दरोगा पर 30 हजार की रिश्वत मांगने का आरोप- ग्रामीण ने कलेक्ट्रेट में अफसरों के सामने खाया जहर, हालत नाजुक

0
29
.

बाराबंकी. बाराबंकी के कलेक्ट्रेट ऑफिस में उस वक्त हड़कंप मच गया जब एक ग्रामीण ने जहर खा लिया है। ग्रामीण का आरोप है कि दरोगा ने 30 हजार की रिश्वत मांगी है। वहीं ग्रामीण का हालत नाजुक बताई जा रही है।

उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले में गुरुवार को एडीएम कार्यालय में एक फरियादी ने जहर खा लिया। इसके बाद एडीएम संदीप कुमार गुप्ता ने फरियादी को अस्पताल पहुंचाया। जहां उसकी हालत नाजुक बताई गई है। फरियादी अपनी संपत्ति विवाद के चलते पिछले कई दिनों से अफसरों के कार्यालयों के चक्कर लगा रहा था, लेकिन उसे कहीं से मदद नहीं मिल रही थी। पुलिस उससे पैसे मांग रही थी। परेशान होकर वह मदद मांगने के लिए ही एडीएम कार्यालय आया था, जहां उसने जहर खा लिया।

विरोधियों ने पुलिस को दिए थे 50 हजार

ये पूरा मामला फतेहपुर थाना क्षेत्र के गांव खासी सराय निवासी विक्रम का आरोप है कि कुछ दिनों पहले उसे सर्वेश, मायाराम, रमेश और संजय वर्मा ने मारा और थाने पर शिकायत करने पर भी कोई पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। पुलिस कार्रवाई के लिए पैसे मांग रही थी। विक्रम ने बताया कि दरोगा के पास जब वह शिकायत लेकर गया तो उससे कहा गया कि विरोधियों ने उसे पचास हजार रुपए दिए हैं, तुम 30 हजार रुपए दे दो। तो तुम्हारा काम कर दिया जाएगा।

विक्रम ने बताया कि उसके घर से निकलने का रास्ता बंद कर दिया गया है। साथ ही आए दिन विरोधी उसे मारते पीटते हैं। इन सब बातों से वह परेशान हो चुका था। जिसके चलते गुरुवार को उसने कलेक्ट्रेट में एडीएम कार्यालय में जहरीला पदार्थ खा लिया।

इलाज के बाद होगी कार्रवाई

एडीएम संदीप कुमार गुप्ता ने बताया कि विक्रम नाम के फरियादी के जहरीला पदार्थ खाने की सूचना मिली थी। जिसके बाद उसे तुरंत जिला अस्पताल लाया गया। फरियादी ने ने बताया कि उसके मकान के आगे कुछ लोगों ने दीवार खड़ी कर दी है और उसका मुकदमा भी चल रहा है। शिकायत की जांच कराई जा रही है। एडीएम ने बताया कि पहले फरियादी का उचित इलाज हो जाए और वह ठीक हो जाए। उसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here