जानें 15 मार्च से बंद करतारपुर कॉरिडोर कब खुलेगा? पाकिस्तानी मीडिया ने बताया…

0
187
Know when the Kartarpur corridor will be closed from March 15
.

नई दिल्ली। पाकिस्तान के नारोवाल जिले में करतारपुर में स्थित पवित्र गुरुघर, जिसका इतिहास गुरु नानक देव जी के साथ जुड़ा है। यहां जाने के लिए बने अंतर्राष्ट्रीय गलियारे को कोरोना संकट की वजह से बंद किया हुआ है।

  • गुरु नानक देव से जुड़े ऐतिहासिक गुरुद्वारे के लिए गलियारे का भारत में 26 नवंबर 2018 को और पाकिस्तान में 28 नवंबर को शिलान्यास किया गया था
  • 9 नवंबर 2019 को गुरुनानक देव जी के प्रकाशोत्सव पर गलियारे को जनता को समर्पित कर दिया गया था, 15 मार्च से है बंद
  • महाराजा रणजीत सिंह की पुण्यतिथि पर पाकिस्तान ने गलियारा खोलने की बात की तो भारत सरकार ने कर दिया था खारिज

सीमा पार से खबर आई है कि भारत के करोड़ों सिख श्रद्धालुओं की आस्था का सम्मान देते हुए पाकिस्तान को जोड़कर बना करतारपुर कॉरिडोर जल्द ही एक बार फिर खुल सकता है। हालांकि अभी कोरोना की महामारी के थोड़ा नियंत्रण में आने का इंतजार किया जा रहा है। यह पुष्टि शनिवार को पाकिस्तानी मीडिया के हवाले से हुई है। पाक मीडिया के मुताबिक कहा जा रहा है कि एक बार जब कोविड-19 की स्थिति में थोड़ा सुधार आ जाएगा तो उसके बाद श्रद्धालुओं के लिए करतारपुर गलियारा खोल दिया जाएगा। एख बार स्थिति में सुधार आने के बाद श्रद्धालु दर्शन कर सकेंगे।

दरअसल, भारत में कोरोनावायरस के खतरे को देखते हुए 15 मार्च को करतारपुर कॉरिडोर को बंद करने का फैसला लिया गया था। पहले इसे 31 मार्च तक बंद किया गया था, लेकिन बाद में अनिश्चितकाल के लिए बंद रखने का फैसला किया गया। हालांकि 29 जून को शेर-ए-हिंदुस्तान महाराजा रणजीत सिंह की पुण्यतिथि पर पाकिस्तान की तरफ से कॉरिडोर को खोलने की बात कही गई थी। उस वक्त भारत सरकार ने इसे छलावा करार देते हुए सिरे से खारिज कर दिया था।

गुरु नानक देव से जुड़ा करतारपुर गुरुद्वारे का इतिहास

पाकिस्तान के नारोवाल जिले में रावी नदी के पास स्थित गुरुद्वारा करतारपुर साहिब का इतिहास करीब 500 साल से भी पुराना है। मान्यता है कि 1522 में सिखों के गुरु नानक देव ने इसकी स्थापना की थी। उन्होंने अपने जीवन के आखिरी साल यहीं बिताए थे। लाहौर से करतारपुर साहिब की दूरी 120 किलोमीटर है तो गुरदासपुर इलाके में भारतीय सीमा से यह लगभग 7 किलोमीटर दूर है।

दोनों देशों की सरकारों के प्रयासों से बना था कॉरिडोर

भारत और पाकिस्तान की सरकारों ने गुरदासपुर के डेरा बाबा नानक और पाकिस्तान के करतारपुर में स्थित पवित्र गुरुद्वारे को जोड़ने के लिए कॉरिडोर बनाने का फैसला लिया था। करतारपुर कॉरिडोर की नींव 2018 में रखी गई थी। भारत में 26 नवंबर को और पाकिस्तान में 28 नवंबर को शिलान्यास किया गया था। इसके बाद गुरुनानक देव जी के प्रकाशोत्सव पर 9 नवंबर 2019 को इसे जनता को समर्पित कर दिया गया था।

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here