भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए सरौते से रेती अपनी गर्दन; खून से लथपथ अधेड़ को पहुंचाया गया अस्पताल, हालत नाजुक

0
19
.

हमीरपुर। उत्तर प्रदेश में हमीरपुर जिले के एक गांव स्थित बेतवा नदी के किनारे प्राचीन कोटेश्वर मंदिर पर एक भक्त ने अष्टमी की रात्रि को बली देने की कोशिश की। घटना की जानकारी होते ही मौके पर पहुंचे परिजनों ने एम्बुलेंस की मदद से जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। पुलिस के अनुसार अंधविश्वास के तहत तांत्रिक सिद्धि के लिए उसने ऐसा कदम उठाया था। फिलहाल उसे अस्पताल में उसकी हालत नाजुक बनी हुई है।

जानकारी के अनुसार, मामला हमीरपुर जिले के कुरारा थाना क्षेत्र के बेरी गांव के कोटेश्वर शिव मंदिर का है, जहां बेरी गांव निवासी रुक्मणी विश्वकर्मा अक्सर तांत्रिक साधना में लीन रहता था, लेकिन उसे साधना सिद्धि में सफलता नहीं मिल रही थी। इ

इसी के चलते उसने कोटेश्वर शिव मंदिर पहुंचकर सरौते से वार कर अपनी गर्दन भगवान शिव को चढ़ाने की कोशिश कर डाली। लेकिन गर्दन में वार करते ही वो खून से लथपथ हो गया और मंदिर में ही बेहोश हो गया। जिसके बाद उसे इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया, जहां उसका इलाज जारी है।

अस्पताल में हालत नाजुक, चल रहा इलाज

एसपी नरेंद्र सिंह ने बताया कि एक सनकी शख्स ने तांत्रिक सिद्धि के लिए खुद की गर्दन काटकर भगवान शिव में चढ़ाने की कोशिश की है। उसके द्वारा प्रयुक्त हथियार बरामद कर लिया गया है। फ़िलहाल तांत्रिक अपनी करनी से जिला अस्पताल में जिंदगी और मौत के बीच जूझ जरूर रहा है।

 

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here