युवक की हत्या करने के बाद आरोपी ने भाभी को फोन कर कहा….

0
69
In the house, the medical store operator rained on the bullets, died
.

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के हसनगंज में दो दोस्तों के बीच हुए विवाद में शनिवार देर रात एक युवक की गोली मारकर हत्या कर दी गई। 12 घंटे के बाद भी आरोपी पुलिस की पकड़ से दूर है। पुलिस का कहना है कि कभी भी आरोपी पकड़ा जा सकता है। गोली मारने के बाद उसका दोस्त जय सिंह भाग निकला। शुरुआती जांच में पता चला कि वह डराने के लिए तमंचा लाया था। आरोपी ने भाभी को फ़ोन कर बताया था कि गलती से गोली चल गई। मृतक आशुतोष के पिता ने बताया वह प्राइवेट जॉब करता था। वहीं घटना के बाद पूर्व मंत्री अभिषेक मिश्रा पीड़ित परिवार से देर रात मिलने पहुंचे।

एडीसीपी उत्तरी राजेश श्रीवास्तव ने बताया कि पूछताछ में पता चला है कि शाम तकरीबन 7.30 बजे आशुतोष का दोस्त राका उर्फ जय सिंह उसके पास मिलने आया था। दुकान पर दोनों बात कर रहे थे। आसपास के लोगों का कहना है कि अचानक से ही दोनों ऊंची आवाज में बात करने लगे और देखते ही देखते राका ने आशुतोष को गोली मार दी।

एडीसीपी उत्तरी के मुताबिक प्रथम दृष्टया मामला आपसी विवाद का लग रहा है। दोनों के बीच में विवाद किस बात को लेकर हुआ या आसपास के लोगों को भी जानकारी नहीं। यहां तक मृतक के पिता रमेश चंद्र को भी इस बात की जानकारी नहीं है। गोली मारने वाले और अन्य एक मौजूद युवक की तलाश की जा रही है पकड़े जाने के बाद विवाद और हत्या की असली वजह का पता चलेगी। उन्होंने बताया कि हम आरोपी की तलाश कर रहे हैं। जल्द ही मामले का खुलासा कर दिया जाएगा।

गोली चलने के बाद आरोपी ने भाभी को किया फोन
पुलिस की जांच में पता चला कि जय सिंह आशुतोष को डराने के लिए तमंचा लेकर आया था। करीब 7 दिन पहले आशुतोष और जयसिंह के बीच विवाद हुआ था। तब उस दिन जयसिंह ने शराब पी रखी थी और आशुतोष ने जय सिंह को गली का गुंडा कहा था। जय सिंह इस बात से चिढ़ गया था। जय सिंह ने उस दिन ही सोच लिया था अब आशुतोष को ठीक कर दूंगा। इसलिए शनिवार को तमंचा लेकर आया था। करीब 20 मिनट तक तमंचा सटाकर आशुतोष को डराता रहा। इसी बीच गोली चल गई।

वहीं यह भी जानकारी मिली कि गोली चलने के बाद भागे आरोपी जय सिंह ने अपनी भाभी को फोन कर बताया कि गोली गलती से चल गयी, जानबूझकर नहीं मारा। फिलहाल पुलिस इस मामले में आशुतोष त्रिवेदी के भाई की तहरीर पर हत्या का मुकदमा दर्ज किया जा रहा है।

आपराधिक छवि का है आरोपी

मृतक के पिता रमेश चन्द्र ने बताया कि, खदरा के काव्या मेडिकल स्टोर पर जय सिंह उर्फ़ राका अक्सर नए नए लड़कों को बुलाकर शराब पिलाता हैं। जय सिंह और वीरू सिंह का अक्सर इलाके में लोगों से मारपीट करता है। कुछ दिन पहले भी आशुतोष से उसका किसी बात पर झगड़ा हो गया था।

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here