Hathras Case: पुलिस से धक्का-मुक्की के बाद पथराव, चंद्रशेखर और SP-RLD कार्यकर्ताओं समेत 500 अज्ञात पर केस…

0
27
.

हाथरस। उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले में गैंगरेप का शिकार 19 साल की दलित युवती की मौत के मामले को लेकर सियासत जारी है। इस बीच, पुलिस ने भीम आर्मी के अध्यक्ष चंद्रशेखर रावण समेत 500 अज्ञात पर सासनी कोतवाली में केस दर्ज किया है। वहीं, चंदपा थाने में सपा और राष्ट्रीय लोकदल कार्यकर्ताओं पर केस दर्ज किया है।

रविवार को सपा, रालोद और भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर धारा 144 लागू होने के बाद भी भीड़ लेकर पीड़ित के गांव पहुंचे थे। रास्ते में रोके जाने पर बैरियर को क्षतिग्रस्त किया गया। पुलिसकर्मियों के साथ धक्का-मुक्की की गई। पथराव के दौरान सीओ सकीट (एटा) देवानंद समेत कई पुलिसकर्मी घायल हुए। पुलिस ने लाठीचार्ज कर स्थिति को संभाला था। पुलिस ने आरोपियों पर 147, 148, 323, 504, 332, 353, 427, 188 और आपराधिक कानून (संशोधन) अधिनियम 1932 के तहत केस दर्ज किया है।

अलीगढ़ से हाथरस जाते समय किया था हंगामा

भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर रावण रविवार को 400-500 समर्थकों के साथ पीड़ित परिवार से मिलने जा रहे थे। उन्हें अलीगढ़ से हाथरस के बीच सासनी कोतवाली क्षेत्र में धारा 144 का हवाला देकर रोक लिया गया था। इसके बाद कार्यकर्ताओं ने हंगामा शुरू कर दिया, इससे रोड पर लंबा जाम लग गया। इसमें एक एंबुलेंस भी फंस गई। प्रदर्शन करने से रोका गया तो धरने पर बैठ गए। बाद में जिला प्रशासन ने पांच लोगों के साथ जाने की अनुमति दी। पीड़ित परिवार से मुलाकात के दौरान रावण ने हरसंभव मदद का आश्वासन दिया। परिवार को वाई श्रेणी की सुरक्षा दिए जाने की मांग की थी। आरोप लगाया कि परिवार यहां सुरक्षित नहीं है। हम चाहते हैं कि सुप्रीम कोर्ट के एक रिटायर्ड जज की देखरेख में मामले की जांच की जाए।

रालोद के कार्यकर्ताओं ने अपने नेता जयंत चौधरी को इस तरह लाठीचार्ज के बीच बचाया था।

रालोद के कार्यकर्ताओं ने अपने नेता जयंत चौधरी को इस तरह लाठीचार्ज के बीच बचाया था।

सपा-रालोद कार्यकर्ताओं ने बदसलूकी की थी, बल प्रयोग करना पड़ा
रविवार को ही सपा का एक प्रतिनिधि मंडल पूर्व सांसद धर्मेंद्र यादव और रालोद का एक प्रतिनिधि मंडल पार्टी उपाध्यक्ष जयंत चौधरी की अगुवाई में बूलगढ़ी गांव पहुंचा था। प्रशासन ने शर्तों के साथ पीड़ित परिवार से मुलाकात करने के लिए गांव में जाने दिया। लेकिन इस दौरान दोनों पार्टियों के कार्यकर्ताओं ने पुलिस के साथ धक्का-मुक्की शुरू कर दी। बैरिकेडिंग को तोड़ते हुए सपा और रालोद कार्यकर्ता अंदर घुस गए। इसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज किया था। आरोप है कि जवाब में सपा और रालोद कार्यकर्ताओं ने पथराव शुरू कर दिया। इसमें कई पुलिसकर्मी घायल हो गए। पुलिस ने अज्ञात सपा और रालोद कार्यकर्ताओं पर केस दर्ज किया है।

सपा कार्यकर्ताओं को रोकते पुलिसकर्मी।

सपा कार्यकर्ताओं को रोकते पुलिसकर्मी।

क्या है पूरा मामला?
हाथरस जिले के चंदपा इलाके के बूलगढ़ी गांव में 14 सितंबर को 4 लोगों ने 19 साल की लड़की से गैंगरेप किया था। आरोपियों ने लड़की की रीढ़ की हड्डी तोड़ दी और उसकी जीभ भी काट दी थी। दिल्ली में इलाज के दौरान पीड़ित की मौत हो गई। चारों आरोपी गिरफ्तार कर लिए गए हैं। हालांकि, पुलिस का दावा है कि दुष्कर्म नहीं हुआ था।

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here