यूपी MLC चुनाव: प्रत्याशी को लेकर कांग्रेस में कलह, दो दिग्गज हुए आमने-सामने…

0
73
.

वाराणसी. बिहार से दिल्ली और दिल्ली से अब वाराणसी तक कांग्रेस (Congress) में आपसी विवाद खुलकर सामने आ रहा है. ताजा मामला एमएलसी चुनाव (MLC Election) में प्रत्याशी को लेकर सामने आया है. कांग्रेस के दो वरिष्ठ नेताओं, पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष राजेश मिश्रा और पूर्व विधायक अजय राय के बीच में तनातनी देखने को मिल रही है. नतीजा ये हुआ है कि वाराणसी खण्ड में कांग्रेस के समर्थन वाले दो प्रत्याशी (Candidates) चुनाव मैदान में उतर गए हैं. दोनों का दावा है कि पार्टी ने उन्हें समर्थन और सहमति पत्र दिया है.

वाराणसी खण्ड में एमएलसी चुनाव की हुंकार सुनाई देने लगी है. अगले महीने होने वाले मतदान के लिए लगभग सभी पार्टी के प्रत्याशियों ने अपना- अपना नामांकन कर लिया है. लेकिन कांग्रेस के प्रत्याशियों की चर्चा पूरे बनारस में है क्योंकि दो प्रत्याशी संजीव सिंह और नागेश्वर सिंह ने खुद को कांग्रेस उम्मीदवार होने का दावा पेश किया है.

संजीव सिंह को 13 मार्च 2020 को कांग्रेस जनरल कमेटी के तरफ से पत्र भी प्राप्त हुआ कि वो कांग्रेस के तरफ से एमएलसी के उम्मीदवार हैं. लेकिन नामांकन के समय तस्वीर कुछ और सामने आ गयी. हालांकि संजीव सिंह का कहना है कि ये अपवाद है. वहीं वरिष्ठ नेता राजेश मिश्रा का भी दावा है कि संजीव सिंह ही कांग्रेस के उम्मीदवार हैं. जिला कांग्रेस कमिटी की तरफ से की जा रही बातों का कोई आधार नहीं है. चुनाव बाद उनपर कार्रवाई की जाएगी. संजीव सिंह को सोनिया गांधी द्वारा पत्र प्राप्त है.

वहीं जिला कांग्रेस कमिटी नागेश्वर सिंह को उम्मीदवार बता रही है. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व पूर्व विधायक अजय राय का कहना है कि संजीव सिंह को सहमति पत्र प्राप्त नहीं है और न ही नागेश्वर सिंह को. लेकिन जिला कमिटी नागेश्वर सिंह का समर्थन कर रही है. उन्हें ही एमएलसी चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी मान रही है.दो वरिष्ठ नेताओं के बीच इस वर्चस्व की लड़ाई में प्रदेश कमिटी भी चुप्पी साधी हुई है. जिसके कारण प्रत्याशियों को लेकर ये दो बड़े नेताओं के बीच ये तनातनी बनारस में चर्चा का विषय बनी हुई है, तो वहीं कांग्रेस के आपसी कलह को भी जगजाहिर कर रही है.

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here