Chhath festival 2020: नहाय-खाय से शुरू हुआ पर्व, जानें छठ पूजा की विधि…

0
135
.

धर्म डेस्क। दीपावली के बाद कार्तिक मास की शुक्लपक्ष की षष्ठी तिथि को छठ पर्व बड़े धूमधाम से मनाया जाता है। इसे भगवान सूर्य की उपासना के सबसे प्रसिद्ध हिंदू त्‍योहार के रूप में मनाया जाता है। इस वर्ष छठ पूजा 20 नवंबर यानी शुक्रवार को है। लेकिन छठ पूजा का प्रारंभ दो दिन पूर्व चतुर्थी तिथि को नहाय- खाय से होता है, जो कि आज है। पंचमी को लोहंडा और खरना होता है। वहीं ठीक एक दिन बाद षष्ठी तिथि को छठ पूजा होती है।

छठ के दिन सूर्य देव को शाम का अर्घ्य अर्पित किया जाता है। इसके बाद अगले दिन सप्तमी को सूर्योदय के समय में उगते हुए सूर्य को अर्घ्य देते हैं और फिर पारण करके व्रत को पूरा किया जाता है। फिलहाल जानते हैं नहाय-खाय के बारे में…

छठ पूजा की सामग्री 

छठ पूजन के दिन नए वस्त्र ही पहनें। दो से तीन बड़ी बांस से टोकरी, सूप, पानी वाला नारियल, गन्ना, लोटा, लाल सिंदूर, धूप, बड़ा दीपक, चावल, थाली, दूध, गिलास, अदरक और कच्ची हल्दी, केला, सेब, सिंघाड़ा, नाशपाती, मूली, आम के पत्ते, शकरकंद, सुथनी, मीठा नींबू (टाब), मिठाई, शहद, पान, सुपारी, कैराव, कपूर, कुमकुम और चंदन।

पूजा विधि 

  • – नहाय-खाए के दिन सभी व्रती सिर्फ शुद्ध आहार का सेवन करें।
  • – खरना के दिन शाम के समय गुड़ की खीर और पुड़ी बनाकर छठी माता को भोग लगाएं।
  • – सबसे पहले व्रती खीर खाएं बाद में परिवार और ब्राह्मणों को दें।
  • छठ के दिन घर में बने हुए पकवानों को बड़ी टोकरी में भरें और घाट पर जाएं।
  • – घाट पर ईख का घर बनाकर बड़ा दीपक जलाएं।
  • – व्रती घाट में स्नान करने के लिए उतरें और दोनों हाथों में डाल को लेकर भगवान सूर्य को अर्घ्य दें।
  • – सूर्यास्त के बाद घर जाकर परिवार के साथ रात को सूर्य देवता की ध्यान और जागरण करें।
  • – सप्तमी के दिन सूर्योदय से पहले ब्रह्म मुहूर्त में सारे व्रती घाट पर पहुंचे।
  • – इस दौरान वो पकवानों की टोकरियों, नारियल और फलों को साथ रखें।
  • – सभी व्रती उगते सूरज को डाल पकड़कर अर्घ्य दें।
  • – छठी की कथा सुनें और प्रसाद का वितरण करें।
  • – आखिर में व्रती प्रसाद ग्रहण कर व्रत खोलें।

इन बातों का रखें ध्यान

  • – व्रती छठ पर्व के चारों दिन नए कपड़े पहनें। महिलाएं साड़ी और पुरुष धोती पहनें।
  • – छठ पूजा के चारों दिन व्रती जमीन पर चटाई बिछाकर सोएं।
  • – व्रती और घर के सदस्य भी छठ पूजा के दौरान प्याज, लहसुन और मांस-मछली ना खाएं।
  • – पूजा के लिए बांस से बने सूप और टोकरी का इस्तेमाल करें।
  • – छठ पूजा में गुड़ और गेंहू के आटे के ठेपुआ, फलों में केला और गन्ना ध्यान से रखें।

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here