हाईकोर्ट ने दलित युवती के साथ हुए गैंगरेप का स्वत: संज्ञान लिया, सरकार और को नोटिस जारी करके पूंछा रातोंरात कैसे किया अंतिम संस्कार

0
41
.

 

उत्तर प्रदेश के हाथरस में एक दलित युवती के साथ हुए दुष्कर्म के मामले को लेकर पूरे देश में बवाल मचा हुआ है। इस बीच इलाहाबाद हाइकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ ने इस मामले पर खुद संज्ञान लेते हुए यूपी सरकार और हाथरस के अधिकारियों को नोटिस जारी करके पूछा है कि आखिर रातोंरात पीड़ित का अंतिम संस्कार क्यों किया गया। सरकार को 12 अक्टूबर को होने वाली सुनवाई में जवाब देना है।

इलाहाबाद उच्च न्यायालय (न्यायमूर्ति राजन रॉय और न्यायमूर्ति जसप्रीत सिंह) की लखनऊ पीठ ने गुरुवार को यह आदेश जारी किया। हालांकि इससे पहले सरकार ने पूरे मामले की जांच के लिए तीन सदस्यीय एसआइटी का गठन कर दिया है जो एक सप्ताह के भीतर अपनी रिपोर्ट सीएम को सौंपेगी।

क्या है गैंगरेप का पूरा मामला

  • हाथरस जिले के चंदपा इलाके के गांव में 14 सितंबर को 4 लोगों ने 19 साल की युवती से गैंगरेप किया था। आरोपियों ने युवती की रीढ़ की हड्डी तोड़ दी और उसकी जीभ भी काट दी थी। दिल्ली में इलाज के दौरान पीड़ित की मौत हो गई। चारों आरोपी गिरफ्तार कर लिए गए हैं।
  • युवती के शव का अंतिम संस्कार मंगलवार देर रात भारी पुलिस फोर्स के बीच कर दिया गया था। हालांकि, परिवार की तरफ से आरोप लगाया गया है कि पुलिस ने जबरन उनकी बेटी का अंतिम संस्कार कर दिया। उन्हें उनका चेहरा भी नहीं दिखाया गया।

पुलिस ने कहा- दो वीडियो सामने आए, इनमें दुष्कर्म की बात नहीं कही गई

एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने हाथरस गैंगरेप केस पर कहा कि शासन और पुलिस को बदनाम किया जा रहा है। ऐसे करने वालों के बयानों की हम जांच कर रहे हैं। घटना के दिन के दो वीडियो आज सामने आए हैं। पीड़िता के साथ मारपीट की बात उसमें कही गई है।

उन्होंने कहा कि पीड़ित या उसकी मां ने दुष्कर्म की बात नहीं कही थी। पीड़ित ने एक वीडियो में अपनी जीभ भी दिखाई है जो कटी नहीं थी। 22 सितंबर को पहली बार पीड़िता ने दुष्कर्म का आरोप लगाया था। पीड़िता की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में गले की चोट और शॉक से मौत की बात कही गई है।

 

Source

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here