके के शुरूआती स्तर पर भी कामयाब रहते हैं, तो अगली चुनौती इनकी भारी-भरकम वैश्विक मांग को पूरा करने की होगी।

कई पारंपरिक टीके बड़े पैमाने पर उत्पादित किए जा सकते हैं, जिनका उपयोग सुरक्षित और प्रभावी ढंग से दशकों से हो रहा है। कोडॉजेनिक्स ने सीरम इंस्टीट्यूट आॅफ इंडिया के साथ अपने विषाणु वाले टीके के उत्पादन के लिए साझेदारी की है। यह कंपनी पहले से ही खसरा, रोटाविषाणु और इन्फ्लूएंजा के लिए जीवित-कमजोर विषाणु के टीकों की अरबों खुराक बनाती है। स्थापित कार्यप्रणाली का इस्तेमाल करने से टीके की लागत भी काफी कम बैठेगी, जिससे इसे गरीब देशों में वितरित करना आसान होगा।

इसके अलावा बैलर कॉलेज ऑफ मेडिसिन के शोधकर्ता भी सस्ते टीके पर काम कर रहे हैं, जिसकी लागत दो डॉलर प्रति खुराक है। बैलर की टीम ने कोरोनोविषाणु ‘स्पाइक-नोक’ बनाने के लिए खमीर को तैयार किया है। यह ठीक उसी तरह की विधि है जिससे 1980 से ही हेपेटाइटिस-बी का टीका बनाया गया था। भारतीय टीका निमार्ता बायोलॉजिकल-ई इसे बनाएगा और यह परीक्षणों के करीब है।

भले दुनिया को कोविड -19 से बचाव के लिए सस्ते और प्रभावी टीके मिल जाएं, लेकिन इसका अर्थ यह बिल्कुल नहीं है कि आने वाली महामारियों की चिंताएं खत्म हो जाएंगी। जंगली जानवरों में छिपे बैठे अन्य कोरोनाविषाणु से कोविड-19 जैसी महामारी कभी भी प्रकट हो सकती है। कई कंपनियां, जिनमें चीन की अनहुइ जोइफी, फ्रांस की ओसिवैक्स और अमेरिका की वीबीआइ भी हैं, कोरोनविषाणु के टीके विकसित कर रही हैं और ये ऐसे विषाणु समूह से सुरक्षा देंगे, जिन्होंने मानव जाति को अब तक संक्रमित नहीं किया।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। में रुचि है तो



सबसे ज्‍यादा पढ़ी गई




Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here