Union chief Mohan Bhagwat, who arrived in Kanpur on a 2-day stay, will hold a meeting with some ministers and officials of the state government today | मोहन भागवत ने लॉकडाउन में स्वंयसेवी संगठनों के काम की तारीफ की, कहा- ये काम प्रचार के लिए नहीं, बल्कि समाजिक दायित्व के लिए हुए हैं

0
101
.

  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Union Chief Mohan Bhagwat, Who Arrived In Kanpur On A 2 day Stay, Will Hold A Meeting With Some Ministers And Officials Of The State Government Today

कानपुर2 दिन पहले

  • कॉपी लिंक

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत बुधवार देर रात कानपुर पहुंच गए। वह यहां दो दिन के प्रवास पर रहेंगे और इस दौरान संघ और बीजेपी के पदाधिकारियों के साथ कई बैठकें करेंगे।

  • बैठक में एक बार में आठ या दस पदाधिकारियों से ही मुलाकात कर रहे हैं
  • कानपुर में दो दिवसीय कार्यक्रम के तहत आज होने वाली बैठक में बोले भागवत

संघ प्रमुख मोहन भागवत के साथ पदाधिकारियों की कोविड प्रोटोकॉल के तहत बैठक का दौर शुरू हो गया है। इस दौरान उन्होंने कहा कि स्वयंसेवकों को यह स्मरण रहना चाहिए कि हमने यह कार्य प्रचार के लिए नहीं किया है। हमारा कार्य हमने अपना दायित्व समझ के किया है, जो कि हमारा समाज के प्रति है।

यह बैठक सिविल लाइंस स्थित क्षेत्र संघ चालक वीरेंद्र जीत सिंह के आवास पर सुबह 9:00 बजे से प्रारंभ हुई। संघ के सूत्रों से मिल रही जानकारी के अनुसार बैठक में संघ से जुड़े पदाधिकारी व स्वयं सेवक ही पहले दिन की बैठक में शामिल हुए थे। इस दौरान बैठक में शामिल हुए पदाधिकारियों ने सरसंघचालक मोहन भागवत को लॉकडाउन में कानपुर प्रान्त में किये गये सेवाकार्य की जानकारी दी। प्रान्त के आकंड़े के साथ साथ स्वयंसेवकों द्वारा व्यक्तिगत रूप से किए गए कई प्रेरणादाई कार्यों का उदाहरण भी कार्यकर्ताओं द्वारा दिया गया।

संघ प्रमुख ने कार्यों की सराहना की

संघ के सूत्रों ने बताया कि लॉकडाउन के कालखंड में कानपुर प्रान्त में किये गये सेवाकार्य की जानकारी होने पर सरसंघचालक मोहन भागवत ने सेवा कार्यों के दृष्टि से कानपुर प्रांत के कार्य की सराहना की। उन्होंने कहां की संघ के अतिरिक्त समाज में कई सामाजिक संगठनों मठ,मंदिरों, गुरुद्वारों ने सेवा कार्य किए हैं। एक बहुत बड़ी सज्जन शक्ति समाज में उभर कर सामने आई है संघ के कार्यकर्ताओं को ऐसी सज्जन शक्ति से संपर्क करना चाहिए।

उन्होंने कहा लॉकडाउन के कालखंड का प्रभाव अभी भी है प्रवासी मजदूरों के लिए रोजगार उपलब्ध कराने की दृष्टि से हमको काम करना है.उन्होंने कहा शहरी क्षेत्रों में श्रमिकों के लिए तथा ग्रामीण क्षेत्र में किसानों के लिए कार्य करना है। आत्मनिर्भरता का भाव समाज में उत्पन्न करना है।

0

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here