हाथरस केस- मीडिया पर बैन और नेताओं की नो एंट्री पर हाथरस के एडिशनल SP बोले…

0
79
Hathras case ban on media and no entry of leaders additional SP of Hathras said
.

हाथरस. उत्तर प्रदेश के हाथरस कांड (Hathras Gangrape Case) को लेकर सियासत और हंगामा जारी है. हाथरस के डीएम का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें वो पीड़िता के परिवार को धमकी देते दिख रहे है. कई विपक्षी पार्टियां मामले में उत्तर प्रदेश की सरकार और यूपी पुलिस के रवैये को लेकर सवाल उठा रही हैं. इसी बीच पीड़िता के परिवार से मिलने जा रहे तृणमूल के कुछ सांसदों को यूपी पुलिस द्वारा रोक दिया गया. पार्टी ने बताया है कि ये सांसद अलग-अलग यात्रा कर रहे थे.

>>हाथरस केस पर केंद्रीय सामाजिक न्‍याय और अधिकारिता राज्‍य मंत्री रामदास अठावले ने कहा, ‘मैं कल उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ और राज्‍यपाल आनंदीबेन पटेल से मुलाकात करके इस मामले पर चर्चा करूंगा. सभी चार आरोपियों को फांसी दी जानी चाहिए.

>>हाथरस के एडिशनल एसपी प्रकाश कुमार ने कहा, SIT की जांच तक मीडिया पर रोक है. एसआईटी जब कह देगी कि हमारी जांच पूरी हो गई है तब मीडिया को जाने दिया जाएगा. जब तक जांच चल रही है, अधिकारियों का बयान दर्ज किया जा रहा है, तब तक रोक लगाई गई है. राजनीतिक प्रतिनिधिमंडल या नेताओं को गांव का दौरा करने की इजाजत नहीं है.’>>उत्तर प्रदेश में माताओं-बहनों के सम्मान-स्वाभिमान को क्षति पहुंचाने का विचार मात्र रखने वालों का समूल नाश सुनिश्चित है. इन्हें ऐसा दंड मिलेगा जो भविष्य में उदाहरण प्रस्तुत करेगा. आपकी उत्तर प्रदेश सरकार प्रत्येक माता-बहन की सुरक्षा व विकास हेतु संकल्पबद्ध है: मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ

>>कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा को हाथरस जाने से पुलिस द्वारा रोके जाने और कथित तौर पर धक्का-मुक्की किए जाने के विरोध में पार्टी के कई कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार को भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा के आवास के निकट प्रदर्शन किया. हालांकि कुछ देर बाद ही पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया. कांग्रेस के किसान प्रकोष्ठ के उपाध्यक्ष सुरेंद्र सोलंकी की अगुवाई में पार्टी के कई कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया. सोलंकी के मुताबिक, पुलिस ने उन्हें और कांग्रेस के कई अन्य कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया, हालांकि कुछ देर बाद उन्हें छोड़ दिया गया.

>>तृणमूल सांसदों का यह समूह 200 किमी दूर दिल्ली से आया था. इनमें डेरेक ओ’ब्रायन, काकोली घोष दस्तीदार, प्रतिमा मोंडल और (पूर्व सांसद) ममता ठाकुर हैं. रोके गए सांसदों में से एक सांसद ने कहा, ‘हम शांति से हाथरस की ओर बढ़ रहे हैं पीड़ित परिवार से मिलकर अपनी सांत्वना देने जा रहे हैं. हम अलग-अलग यात्रा कर रहे हैं और सभी प्रोटोकॉल का पालन कर रहे हैं. हमने कोई हथियार नहीं लिए हैं. हमें रोका क्यों गया है?’

>>हाथरस जाने से पुलिस के रोके जाने और धक्का-मुक्की के बाद टीएमसी सांसद डेरेक ओ ब्रायन की अगुवाई में बाकी सांसद धरने पर बैठ गए हैं. इस बीच पुलिस ने गांव के बाहर पहरे को और सख्त कर दिया है. पीड़िता के गांव में विपक्ष के नेताओं समेत मीडिया के लिए भी नो एंट्री है.

>>पुलिस ने हाथरस गैंगरेप पीड़ित के गांव को पुलिस ने छावनी बना रखा है. जिले में धारा-144 लगाने के साथ ही पीड़ित के गांव में नाकेबंदी है. गांव के लोगों को भी आईडी दिखाने के बाद ही एंट्री दी जा रही है. प्रशासन के इस रवैये से लोग नाराज हैं. उनका कहना है कि हमारे ही गांव में हमसे अपराधी जैसा सलूक हो रहा है.

>>तृणमूल की नेता ममता ठाकुर ने कहा कि महिला पुलिसकर्मियों ने हमारे ब्लाउज खींचे और हमारी सांसद प्रतिमा मंडल पर लाठीचार्ज किया, वे नीचे गिर गईं. फीमेल पुलिस के होते हुए मेल पुलिस ने हमारी सांसद को छूआ. यह शर्म की बात है.

>>जानकारी के मुताबिक, पीड़िता के परिवार से मिलने की जिद पर अड़े टीएमसी सांसदों की यूपी पुलिस से कहासुनी हुई है. इस दौरान हुई धक्का-मुक्की में टीएमसी सांसद डेरेक ओ ब्रायन गिर पड़े हैं. पुलिस, टीएमसी डेलीगेशन को हाथरस से वापस भेज रही है.>> टीएमसी के सांसदों और पुलिसकर्मियों में धक्कामुक्की हुई. पुलिस ने इस दौरान सांसदों को गांव के बाहर रोक दिया. पीड़िता के गांव के बाहर कड़ा पहरा है.

>> हाथरस केस पर केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले 3 अक्टूबर को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलेंगे. इस दौरान वह मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलाने की मांग करेंगे.

>>कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि वह पीड़िता के लिए बाल्मिकि मंदिर में प्रार्थना सभा रखेंगी.

>>उधर हाथरस के चंदपा के बुलगढ़ी के बाहर हिंदू महासभा के लोगों ने हाथरस के जिला प्रशासन पर जमकर की नारेबाजी और तानाशाह रवैया का लगाया आरोप लगाया. हिंदू महासभा के कार्यकर्ताओं ने गांव के बाहर सड़क पर बैठकर प्रशासन के खिलाफ धरना देना शुरू कर दिया है. इस दौरन जमकर नारेबाजी की जा रही है.

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here