देवेंद्र फडणवीस का बड़ा बयान, कहा- शिवसेना के साथ चुनाव लड़ना बहुत बड़ी गलती

0
83
devendra fadnavis
.

मुंबई। राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी नेता देवेंद्र फडणवीस ने शिवसेना के खिलाफ बहुत बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि शिवसेना के साथ चुनाव लड़ना बहुत बड़ी गलती थी जिसका अब जाकर आभास हो रहा है कि साल 2019 में शिवसेना के साथ मिलकर विधानसभा चुनाव लड़ना बड़ी लगती थी। उन्होंने कहा कि अगर भाजपा अकेले चुनाव लड़ती तो 150 से ज्यादा सीटें लेकर आती और अकेले दम पर हम सरकार बनाती।

2019 में की गलती

शुक्रवार को दादर स्थित मुंबई भाजपा कार्यालय में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर सेवा सप्ताह वर्चुअल रैली का आयोजन किया गया था। भाजपा प्रदेश पदाधिकारियों को संबोधित करते हुए फडणवीस ने विधानसभा चुनाव से पहले भाऊ तोरसेकर की किताब का जिक्र किया। तोरसेकर ने किताब में लिखा है कि सन 2019 का विधानसभा चुनाव भाजपा अगर शिवसेना के साथ मिलकर लड़ती है तो दोनों मिलकर 200 से ज्यादा सीटें जीतेंगे और अगर भाजपा अकेले लड़ती है तो वह बहुमत से कहीं ज्यादा 150 सीटें जीत सकती है। उस वक्त हमने गलती की।

फडणवीस ने कहा कि हमारी बड़ी चूक हो गई कि हमने शिवसेना के साथ मिलकर चुनाव लड़ने का निर्णय लिया। यदि हम लोग शिवसेना के साथ गठबंधन नहीं करते तो भाजपा को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में 150 सीटें मिल जातीं। तोरसेकर ने मोदी के बारे में भी दो भविष्यवाणी की थीं, जो सच साबित हुईं। उन्होंने साल 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा को बहुमत मिलने और साल 2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा को 300 से ज्यादा सीटें मिलने की बात कही थी। उनकी दोनों भविष्यवाणियां सही साबित हुईं।

मोदी के आने के बाद भ्रष्टाचार कम हुआ

फडणवीस ने कहा कि सन 2014 में जब से देश में मोदी सरकार आई है, तब से देश में भ्रष्टाचार कम हुआ है। मोदी ने भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई शुरू की और न खाने और न खाने देने के रास्ते पर चलने के लिए लोगों को मजबूर कर दिया। दिल्ली में पीएम मोदी ने स्थापित भ्रष्ट व्यवस्था को चुनौती दी और उसे तोड़ दिया। उन्होंने न केवल व्यवस्था को तोड़ा, बल्कि उन्होंने एक नई प्रणाली भी बनाई।

फडणवीस ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र में सरकार आने के बाद आज की ऐसी स्थिति हो गई है कि दिल्ली मंत्रालय में भ्रष्टाचार समाप्त हो चुका है। पीएम मोदी स्वामी विवेकानंद के विचारों से प्रेरित हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का व्यक्तित्व देखें तो उनमें स्वामी विवेकानंद दिखाई पड़ते हैं। स्वामी विवेकानंद की तरह पीएम मोदी भी एक योद्धा और सन्यासी के रूप में अपना जीवन व्यतीत कर रहे हैं। फडणवीस ने कहा कि मनमोहन सिंह व्यक्ति के तौर पर अच्छे इंसान हैं, पर उनके प्रधानमंत्री के कार्यकाल में देश रसातल में चला गया था।

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here