मल्टी नेशनल कंपनियों की पहली पसंद है भारत, ये कंपनियां भारत में करना चाहती हैं कारोबार

0
31
.

नई दिल्ली। भारत कारोबार के लिए लोगों की पहली पसंद माना जाता है। कई मल्टीनेश्नल कंपनियां जैसे इलेक्ट्रॉनिक्स, रिटेल, ई-कॉमर्स और ऑटोमोटिव ने अपने कारोबार को भारत में स्थानांतरित करने में इंट्रेस्ट दिखाया है। वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने संसद में आज यानी की शुक्रवार को यह जानकारी दी है। राज्यसभा में एक सवाल के लिखित जवाब में उन्होंने कहा कि कंपनियों द्वारा दी गई जानकारी की संवेदनशीलता को देखते हुए परिचालन के स्थानांतरण के कारणों को स्पष्ट रूप से नहीं बताया गया है।

उन्होंने कहा, ‘कई बहुराष्ट्रीय कंपनियां जैसे इलेक्ट्रॉनिक्स, रिटेल, ई-कॉमर्स, ऑटोमोटिव, फूड प्रोसेसिंग, टेक्सटाइल्स आदि ने विभिन्न भारत के अलग-अलग राज्यों में अपना बेस स्थानांतरित करने में रुचि दिखाई है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार देश में निवेश का समर्थन करने और उसे सुविधाजनक बनाने के लिए अधिक निवेशक अनुकूल सुधारों को संस्थागत बनाने के लिए कड़ी मेहनत कर रही है। पीयूष गोयल ने कहा कि 2019-20 में अमेरिका और अन्य देशों से एफडीआई की आमदनी 74.39 अरब डॉलर थी, जबकि अप्रैल-जुलाई 2020-21 के लिए यह 16.26 अरब डॉलर थी।

ये भी पढ़ें-UP में घोटाले का मुद्दा उठाया, तो CM योगी आदित्यनाथ ने लगवा दिए देशद्रोह के आरोप, AAP सांसद की संसद में गुहार

एक दूसरे प्रश्न का जवाब देते हुए मंत्री ने कहा कि सरकारी ई-मार्केटप्लेस (GeM) पर उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार, नए दिशानिर्देशों के अनुरूप उत्पादों के लिए विभिन्न विक्रेताओं को 4 जून और 15 सितंबर के बीच 50,346 कॉन्ट्रैक्ट दिए गए। उन्होंने कहा कि विक्रेताओं के लिए यह अनिवार्य है कि वे पोर्टल पर उनके द्वारा पेश किए गए प्रत्येक उत्पाद के बारे में बताएं कि यह कहां से बना है।

खुला और पारदर्शी खरीद मंच बनाने के उद्देश्य से अगस्त 2016 में सार्वजनिक खरीद के लिए ऑनलाइन प्लेटफॉर्म GeM शुरू किया था। एक अन्य प्रश्न का जवाब देते हुए गोयल ने कहा कि सरकार उत्पादन क्षमता बढ़ाने वाली योजनाओं और चरणबद्ध विनिर्माण योजनाओं के माध्यम से घरेलू क्षमता बढ़ाने और घरेलू विनिर्माण को प्रोत्साहित करने के लिए कदम उठा रही है।

ये भी पढ़ें-लखपति बना देगा यह बिजनेस, महज 25 हजार रुपये करना होगा निवेश, लखपति कैसे बनें

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here