6 साल बाद भी नहीं खुला भारतीय-फिजी नर्स मोनिका की मौत का रहस्य, मदद करने वाले को मिलेंगे 5 लाख डॉलर 

0
208
.

वर्ल्ड डेस्क। ऑस्ट्रेलियाई जांचकर्ता भारतीय-फिजी महिला मोनिका चेट्टी की 2014 में हुई रहस्यमयी मौत के मामले को अब तक नहीं सुलझा पाए हैं.जांचकर्ताओं को अब भी किसी बड़े सुराग का इंतजार हैं. एक वरिष्ठ अधिकारी ने शुक्रवार को यह बात कही.

न्यू साऊथ वेल्स की सरकार ने हाल ही में इस मामले को सुलझाने के लिए जानकारी देने वाले को भारी भरकम 5 लाख डॉलर का इनाम देने की घोषणा की थी. इसके बाद भी मोनिका चेट्टी की मौत के मामले अब तक कोई जानकारी नहीं मिल सकी है.

मोनिका चेट्टी जनवरी 2014 में वेस्ट ऑफ सिडनी से करीब 40 किलोमीटर दूर वेस्ट हाक्सटन के बुशलैंड में जिंदा पाई गई थीं. इससे कुछ 5 से 10 दिन बाद उन्हें एसिड से जला दिया गया था. करीब एक महीने बाद उनकी अस्पताल में मौत हो गई थी.

न्यू साउथ वेल्स पुलिस के प्रवक्ता ने आज कहा कि जांच चल रही है और इस मामले में अब तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है. प्रवक्ता ने पुष्टि की है कि नर्स के मौत के मामले में अगले एक- दो हफ्ते में कानूनी जांच शूरू हो रही है.

इस मामले में जानकारी देने वाले को 5 लाख ऑस्ट्रेलियाई डॉलर का इनाम देने की घोषणा करते हुए इस महीने की शुरुआत में पुलिस एवं आपातकालीन सेवाओं के मंत्री डेविड एलियॉट ने कहा था कि मोनिका चेट्टी की मौत में इनाम की घोषणा एक महत्वपूर्ण ऐलान है, जिससे जांचकर्ताओं को सूचना मिलने की उम्मीद है.

उन्होंने कहा कि मोनिका चेट्टी की संदिग्ध मौत को 6 साल से ज्यादा समय हो गया है. इस घटना में पूरे समुदाय को हिला कर रख दिया और हम सभी इस बात को जानना चाहते हैं कि यह अपराध कैसे हुआ.

Source link

Authors

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here