Ayodhya Ram Mandir Trust Member Swami Vasudevanand Saraswati On Temple Construction | वासुदेवानंद सरस्वती ने कहा- व्यक्ति विशेष के पैसे से नहीं होगा राममंदिर का निर्माण, म्यूजियम का नाम छत्रपति शिवाजी रखा जाना गर्व की बात

0
33
.

आगराएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती महाराज।

  • प्रयागराज जाते समय आगरा में स्वामी वासुदेवानंद ने दी प्रतिक्रिया
  • राजस्थान सरकार पर लाल पत्थरों के खनन पर रोक लगाने की बात बोले- जल्द ट्रस्ट सुलझाएगा मसला

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए बने श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के सदस्य जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती महाराज ने कहा कि, ट्रस्ट का उद्देश्य और संकल्प अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण है। मंदिर निर्माण के लिए आम लोगों से सवा रुपए से लेकर 11 रुपए तक का सहयोग लिया जा रहा है लेकिन किसी व्यक्ति विशेष के पैसे से राम मंदिर का निर्माण नहीं किया जाएगा। उन्होंने मुगल म्यूजियम के नाम परिवर्तन भी खुशी जताई।

भारत में रामराज की नींव पड़ी

स्वामी वासुदेवानंद प्रयागराज जाते समय रास्ते में आगरा के चर्च रोड स्थित मोहनलाल सर्राफ के आवास पर रुके थे। उन्होंने कहा कि, अयोध्या में राममंदिर निर्माण से भारत में रामराज की स्थापना की नींव पड़ गई। करोड़ों देशवासियों का सपना साकार हो गया। प्रसन्नता व्यक्त करने के लिए शब्द नहीं सिर्फ हृदय को उसकी आत्मीय अनुभूति हो रही है।

योगी का निर्णय सराहनीय

मुगलकालीन म्यूजियम के नाम बदले जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि योगी सरकार द्वारा ताजनगरी के मुगल म्यूजियम का नाम बदलकर छत्रपति शिवाजी महाराज म्यूजियम रखे जाने का निर्णय सराहनीय है। जो स्थान हिंदू नाम से जाने जाते थे, उन्हें अपना पूर्व नाम मिले तो इस पर देश को गर्व महसूस होना चाहिए।

ट्रस्ट जल्द सुलझाएगा लाल पत्थर का मामला

राजस्थान सरकार द्वारा लाल पत्थर खनन पर रोक लगाए जाने के बाद राम मंदिर निर्माण में आने वाली बाधा के सवाल पर उन्होंने कहा कि इस मामले में जल्द ट्रस्ट सरकार के साथ मिल कर मामले को जल्द सुलझाएगा और मंदिर के लिए लाल पत्थर अतिशीघ्र आएगा।

0

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here