यूपी- नाले में उतरे बलिया के डीएम, जलकुंभियों के बीच फंसी नाव तो सीडीओ के साथ इस तरह पूरा किया सफर..

0
45
Jackfruit drain inspected by DM Hari Pratap Shahi on Thursday
.

बलिया। (फर्स्ट आई न्यूज ब्यूरो) उत्तर प्रदेश के बलिया शहर में स्थित कटहल नाले का डीएम हरि प्रताप शाही ने गुरुवार को निरीक्षण किया। लेकिन इस दौरान उनकी नाव जलकुंभी में फंस गई। इसके बाद डीएम ने नाव को कंधे पर उठाकर आगे ले जाने का निर्णय लिया तो सीडीओ और एसडीएम को भी उनके इस फैसले में हामी भरनी पड़ी। आखिरकार सभी ने नाव को कंधे पर उठाया और 100 मीटर आगे पानी में डालकर फिर आगे बढ़े। इस घटनाक्रम का वीडियो भी सामने आया है।

जिलाधिकारी एसपी शाही व सीडीओ विपिन जैन ने कटहल नाला में जलमार्ग से भ्रमण कर सर्वें किया। बांसडीह रोड क्षेत्र के छोड़हर से लेकर जीराबस्ती, बहादुरपुर, देवकली होते हुए परमन्दापुर तक गए और कुछ दिनों पहले हुए सफाई का भी हाल देखा। सफाई की वजह से बहाव तो ठीक था, पर देवकली गांव के सामने पेड़ की डाल झुकने और उसके चलते भारी मात्रा में जलकुम्भी फंसने पर जिलाधिकारी ने सवाल किया। इसके अलावा परमन्दापुर के पास व निरालानगर से आगे भी बहाव बाधित था। इसकी वजह से निरालानगर से ही जिलाधिकारी को अपनी पूरी टीम के साथ वापस होना पड़ा। हालांकि, बताया गया कि सफाई के बाद ये जलकुम्भी फंसी है।

भ्रमण के बाद पत्रकारों से बातचीत में जिलाधिकारी ने कहा कि नगर व इसके आसपास क्षेत्र में जलजमाव की समस्या का काफी हद तक निदान कटहल नाला के माध्यम से निकल सकता है। निदान की स्थिति, अतिक्रमण तथा किस प्रकार इसकी उपयोगिता को और बढ़ाई जा सकती है, भ्रमण कर इसी का जायजा लिया गया। प्राकृतिक रूप से कटहल नाला के अस्तित्व को बचाने के उद्देश्य से भी यह सर्वे किया गया। इस नाले के किनारे गांवों की बढ़िया तरीके से कनेक्टिविटी कर वहां जलजमाव की समस्या खत्म की जा सकती है। जिलाधिकारी ने साफ किया कि कटहल नाले के अंदर से ही इसे बेहतर तरीके से समझा जा सकता था।

भ्रमण के दौरान कई जगहों पर रूकावटें व समस्या भी आई, जिसको दूर करते हुए कटहल नाले का निरीक्षण किया गया। पाया कि जलकुम्भी व झुके पेड़ बहाव में बाधक बन रहे हैं, इसकी सफाई के निर्देश दिए। इससे पहले जिलाधिकारी अपनी पूरी टीम के साथ छोड़हर पहुंचे। वहां एनडीआरएफ के जवान नाव के साथ पहले से ही तैयार थे। वहां से सीडीओ विपिन जैन, डीएफओ श्रद्धा, एसडीएम सदर राजेश यादव, डिप्टी कलेक्टर सर्वेश यादव, सिंचाई विभाग की इंजीनियर व आपदा विभाग के पियूष सिंह के साथ एनडीआरएफ की तीन नाव पर सवार हुए। जीराबस्ती, बहादुरपुर होते हुए आगे बढ़ने के दौरान रास्ते में पेड़ की डाली गिरने व झाड़-झंखाड़ जैसी कई बाधाएं आई, पर सभी को पार करते हुए देवकली तक पहुंचे। देवकली में काफी लम्बी दूरी तक जलकुम्भी लगी थी, जिसकी वजह से यह यात्रा वहीं कुछ देर के लिए बाधित हो गयी।

नाव को ​खींचकर निकाला, फिर सिर पर उठा​कर बढ़े आगे

जिलाधिकारी ने भ्रमण के दौरान देखा कि शहर के पास देवकली गांव के सामने काफी ज्यादा मात्रा में जलकुम्भी लगी होने पर बहाव भी बाधित था। भ्रमण के दौरान एकबारगी तो ऐसा लगा जैसे वहां से आगे अधिकारियों का जाना मुश्किल ही होगा। लेकिन, जिलाधिकारी ने साफ कर दिया कि जैसे भी हो, यहां से आगे भी भ्रमण जारी रहेगा। एनडीआरएफ के जवानों ने सुझाव दिया कि नाव को निकालकर फिर जलकुम्भी से आगे ले जाकर पानी में डाल आगे जाना सम्भव है। फिर क्या, जिलाधिकारी स्वयं नाव को बाहर निकालने के लिए खींचने में लग गए।

जिलाधिकारी की मेहनत देख सीडीओ विपिन जैन, एसडीएम सदर राजेश यादव व डिप्टी कलेक्टर सर्वेंश यादव भी लग गए। एनडीआरएफ जवानों के साथ सभी अधिकारी मिलकर नाव को खींचकर बाहर निकाला और फिर सिर पर उठाकर 100 मीटर तक ले गए। इसमें गांव के कुछ युवाओं ने भी काफी मेहनत की। वहां से आगे फिर पानी में नाव को डालकर आगे की यात्रा की गयी। जाते समय जिलाधिकारी ने ग्राम प्रधान भोला राय समेत गांव के दर्जन भर युवाओं को धन्यवाद ज्ञापित किया।

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here