BREAKING- तेज धमाके से दहल गया पेरिस, इमरजेंसी कॉल करने लगे लोग, फिर पुलिस ने बताई असली वजह

0
178
Paris shaken by a loud explosion breaking news in hindiParis shaken by a loud explosion breaking news in hindi
.

वर्ल्ड  डेस्क। पेरिस (Paris) में बुधवार को तब सारे लोग दहल गए, जब वहां अचानक एक तेज धमाके जैसी आवाज सुनाई दी. आवाज इतनी तेज थी कि लोग धमाके के डर से गए और तुरंत पुलिस को इमरजेंसी कॉल करने लगे. हालांकि, बाद में फ्रेंच पुलिस ने बताया कि भयंकर तेज आवाज की वजह क्या थी. पेरिस पुलिस ने एक ट्वीट में बताया कि यह आवाज सॉनिक बूम (Sonic Boom) से पैदा हुई थी क्योंकि एक फाइटर जेट वहां से आवाज की गति से भी तेज गुजरा था.

पुलिस ने ट्वीट में बताया, ‘पेरिस और आसपा के इलाकों में एक बहुत तेज आवाज सुनी गई थी. यह कोई धमाका नहीं था. एक फाइटर जेट ने साउंड की सीमा को पार किया था, जिससे सॉनिक बूम से आवाज पैदा हुई.’ पुलिस ने लोगों से घबराकर इमरजेंसी कॉल ना करने का भी आग्रह किया.

जानकारी है कि यह आवाज इतनी तेज थी कि पूरे पेरिस में सुनी गई और इसने खिड़कियों तक को हिला दिया था. पिछले हफ्ते मशहूर शार्ली हेब्दो पत्रिका के पुराने ऑफिस के पास एक हमलावर ने चाकू से हमले किए थे, इसे फ्रेंच सरकार ने ‘आतंकी घटना’ बताया था, इसके बाद से पेरिस में इसे लेकर तनाव बना हुआ है, इसलिए लोग बुधवार की घटना से और भी ज्यादा डर गए.

इस धमाके को पूरे शहर में सुना गया, लेकिन कहीं भी तबाही या नुकसान के निशान नहीं थे, जिससे सभी लोग काफी हैरान थे और सोशल मीडिया पर इसे लेकर ट्वीट कर रहे थे. वहीं, रॉलेन्ड गैरोस में फ्रेंच ओपन टेनिस टूर्नामेंट हो रहा है, जहां पर स्विट्जरलैंड के स्टार प्लेयर स्टैन वावरिंका और उनके जर्मन प्रतिद्वंद्वी डोमिनिक कीफर खेल रहे थे, इस दौरान स्टेडियम में भी यह आवाज गूंजी थी, जिसके बाद खिलाड़ी हैरान हो गए थे और मैच रुक गया था.

बता दें कि पिछले शुक्रवार को सेंट्रल पेरिस में शार्ली हेब्दो पत्रिका के पुराने ऑफिस के सामने एक शख्स ने मांस काटने वाले एक चाकू से दो लोगों पर हमला कर घायल कर दिया था. जनवरी, 2015 में पत्रिका के ऑफिस और एक यहूदी सुपरमार्केट में हुए हमलों पर पेरिस में ट्रायल चल रहा है. तीन दिन लगातार हुए हमलों में 17 लोगों की मौत हुई थी, जिसमें शार्ली हेब्दो के स्टाफ और एक महिला पुलिसकर्मी शामिल थी. इस हमले के बाद फ्रांस में इस्लामी कट्टरपंथी संगठनों की हिंसा बढ़ी है, जिसमें तबसे अबतक 258 लोगों की मौत हो चुकी है. फ्रांस आतंकी खतरों को लेकर हाई अलर्ट पर रहता है।

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here