जिस लड़की की 12 साल पहले रेप और हत्या हुई, वह जिंदा लौटी, मां ने कहा- मेरी बेटी नहीं…

0
16
girl who was raped and murdered
.

जालौन. उत्तर प्रदेश के जालौन (Jalaun) में 12 वर्ष पहले सुर्खियों में रहे एक लड़की के अपहरण (Kidnapping) के बाद हत्या (Murder) के मामले में आज सनसनीखेज खुलासा हुआ है. प्रतिवादी पक्ष की तरफ से लड़की के जिंदा होने की बात सामने आई है. बता दें कि 12 वर्ष पहले लड़की के अपहरण व हत्या के मामले में नामजद 10 लोगों पर कोर्ट में मुकदमा चल रहा है, जिसमे एक महिला आरोपी की मौत भी हो चुकी है, जबकि 9 अन्य जमानत पर हैं. अब अचानक लड़की के सामने आने से हड़कम्प मचा हुआ है.

2008 में अचानक हुई गायब, फिर मिली कानपुर में लाश

मामला कालपी नगर का है. जहां पर 15 वर्षीय जावित्री उर्फ गायत्री वर्ष 2008 में घर के पास से अचानक गायब हो गई थी. किशोरी की मां राजो देवी ने नगर पालिका कालपी के तत्कालीन जेई सहित 10 लोगों के खिलाफ कालपी कोतवाली में अपहरण का मामला दर्ज कराया था. कुछ समय बाद कानपुर नगर के घाटमपुर थाना क्षेत्र में एक किशोरी की लाश बरामद हुई थी, जिसकी शिनाख्त राजो देवी ने अपनी पुत्री जावित्री के रूप में की थी. इसके बाद अपहरण का मामले में हत्या की धाराएं जुड़ गईं. इधर, आरोपियों की पहल पर मामले की जांच सीबीसीआईडी में स्थानांतरित हो गई थी, जिसकी विवेचना सीबीसीआईडी ने की.

विवेचना के बाद सीबीसीआईडी ने वर्ष 2011 में न्यायालय में चार्जशीट दाखिल कर दी थी. इसमें एक महिला आरोपी की मौत हो चुकी है, जबकि बाकी आरोपी जमानत पर बाहर चल रहे हैं और न्यायालय के फैसले का इंतजार कर रहे हैं.

प्रतिवादी पक्ष ने किया दावा- जिंदा है लड़की

फैसले की घड़ी नजदीक आते ही इस कांड में नया मोड़ तब आया, जब कल प्रतिवादी पक्ष ने मृत घोषित हो चुकी लड़की जावित्री को अलीगढ़ के छरारा से बरामद करने का दावा करते हुए पुलिस के सामने पेश किया, हालांकि पुलिस मामले में हाथ डालने से बच रही है औरपूरे मामले से सीबीसीआईडी को अवगत करा दिया है.

मां ने कहा- बरामद लड़की मेरी बेटी नहीं, साजिश है

वहीं लड़की की मां राजो देवी ने बरामद लड़की को अपनी बेटी मानने से इनकार करते हुए क्षेत्राधिकारी कालपी आरपी सिंह पर गंभीर आरोप लगाते हुए पूरे मामले को गलत बताया है. लड़की की मां का कहना है कि जब उनकी बेटी का अपहरण हुआ था, उस समय आरपी सिंह घटना क्षेत्र के चौकी इंचार्ज थे. इसके 2 वर्ष बाद जब उनके बेटे की हत्या की गई, तब आरपी सिंह कालपी कोतवाली के इंचार्ज थे. आज जब 12 वर्ष बाद उनकी लड़की के बरामद होने की बात की जा रही है, तब वे क्षेत्राधिकारी कालपी हैं. लड़की की मां ने आरपी सिंह पर आरोप लगाते हुए कहा कि वे फर्जी लड़की को हमारी बेटी दिखाकर आरोपियों को बचाना चाहते हैं. लड़की की मां ने सीओ कालपी पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि सीओ आरपी सिंह आरोपियों के साथ मिलकर उसकी भी हत्या करवा सकते हैं, जिस प्रकार मेरे बेटे की हत्या की गई थी.

10 आरोपी, एक महिला की मौत, 9 जमानत पर

वहीं इस मामले में पुलिस अधीक्षक डॉ. यशवीर सिंह का कहना है कि यह घटना 2008 की है और उस समय शुरुआती जांच पुलिस ने की थी. इसके बाद पूरे मामले की जांच सीबीसीआईडी को सौंप दी गई थी, जिसमें 10 लोगों को आरोपी बनाया गया था. इसमें से एक महिला की मौत हो चुकी है और बाकी 9 आरोपी जमानत पर बाहर हैं. एसपी ने कहा कि अभी प्रतिवादी की तरफ से पुलिस को ये सूचना दी गई है कि लड़की जिंदा है और उसको बरामद कर लिया गया है. इस पूरे मामले के बारे में सीबीसीआईडी को पत्राचार के माध्यम से अवगत करा दिया गया है. आगे जो भी निर्देश प्राप्त होंगे, उसी के आधार पर पुलिस कार्रवाई करेगी.

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here